BREAKING NEWS

चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾कपिल सिब्बल बोले- कॉरपोरेट के लिए दिवाली लाई सरकार, गरीबों को उनके हाल पर छोड़ा◾मध्यप्रदेश सरकार ने शराब, पेट्रोल और डीजल पर बढ़ाया 5 फीसदी वैट◾Howdy Modi: 7 दिनों के अमेरिका दौरे पर रवाना हुए पीएम मोदी, ये रहेगा कार्यक्रम◾शरद पवार बोले- केवल पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में बदल सकती है लोगों का मूड◾नीतीश पर तेजस्वी का पलटवार, कहा- जब एबीसीडी नहीं आती, तो मुझे उपमुख्यमंत्री क्यों बनाया था?◾महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए आज होगी तारीखों की घोषणा, 12 बजे EC की प्रेस कॉन्फ्रेंस◾विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

कारगिल विजेताओं को नौकरी से निकालना उनकी वीरता का अपमान : तिवारी

नई दिल्ली : दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों की सुरक्षा में लगे कारगिल युद्ध के विजेताओं को नौकरी से निकालने का आदेश जारी कर न सिर्फ विजेताओं की वीरता का अपमान किया है, बल्कि दिल्ली के अस्पतालों की सुरक्षा पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। 

उन्होंने कहा कि इस अपमान के बारे में वह अरविंद केजरीवाल से बात करेंगे और भूतपूर्व सैनिकों को पुनः उनकी नौकरियों पर तैनात करने की माग करेंगे। कर्नल (सेवानिवृत्त) राजेश के नेतृत्व में कारगिल युद्ध में लड़ने वाले जवानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी से मिलकर उनके ऊपर दिल्ली सरकार द्वारा किए जा रहे अत्याचार की व्यथा सुनाई। मनोज तिवारी ने कहा कि यह फैसला ऐसे समय में आया है कि जब पूरे देश में अस्पतालों की सुरक्षा को लेकर कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं और डॉक्टरों पर निरंतर हो रहे हमलों के बाद अस्पतालों की सुरक्षा को और मजबूत करने पर विचार हो रहा है। 

पूर्व सैनिकों को अस्पतालों में तैनात करने की बात चल रही है, इस फैसले से यह जाहिर होता है कि दिल्ली की सरकार अस्पतालों और डॉक्टरों की सुरक्षा के प्रति कितनी गंभीर है, जो प्रशिक्षित और परिपक्व सुरक्षा व्यवस्था को हटाकर अन्य विकल्पों पर विचार कर रही है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मैं हैरान हूं कि इस जब पूरा देश कारगिल विजय दिवस पर सेना के उन शूरवीरों पर गर्व महसूस कर रहा है जिन्होंने अपने पराक्रम से न सिर्फ पाकिस्तान को मुंह तोड़ जवाब दिया, बल्कि दुश्मन देश द्वारा कब्जाई गई जमीन को अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान देकर खाली कराया। ऐसे विजेताओं को केजरीवाल सरकार ने चौकीदारी के काबिल भी नहीं समझा। 

यह पूर्व सैनिकों का अपमान है और सेना के मनोबल तोड़ने की एक गंदी हरकत है। एक ओर केजरीवाल सत्ता के स्वार्थ के लिए सरकारी खजाने को लुटा ने को तैयार हैं तो दूसरी ओर दिल्ली के अस्पतालों की सुरक्षा को दांव पर लगाने के लिए ऐसी हरकत कर रहे हैं। गौरतलब है की काफी संख्या में ऐसे पूर्व सैनिकों ने मनोज तिवारी से मिलकर और अपना दर्द बयां किया। उन्होंने तब बताया था कि अपनी मांगों को लेकर जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिलने का प्रयास किया तो उनकी फरियाद सुनना तो दूर बल्कि मुख्यमंत्री से मिलने भी नहीं दिया गया।