BREAKING NEWS

राफेल मामले में केंद्र सरकार को मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पुनर्विचार याचिका◾पेट्रोल के दाम में एक बार फिर हुआ इजाफा, डीजल के भाव स्थिर ◾दिल्ली में हवा फिर हुई जहरीली, लोधी रोड इलाके में 500 के पार पहुंचा AQI◾देश के प्रथम PM पंडित जवाहरलाल नेहरू की 130वीं जयंती, सोनिया सहित कांग्रेस के बड़े नेताओं ने दी श्रद्धांजलि◾सुप्रीम कोर्ट आज सबरीमाला-राफेल और राहुल गांधी के बयान पर सुनाएगा फैसला ◾PM मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से की भेंट ◾ भाजपा के शीर्ष नेताओं ने दिल्ली इकाई के नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा की ◾पुतिन ने मोदी को मई में विजय दिवस समारोह के लिए किया आमंत्रित ◾नगा मुद्दा : मणिपुर के कांग्रेस विधायक सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री से मिलने पहुंचे दिल्ली◾महाराष्ट्र : कांग्रेस, राकांपा ने सीएमपी पर बनाई कमेटी, भाजपा भी नाउम्मीद नहीं ◾अमित शाह ने विपक्ष पर ‘‘कोरी राजनीति’’ करने का लगाया आरोप, कहा- किसी दल के पास बहुमत हो तो कर सकता है दावा ◾अयोध्या पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को मुख्यमंत्री योगी ने बताया स्वर्णाक्षरों में लिखे जाने वाला ◾पेट में दर्द की शिकायत के बाद मुलायम पीजीआई में भर्ती ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना और कांग्रेस-NCP के बीच बातचीत जारी◾SC के पैनल ने दिल्ली-NCR में 15 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का दिया आदेश◾प्रधानमंत्री मोदी को ब्रिक्स सम्मेलन से आर्थिक, सांस्कृतिक संबंध मजबूत होने की उम्मीद ◾TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

मैंने एक मित्र और मार्गदर्शक को खो दिया : विजय गोयल

नई दिल्ली : राज्य सभा सांसद विजय गोयल ने पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली और उनका 48 वर्षों का संबंध था। 1971 में पहली बार वे श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में मिले थे। जेटली उनके सीनियर थे। कॉलेज की यूनियन में वे अध्यक्ष और गोयल संयुक्त सचिव रहा था। दोनों नेताओं का साथ विद्यार्थी परिषद में छात्र राजनीति से शुरू होकर हमेशा बना रहा। 

गोयल ने कहा कि कॉलेज के दिनों में हम लोग दूसरे कॉलेजो में डिबेट के लिए जाते थे। छात्र संघ के आंदोलनों और जय प्रकाश नारायण के आंदोलनों में भी एक साथ हमने भाग लिया। जिस समय जनता पार्टी बनी तब जेटली को कार्यकारणी में रखा गया था, लेकिन विद्यार्थी परषिद के दबाव में उन्होंने त्याग पत्र दे दिया था। जेटली खाने-पीने के शौकीन थे और उन्हें परांठे बहुत पसंद थे। वे चांदनी चौक में जब भी हमारी हवेली आते थे तो परांठे की ही मांग करते थे। 

इमरजेंसी में सबसे पहला जुलूस हमने अरुण जेटली की लीडरशिप में ही निकाला था। उसमें वे बाद में गिरफ्तार होकर जेल चले गए और पूरे 19 महीने जेल में रहे। मैं और रजत शर्मा बाद में सत्याग्रह कर जेल गए। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली एक अच्छे अंग्रेजी और हिंदी के वक्ता थे। देश के प्रसिद्ध वकीलों में वे शुमार थे।

तिवारी ने जताया शोक

दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि मैं इस दुखद समाचार से स्तब्ध हूं। यह देश के लिए अपूरणीय क्षति है क्योंकि देश ने एक महान अर्थशास्त्री, अधिवक्ता, प्रखर वक्ता खो दिया है। जेटली का दिल्ली के लोगों से बेहद स्नेह था और वह समय-समय पर दिल्ली भाजपा को अपना मार्गदर्शन देते रहते थे। 

उन्होंने कहा कि राजनीति में उनके निधन से खाली हुए स्थान को भर पाना मुश्किल है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें एवं परिवार को इस मुश्किल घड़ी को सहन करने की शक्ति दे। देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल पाएगा।

जेटली ने सदैव जनता की आवाज का प्रतिनिधित्व कियाः गुप्ता

दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने अरुण जेटली के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि उनका निधन न केवल देश के लिए अपितु उनके लिए एक बहुत बड़ी निजी क्षति है। वे मेरे मार्गदर्शक थे। चाहे वे विपक्ष में रहे हों या सरकार में, उन्होंने सदैव जनता की आवाज का प्रतिनिधित्व किया और सुनिश्चित किया कि उनकी भावनाओं को सरकार में तवज्जो मिले। उनके जीवन का हर पल राष्ट्र को समर्पित रहा। स्वर्गीय अरुण जेटली को भारत को विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने के लिए उनके महान योगदान को सदैव याद किया जाएगा। 

वित्त मंत्री के रूप में जेटली के कार्यकाल में सबसे बड़े संरचनात्मक सुधारों में से एक जीएसटी को लागू किया गया। वे हमेशा छोटे व्यापारियों और व्यवसायियों की चिंताओं के प्रति सजग थे। जेटली सकारात्मकता का वह प्रकाशपुंज थे जिनके पास हर समस्या का हल था। उनकी मृत्यु से जो रिक्तता हुई है उसे पाटना अति कठिन है। 

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के पहले कार्यकाल में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल के प्रमुख सदस्य के रूप में जेतली ने वित्त एवं रक्षा मंत्रालय के भार को बखूबी संभाला तथा अक्सर सरकार के लिए मुख्य संकट मोचक के रूप में कार्य किया।