BREAKING NEWS

Howdy Modi: 7 दिनों के अमेरिका दौरे पर रवाना हुए पीएम मोदी, ये रहेगा कार्यक्रम◾शरद पवार बोले- केवल पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में बदल सकती है लोगों का मूड◾नीतीश पर तेजस्वी का पलटवार, कहा- जब एबीसीडी नहीं आती, तो मुझे उपमुख्यमंत्री क्यों बनाया था?◾महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए आज होगी तारीखों की घोषणा, 12 बजे EC की प्रेस कॉन्फ्रेंस◾विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

मैंने एक मित्र और मार्गदर्शक को खो दिया : विजय गोयल

नई दिल्ली : राज्य सभा सांसद विजय गोयल ने पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली और उनका 48 वर्षों का संबंध था। 1971 में पहली बार वे श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में मिले थे। जेटली उनके सीनियर थे। कॉलेज की यूनियन में वे अध्यक्ष और गोयल संयुक्त सचिव रहा था। दोनों नेताओं का साथ विद्यार्थी परिषद में छात्र राजनीति से शुरू होकर हमेशा बना रहा। 

गोयल ने कहा कि कॉलेज के दिनों में हम लोग दूसरे कॉलेजो में डिबेट के लिए जाते थे। छात्र संघ के आंदोलनों और जय प्रकाश नारायण के आंदोलनों में भी एक साथ हमने भाग लिया। जिस समय जनता पार्टी बनी तब जेटली को कार्यकारणी में रखा गया था, लेकिन विद्यार्थी परषिद के दबाव में उन्होंने त्याग पत्र दे दिया था। जेटली खाने-पीने के शौकीन थे और उन्हें परांठे बहुत पसंद थे। वे चांदनी चौक में जब भी हमारी हवेली आते थे तो परांठे की ही मांग करते थे। 

इमरजेंसी में सबसे पहला जुलूस हमने अरुण जेटली की लीडरशिप में ही निकाला था। उसमें वे बाद में गिरफ्तार होकर जेल चले गए और पूरे 19 महीने जेल में रहे। मैं और रजत शर्मा बाद में सत्याग्रह कर जेल गए। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली एक अच्छे अंग्रेजी और हिंदी के वक्ता थे। देश के प्रसिद्ध वकीलों में वे शुमार थे।

तिवारी ने जताया शोक

दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि मैं इस दुखद समाचार से स्तब्ध हूं। यह देश के लिए अपूरणीय क्षति है क्योंकि देश ने एक महान अर्थशास्त्री, अधिवक्ता, प्रखर वक्ता खो दिया है। जेटली का दिल्ली के लोगों से बेहद स्नेह था और वह समय-समय पर दिल्ली भाजपा को अपना मार्गदर्शन देते रहते थे। 

उन्होंने कहा कि राजनीति में उनके निधन से खाली हुए स्थान को भर पाना मुश्किल है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें एवं परिवार को इस मुश्किल घड़ी को सहन करने की शक्ति दे। देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल पाएगा।

जेटली ने सदैव जनता की आवाज का प्रतिनिधित्व कियाः गुप्ता

दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने अरुण जेटली के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि उनका निधन न केवल देश के लिए अपितु उनके लिए एक बहुत बड़ी निजी क्षति है। वे मेरे मार्गदर्शक थे। चाहे वे विपक्ष में रहे हों या सरकार में, उन्होंने सदैव जनता की आवाज का प्रतिनिधित्व किया और सुनिश्चित किया कि उनकी भावनाओं को सरकार में तवज्जो मिले। उनके जीवन का हर पल राष्ट्र को समर्पित रहा। स्वर्गीय अरुण जेटली को भारत को विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने के लिए उनके महान योगदान को सदैव याद किया जाएगा। 

वित्त मंत्री के रूप में जेटली के कार्यकाल में सबसे बड़े संरचनात्मक सुधारों में से एक जीएसटी को लागू किया गया। वे हमेशा छोटे व्यापारियों और व्यवसायियों की चिंताओं के प्रति सजग थे। जेटली सकारात्मकता का वह प्रकाशपुंज थे जिनके पास हर समस्या का हल था। उनकी मृत्यु से जो रिक्तता हुई है उसे पाटना अति कठिन है। 

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के पहले कार्यकाल में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल के प्रमुख सदस्य के रूप में जेतली ने वित्त एवं रक्षा मंत्रालय के भार को बखूबी संभाला तथा अक्सर सरकार के लिए मुख्य संकट मोचक के रूप में कार्य किया।