BREAKING NEWS

दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾शपथ लेते ही BJP पर बरसे नीतीश, कहा-2014 में जीतने वालों को 2024 की करनी चाहिए चिंता ◾

दिल्ली-एनसीआर में नवंबर-दिसंबर में घर के अंदर की हवा बाहर से ज्यादा सुरक्षित, Study में हुआ खुलासा

एक महीने के लंबे प्रयोग के बाद शुरुआती आंकड़ों से पता चला है कि नवंबर-दिसंबर के दौरान दिल्ली-एनसीआर में बाहर (आउटडोर) के मुकाबले घरों के अंदर (इनडोर) हवा की गुणवत्ता कहीं बेहतर रही है।हाल ही में की गई स्टडी में पाया गया है कि दिल्ली-एनसीआर में इनडोर वायु प्रदूषण का स्तर बाहरी स्तर से लगभग आधा है।अध्ययन से पता चला है कि विशेष रूप से दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में एक प्राथमिक कारण को देखा जाए तो वायु प्रदूषण के स्तर में मौसम संबंधी कारक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।दिल्ली-एनसीआर में पिछले एक महीने के आंकड़े बताते हैं कि बाहर के मुकाबले घरों के अंदर हवा की गुणवत्ता काफी बेहतर रही है। इस नए अध्ययन में आउटडोर के मुकाबले इनडोर प्रदूषण आधे से कम स्तर पर पाया गया है।

यह अध्ययन दिल्ली विश्वविद्यालय के राजधानी कॉलेज के प्रो. एस. के. ढाका, राजधानी कॉलेज से संबंध रखने वाले और अर्थ रूट फाउंडेशन से डॉ. विवेक पंवार, रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमेनिटी एंड नेचर (आरआईएचएच), क्योटो, जापान के प्रोफेसर एस. हयाशिदा और वाई मात्सुमी ने संयुक्त रूप से किया।इस दौरान 15 नवंबर से 15 दिसंबर 2021 के बीच प्रदूषण के आंकड़े जुटाए गए। ये आंकड़े घरों के भीतर और बाहर से लिए गए।

दिल्ली के द्वारका में स्थापित दो सेंसर-आधारित वायु गुणवत्ता मॉनिटर और डेटा लॉगर ने इसका खुलासा किया है। इस अध्ययन के लिए दो सेंसर आधारित वायु गुणवत्ता मॉनिटर और डेटा लॉगर को एक इमारत की पहली मंजिल पर लगाया गया। इस दौरान सुबह और शाम के समय हवा की गुणवत्ता की जांच की गई। जांच में इनडोर प्रदूषण का स्तर काफी कम पाया गया। द्वारका स्थित सेक्टर 4 में इनडोर और आउटडोर के प्रदूषण स्तर को नापने के लिए पीएम 2.5 का स्तर मापा गया। सेंसर से मिले आंकड़ों के आधार पर अनुमान लगाया गया।

शोधकर्ताओं ने मंगलवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि सेंसर एक अर्ध-हवादार घर में लगाए गए थे, जिसमें कोई एयर प्यूरीफायर नहीं था।महीने भर के अवलोकन से पता चला है कि दिल्ली-एनसीआर में अत्यधिक प्रदूषित अवधि के दौरान, अधिकांश दिनों में घर के अंदर की हवा बाहर की तुलना में अधिक सुरक्षित है। इनडोर पीएम 2.5 का स्तर दिन और रात में कम रहा और यह बाहरी स्तर की तुलना में लगभग आधा दर्ज किया गया।महीने भर की जांच करने के बाद पता चला कि घरों मे अंदर बाहर के मुकाबले प्रदूषण स्तर काफी बेहतर है। अध्ययन में पता चला कि बाहरी क्षेत्रों में पीएम 2.5 का स्तर व्यस्त समय में 500 से 600 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तक छू गया, जो खतरनाक श्रेणी में आता है। वहीं घरों के अंदर यह 10 से 60 प्रतिशत तक कम रहा। यह स्थिति रात और दिन दोनों ही समय देखने को मिली।

इस बारे में बात करते हुए प्रो. एस. के. ढाका ने कहा यह स्मार्ट सेंसर द्वारा देखे गए पीएम 2.5 की एक अनूठी विशेषता है।यह दर्शाता है कि वायु प्रदूषण के स्तर में मौसम संबंधी कारक कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।विज्ञप्ति में कहा गया है कि वायु प्रदूषण में चरम या निम्न तब देखा जाता है, जब हवा की गति, हवा की दिशा, तापमान या आद्र्रता जैसे मौसम संबंधी पैरामीटर अनुकूल या प्रतिकूल होते हैं।

सपा को मिल रहे जनसमर्थन से घबराई भाजपा, मुकाबले के लिए छह रथ उतारे मैदान में : अखिलेश यादव