BREAKING NEWS

MSME और बैंकों की स्थिति को लेकर राहुल ने BJP पर साधा निशाना, कहा- पहले ही दी थी चेतावनी◾कानपुर एनकाउंटर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर इनाम राशि को बढ़ाकर किया गया 5 लाख रुपए◾राजीव गांधी फाउंडेशन समेत तीन ट्रस्ट की फंडिंग की जांच के लिए MHA ने बनाई कमेटी◾विकास दुबे के खिलाफ पुलिस का एक्शन सख्त, 25 हजार का इनामी बदमाश श्यामू बाजपेयी गिरफ्तार ◾चीनी सैनिकों की वापसी का सिलसिला जारी, लद्दाख में 3 प्वाइंट्स पर पीछे हटी चीन◾देश में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े सात लाख के करीब, 20 हजार 500 से अधिक लोगों की मौत ◾World Corona : दुनियाभर में लगभग साढ़े पांच लाख लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 17 लाख के पार ◾कानपुर एनकाउंटर : गैंगस्टर विकास दुबे का करीबी अमर दुबे मुठभेड़ में मारा गया◾आर्थिक कुप्रबंधन लाखों लोगों को कर देगा तबाह, अब यह त्रासदी स्वीकार नहीं : राहुल गांधी◾योगी सरकार का बड़ा फैसला : डीआईजी एसटीएफ अनंत देव का हुआ ट्रांसफर◾ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो पाए गए कोरोना पॉजिटिव◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 224 लोगों की मौत, 5134 नये मामले ◾दिल्ली में कोरोना का कोहराम जारी, बीते 24 घंटे में 2008 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1,02,831 तक पहुंचा◾पश्चिम बंगाल: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते कोलकाता में फिर से लग सकता है लॉकडाउन ◾CBSE का बड़ा ऐलान, अगले साल 9वीं से 12वीं क्लास के सिलेबस में 30 फीसदी की होगी कटौती, बोर्ड ने ट्वीट कर दी जानकारी◾भारत में कोरोना टेस्टिंग का आंकड़ा पहुंचा 1 करोड़ के पार, मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾भारत-चीन बॉर्डर पर IAF ने दिखाया अपना दम, चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत-यूके की साझेदारी बनेगी मिसाल : रुचि घनश्याम

भारतीय विदेश सेवा की अधिकारी रुचि घनश्याम वर्तमान में यूनाइटेड किंगडम में भारतीय उच्चायुक्त हैं। दोनों देशों के बीच राजनीतिक और अनेक विषयों को लेकर वे काफी उत्साहित हैं। उनका मानना है कि भविष्य में दोनों देश एक-दूसरे के साथ साझेदारी से कई क्षेत्रों में मिसाल बन सकते हैं। यूनाइटेड किंगडम के दौरे पर गए पंजाब केसरी के मेट्रो एडिटर सतेन्द्र त्रिपाठी ने रुचि घनश्याम से लंदन में विशेष बातचीत की। पेश है बातचीत के प्रमुख अंश :

भारत और यूनाइटेड किंगडम के आपसी संबंधों को लेकर आपकी क्या राय है?

भारत और यूके बीच अच्छे रिश्ते हैं और दोनों देशों की गहरी मित्रता है। हमारी कई विषयों पर साझेदारी है और मिलकर दोनों देश काम कर रहे हैं। केवल राजनीतिक संबंध ही बेहतर नहीं हैं, बल्कि अलग-अलग दिशाओं में हमारा काम चल रहा है। तकनीक, कारोबार, रिसर्च, विश्वविद्यालय, शिक्षा हर प्रकार के क्षेत्र में अच्छा काम हो रहा है। यहां योग और आयुर्वेद में भी लोगों की दिलचस्पी शुरू हुई है। इस पर एक काम शुरू हुआ है, गत वर्ष अप्रैल माह में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की यूनाइटेड किंगडम की यात्रा के दौरान इसका शुभारंभ किया गया था।

भारत से छात्र-छात्राएं यूनाइटेड किंगडम आते हैं, आप उन्हें क्या संदेश देना चाहेंगी?

मैं सबसे जरूरी पहले यह बात कहना चाहूंगी कि भारतीय उच्चायोग हमेशा उनके लिए मौजूद है। उनकी कोई भी समस्या है तो वे तुरंत हमसे संपर्क कर सकते हैं। यहां पब्लिक रेस्पांस यूनिट के नाम से स्पेशल यूनिट बनाई गई है। इसके फोन नंबर दिए गए हैं और इमरजेंसी की सूरत में कभी भी किसी भी समय संपर्क किया जा सकता है। हम उनकी मदद करने की हर संभव कोशिश करते हैं।

21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को लेकर क्या कहना चाहेंगी?

मैं बस यही कहना चाहूंगी कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस वैश्विक स्तर पर विशेष स्थान प्राप्त कर चुका है। यूनाइटेड किंगडम में भी इसकी अमिट छाप देखने को मिलती है और सभी अनुशासन से एकसूत्र में बंधे दिखते हैं। योग का पूरे विश्व में प्रचार-प्रसार होना भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने की दिशा में सार्थक कदम है।

यूनाइटेड किंगडम से आखिर हमें क्या सीखना चाहिए?

हम यहां से बहुत कुछ सीख सकते हैं क्योंकि जिस तरह की यहां रिसर्च हो रही है। बिजनेस इंडस्ट्री सोसायटी किस तरह से ट्रांसफोर्म हो सकती है। ये भारत के लिए तो बहुत ही जरूरी है। क्योंकि इस समय दुनिया बड़ी तेजी से बदल रही है। आज हमें लग रहा है कि कोई चीज महत्वपूर्ण है, लेकिन मालूम होगा कि देखते ही देखते वह चीज ही पूरी तरह से बदल जाएगी। 

दरअसल, तकनीक बहुत महत्वपूर्ण है और यूनाइटेड किंगडम से भारत को तकनीक में बहुत कुछ हासिल हो सकता है। दोनों देशों को तकनीक के मामले में एक-दूसरे के साथ काम करने का मौका मिल सकता है। इसके अलावा अनेक ऐसे क्षेत्र हैं, जहां दोनों की साझेदारी हो सकती और एक-दूसरे से सीखा जा सकता है। मुझे ऐसा लगता है कि तकनीक के मामले में हम एक-दूसरे से काफी कुछ आदान-प्रदान कर सकते हैं।