BREAKING NEWS

विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

जेटली ने ड्राइवर-कुक के बच्चों को भी पढ़ाया

नई दिल्ली : बीजेपी नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली न केवल पार्टी में बल्कि विपक्ष में भी अच्छी पकड़ रखते थे। अरुण जेटली अपने साथ काम करने वाले कर्मचारियों को वैसा ही सम्मान देते थे जैसा वह किसी वरिष्ठ नेता या फिर परिवार के किसी सदस्य को दिया करते थे। अपने घर पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों को परिवार का हिस्सा मानते थे। यही कारण है कि उनके साथ जुड़ा हर एक शख्स उनसे काफी प्यार किया करता था। 

सच तो यह है कि अरुण जेटली के घर पर काम करने वाले कर्मचारियों के बच्चे उसी स्कूल में पढ़ा करते थे जहां पर खुद जेटली के बच्चों ने पढ़ाई की थी। ये स्कूल चाणक्यपुरी स्थित कार्मल कॉन्वेंट स्कूल है। यही नहीं अगर किसी कर्मचारी का बच्चा विदेश में पढ़ाई करने का इच्छुक होता था तो उसे विदेश में उसी यूनिवर्सिटी में पढ़ने भेजा जाता था, जहां खुद उनके बच्चों ने पढ़ाई की थी। इन सभी कर्मचारियों के बच्चों की पढ़ाई की जिम्मेदारी जेटली ही उठाया करते थे। 

बताया जाता है कि जेटली के परिवार के लिए खाने-पीने की व्यवस्था करने वाले जोगेंद्र की दो बेटियों में से एक लंदन में पढ़ रही हैं। संसद में जेटली के साथ हर समय साए की तरह रहने वाले सहयोगी गोपाल भंडारी का एक बेटा डॉक्टर है जबकि दूसरा इंजीनियर है। जिन कर्मचारियों के बच्चे एमबीए या कोई प्रोफेशनल कोर्स करना चाहते थे, उनके लिए अरुण जेटली फीस से लेकर नौकरी तक की व्यवस्था करते थे।

सहायक के बेटे को गिफ्ट में दे दी थी कार

अरुण जेटली आर्थिक तंगी में भी पढ़ने वाले बच्चों से बेहद प्रभावित होते थे। जब कभी भी वह किसी ऐसे प्रतिभावान बच्चे को देखते तो उसकी हर मुमकिन मदद करने की कोशिश में जुट जाते थे। साल 2005 में उन्होंने अपने सहायक रहे ओपी शर्मा के बेटे चेतन को लॉ की पढ़ाई के दौरान अपनी 6666 नंबर की एसेंट कार गिफ्ट कर दी थी।