BREAKING NEWS

कोविड-19 का प्रकोप : दुनियाभर में कोरोना के मामले 11 लाख के पार, 59 हजार से अधिक लोगों की मौत ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3,072 तक पहुंची, अब तक 75 लोगों की मौत ◾दिल्ली में 445 लोग COVID-19 से संक्रमित, और बढ़ सकते हैं मामलें : CM केजरीवाल◾तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच को भेजा जवाब, कहा- अभी सेल्फ क्वारनटीन में हूं, बाकी सवाल बाद में◾स्वास्थ्य मंत्रालय का बयान : देश के कुल कोरोना संक्रमित मामलों में 30 फीसदी तबलीगी जमात के लोग◾राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾कोविड-19 पर सरकार ने जारी किया परामर्श, चेहरे और मुंह के बचाव के लिए घर में बने सुरक्षा कवर का करे प्रयोग◾जानिये क्यों, पीएम की 9 मिनट लाइट बंद करने की अपील के बाद अलर्ट मोड पर है बिजली विभाग की कंपनियां◾तबलीगी जमातियों पर भड़के राज ठाकरे,कहा- ऐसे लोगों को गोली मार देनी चाहिए ◾PM मोदी ने अटल बिहारी बाजपेयी की कविता को शेयर करते हुए कहा- आओ दीया जलाएं◾देश में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, गौतम बुद्ध नगर में वायरस के 5 नए मामले आए सामने ◾PM मोदी की दीया अपील पर महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री ने दी प्रतिक्रिया, कहा- दोबारा सोचने की है जरुरत ◾बिजनौर के आइसोलेशन वार्ड में रखे गए जमातियों ने किया हंगामा, अंडे और बिरयानी की फरमाइश की◾दिल्ली : कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए गंगाराम अस्पताल के 108 स्वास्थ्यकर्मियों को किया गया क्वारनटीन◾प्रियंका ने किया योगी सरकार पर वार, कहा- स्वास्थ्यकर्मियों को सबसे ज्यादा सहयोग की है जरूरत◾देश में 2900 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित, अब तक 68 की मौत◾कोविड-19 : अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 1,480 लोगों की मौत, इराक में 820 पॉजिटिव मामलों की पुष्टि◾राजस्थान : कोरोना संक्रमित 60 वर्षीय महिला की मौत, संक्रमण के 191 मामलों की पुष्टि◾जम्मू-कश्मीर में सेना के जवानों ने मुठभेड़ में 2 आतंकवादियों को मार गिराया, ऑपरेशन जारी◾कर्नाटक में कोरोना वायरस से 75 वर्षीय बुजुर्ग की मौत, राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 4 हुई ◾

जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार शरजील इमाम को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ 15 दिसंबर को न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हिंसक प्रदर्शनों से संबंधित एक अलग मामले में सोमवार को दिल्ली पुलिस की एक दिन की हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने बताया कि इस हिंसा मामले में एक अन्य आरोपी फुरकान ने अपने बयान में आरोप लगाया है कि उसे इमाम के भाषणों ने उकसाया था, जिसके बाद मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट गुरमोहन कौर ने यह आदेश दिया। 

इस सिलसिले में इमाम के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया है। इमाम से अदालत में आधे घंटे तक पूछताछ के बाद अदालत ने उसे पुलिस हिरासत में दे दिया। 

अदालत ने कहा कि मामले में समुचित जांच के लिए इमाम को हिरासत में लेकर पूछताछ किया जाना आवश्यक है। पुलिस ने इससे पूर्व अदालत को बताया था कि फुरकान को एक सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया था जिसमें उसे एक कंटेनर ले जाते हुए देखा जा सकता है और कंटेनर में कथित तौर पर पेट्रोल था। अपनी रिमांड अर्जी में पुलिस ने कहा कि गत वर्ष 15 दिसम्बर को नये संशोधित कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए न्यू फ्रेंडस कॉलोनी में एस्कॉर्ट अस्पताल के निकट बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए थे। 

अर्जी में कहा गया है, ‘‘पुलिस ने भीड़ को कानून अपने हाथों में नहीं लेने की चेतावनी दी थी लेकिन वे सीएए विरोधी नारे लगाते रहे। लाठी डंडों से लैस अनियंत्रित भीड़ ने लोगों और निशाना बनाना शुरू कर दिया और वाहनों में तोड़फोड़ की।’’ पुलिस ने इमाम से पूछताछ करने और उसे गिरफ्तार करने के लिए अदालत से अनुमति मांगी। इसमें कहा गया है कि उन्हें उस स्थान की पहचान करने के लिए इमाम से पूछताछ की जरूरत है जहां उसने कथित भड़काऊ भाषण दिये थे। 

मामले में 16 दिसम्बर को चार लोगों को गिरफ्तार किया गया था और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। फुरकान को बाद में गिरफ्तार किया गया था। यहां जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में इमाम को 28 जनवरी को बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था। इमाम के खिलाफ 26 जनवरी को देशद्रोह और अन्य आरोपों में मामला दर्ज किया गया था। 

पिछले वर्ष 15 दिसंबर को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ एक प्रदर्शन के दौरान जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में पुलिस के साथ हुए संघर्ष में प्रदर्शनकारियों ने चार सार्वजनिक बसों और दो पुलिस वाहनों को जला दिया था। इस घटना में छात्रों, पुलिसकर्मियों और दमकलकर्मियों समेत लगभग 60 लोग घायल हो गए थे। पुलिस ने उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया था और आंसू गैस के गोले छोड़े थे। पुलिसकर्मी यह कहते हुए जामिया परिसर में प्रवेश कर गए थे कि दंगाई वहां छिपे हैं। हालांकि जामिया छात्रों ने इस बात से इनकार किया कि वे हिंसा में शामिल थे। छात्रों ने पुलिस बर्बरता का आरोप लगाया था।