BREAKING NEWS

पंचतत्व में विलीन हुए श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा 'मिन्ना जी' ◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾

जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया

जामिया प्रशासन की ओर से विश्वविद्यालय में शीतकालीन अवकाश घोषित करने के बाद नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने फिलहाल अपना आंदोलन रोक दिया है। 

ज्वाइंट एक्शन कमेटी ने अपना आंदोलन वापस लेने की घोषणा की है। इस कमेटी में छात्र और पूर्व छात्र शामिल हैं। 

इससे पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों का शनिवार को लगातार दूसरे दिन भी धरना प्रदर्शन जारी रहा और स्थिति को तनावपूर्ण देखते हुए सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गयी हैं एवं 16 दिसंबर शीतकालीन अवकाश भी घोषित कर दिया गया है। 

छात्रों ने कल पुलिस की ओर से किये गए लाठीचार्ज के खिलाफ शनिवार को विश्वविद्यालय बंद का आह्वान किया था। छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने शनिवार को होने वाली सेमेस्टर की परीक्षाएं स्थगित कर दी। जामिया शिक्षक संघ ने छात्रों के प्रदर्शन को समर्थन दिया है। इसके साथ ही जामिया के पूर्व छात्रों ने भी प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है। 

विश्वविद्यालय प्रशासन ने पहले केवल आज होने वाली सेमेस्टर परीक्षाएं स्थगित कर दी थीं लेकिन स्थिति को तनावपूर्ण देखते हुए सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी और 16 दिसंबर से अगले वर्ष पांच जनवरी तक शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया। अब विश्वविद्यालय छह जनवरी को खुलेगा और सभी परीक्षाओं की तारीखें नये सिरे से घोषित की जाएंगी। 

जामिया छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष शम्स परवेत्र ने बताया कि सरकार नागरिकता का जो कानून लेकर आई है वह संविधान पर हमला है और देश को तोड़ने वाला है। उन्होंने छात्रों के आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए कहा कि जामिया के संस्थापकों और छात्रों ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बहादुरी से लड़कर उदाहरण प्रस्तुत किया था और अब जब देश में लोकतंत्र बचाने की लड़ई है तो हम पीछे नहीं हटने वाले हैं। जुल्म के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करना जामिया के संस्थापकों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 

प्रदर्शन कर रहे छात्र लगातार इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं। छात्रों का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उनका आंदोलन जारी रहेगा। छात्रों का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून लोकतंत्र के खिलाफ है और मुस्लिम समाज को इस कानून से अलग रखा गया है।

 

कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने के लिए जामिया से एक किलोमीटर दूर बड़ संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है जहां कई जिलों के आला अफसर भी मौजूद हैं। 

गौरतलब है कि शुक्रवार को प्रदर्शन के दौरान पुलिस के साथ हिंसक झड़पें हुई थी जिसमें कई छात्र और 12 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। छात्र कल जामिया से संसद की ओर जाना चाहते थे लेकिन पुलिस ने विश्वविद्यालय परिसर में ही रोकने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस और छात्रों के बीच में कहासुनी हो गई। 

उसके बाद पुलिस ने छात्रों के ऊपर आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया। पुलिस का कहना है कि छात्रों ने पथराव शुरू किया जिसके बाद स्थिति को संभालने के लिए पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल किया और हल्का बल प्रयोग किया।