BREAKING NEWS

मुंगेर मामला : तेजस्वी ने कहा- पुलिस ने लोगों को ढूंढ-ढूंढ कर पीटा, कांग्रेस ने सरकार से बर्खास्तगी की मांग की ◾देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना के 43,893 नए मामलों की पुष्टि और 508 मरीजों ने गंवाई जान◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾JDU ने चिराग को बताया RJD की 'बी' टीम, कहा-रील लाइफ के साथ रियल लाइफ में भी असफल◾बिहार में कोरोना काल के बीच मतदान जारी, शुरुआती 2 घंटे में 6.74 प्रतिशत हुआ मतदान ◾Bihar Election : राहुल गांधी और जेपी नड्डा ने लोगों से वोट करने की अपील की, कही ये बात ◾जम्मू-कश्मीर के बडगाम में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ के दौरान 2 आतंकवादियों को मार गिराया ◾बिहार चुनाव : कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 71 सीटों के लिए मतदान जारी, पीएम मोदी ने लोगों से की ये अपील ◾बिहार चुनाव : पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर मतदान आज, 1066 प्रत्याशियों के भविष्य का होगा फैसला◾बिहार विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए आज PM मोदी और राहुल की कई रैलियां◾आज का राशिफल ( 28 अक्टूबर 2020 )◾अर्थव्यवस्था में सुधार, पर 2020-21 में वृद्धि दर नकारात्मक या शून्य के करीब रहेगी : सीतारमण ◾SRH vs DC ( IPL 2020 ) : साहा, वॉर्नर और राशिद ने सनराइजर्स को दिलाई दिल्ली पर जीत◾पोम्पियो के दौरे से भड़का बीजिंग, कहा : 'भारत - चीन' के बीच कलह के बीज बोना बंद करें अमेरिका◾उमर अब्दुल्ला बोले- नया भूमि कानून स्वीकार नहीं, इस छल से जम्मू-कश्मीर बिकने के लिए तैयार◾अगर आरजेडी सत्ता में आयी तो विकास के कटोरे में छेद हो जायेगा, इनका चरित्र ही अराजक है : जेपी नड्डा ◾भ्रष्टाचार का वंशवाद बड़ी चुनौती, कई राज्यों में राजनीतिक परंपरा का हिस्सा बना: पीएम मोदी◾अनलॉक दिशानिर्देशों में और ढील नहीं , कंटेनमेंट क्षेत्राें में तीस नवम्बर तक लागू रहेगा लॉकडाउन : MHA◾मध्यप्रदेश में भाजपा उम्मीदवार इमरती देवी को EC का नोटिस, कमलनाथ पर की थी विवादित टिप्पणी◾पांच नवंबर तक ऋणदाता कर्जदारों के खातों में ‘ब्याज पर ब्याज’ की रकम जमा करेंगे : केन्द्र सरकार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया

जामिया प्रशासन की ओर से विश्वविद्यालय में शीतकालीन अवकाश घोषित करने के बाद नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने फिलहाल अपना आंदोलन रोक दिया है। 

ज्वाइंट एक्शन कमेटी ने अपना आंदोलन वापस लेने की घोषणा की है। इस कमेटी में छात्र और पूर्व छात्र शामिल हैं। 

इससे पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों का शनिवार को लगातार दूसरे दिन भी धरना प्रदर्शन जारी रहा और स्थिति को तनावपूर्ण देखते हुए सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गयी हैं एवं 16 दिसंबर शीतकालीन अवकाश भी घोषित कर दिया गया है। 

छात्रों ने कल पुलिस की ओर से किये गए लाठीचार्ज के खिलाफ शनिवार को विश्वविद्यालय बंद का आह्वान किया था। छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने शनिवार को होने वाली सेमेस्टर की परीक्षाएं स्थगित कर दी। जामिया शिक्षक संघ ने छात्रों के प्रदर्शन को समर्थन दिया है। इसके साथ ही जामिया के पूर्व छात्रों ने भी प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है। 

विश्वविद्यालय प्रशासन ने पहले केवल आज होने वाली सेमेस्टर परीक्षाएं स्थगित कर दी थीं लेकिन स्थिति को तनावपूर्ण देखते हुए सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी और 16 दिसंबर से अगले वर्ष पांच जनवरी तक शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया। अब विश्वविद्यालय छह जनवरी को खुलेगा और सभी परीक्षाओं की तारीखें नये सिरे से घोषित की जाएंगी। 

जामिया छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष शम्स परवेत्र ने बताया कि सरकार नागरिकता का जो कानून लेकर आई है वह संविधान पर हमला है और देश को तोड़ने वाला है। उन्होंने छात्रों के आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए कहा कि जामिया के संस्थापकों और छात्रों ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बहादुरी से लड़कर उदाहरण प्रस्तुत किया था और अब जब देश में लोकतंत्र बचाने की लड़ई है तो हम पीछे नहीं हटने वाले हैं। जुल्म के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करना जामिया के संस्थापकों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 

प्रदर्शन कर रहे छात्र लगातार इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं। छात्रों का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उनका आंदोलन जारी रहेगा। छात्रों का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून लोकतंत्र के खिलाफ है और मुस्लिम समाज को इस कानून से अलग रखा गया है।

 

कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने के लिए जामिया से एक किलोमीटर दूर बड़ संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है जहां कई जिलों के आला अफसर भी मौजूद हैं। 

गौरतलब है कि शुक्रवार को प्रदर्शन के दौरान पुलिस के साथ हिंसक झड़पें हुई थी जिसमें कई छात्र और 12 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। छात्र कल जामिया से संसद की ओर जाना चाहते थे लेकिन पुलिस ने विश्वविद्यालय परिसर में ही रोकने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस और छात्रों के बीच में कहासुनी हो गई। 

उसके बाद पुलिस ने छात्रों के ऊपर आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया। पुलिस का कहना है कि छात्रों ने पथराव शुरू किया जिसके बाद स्थिति को संभालने के लिए पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल किया और हल्का बल प्रयोग किया।