BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 01 नवंबर 2020 )◾एलएसी पर यथास्थिति में परिवर्तन का कोई भी एकतरफा प्रयास अस्वीकार्य : जयशंकर ◾मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री ने सिंधिया पर 50 करोड़ का ऑफर देने का लगया आरोप ◾SRH vs RCB ( IPL 2020 ) : सनराइजर्स की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर पर आसान जीत, प्ले आफ की उम्मीद बरकरार ◾कांग्रेस नेता कमलनाथ ने चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का किया रूख◾पश्चिम बंगाल चुनाव : माकपा ने कांग्रेस समेत सभी धर्मनिरपेक्ष दलों के साथ चुनावी मैदान में उतरने का किया फैसला◾दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर केंद्र सरकार एक्टिव, सोमवार को बुलाई बैठक◾लगातार छठे दिन 50 हजार से कम आये कोरोना के नये मामले, मृत्युदर 1.5 प्रतिशत से भी कम हुई ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾आईपीएल-13 : मुंबई इंडियंस ने दिल्ली कैपिटल को 9 विकेट से हराया, इशान किशन ने जड़ा अर्धशतक◾लव जिहाद पर सीएम योगी का कड़ी चेतावनी - सुधर जाओ वर्ना राम नाम सत्य है कि यात्रा निकलेगी◾दिल्ली में इस साल अक्टूबर का महीना पिछले 58 वर्षों में सबसे ठंडा रहा, मौसम विभाग ने बताई वजह ◾नड्डा ने विपक्ष पर राम मंदिर मामले में बाधा डालने का लगाया आरोप, कहा- महागठबंधन बिहार में नहीं कर सकता विकास ◾छत्तीसगढ़ : पापा नहीं बोलने पर कॉन्स्टेबल ने डेढ़ साल की बच्ची को सिगरेट से जलाया, भिलाई के एक होटल से गिरफ्तार◾पीएम मोदी ने साबरमती रिवरफ्रंट सीप्लेन सेवा का उद्घाटन किया ◾PM मोदी ने सिविल सेवा ट्रेनी अफसरों से कहा - समाज से जुड़िये, जनता ही असली ड्राइविंग फोर्स है◾माफ़ी मांगकर लालू के 'साये' से हटने की कोशिश में जुटे हैं तेजस्वी, क्या जनता से हो पाएंगे कनेक्ट ?◾तेजस्वी बोले- हम BJP अध्यक्ष से खुली बहस के लिए तैयार, असली मुद्दे पर कभी नहीं बोलते नीतीश◾पुलवामा पर राजनीति करने वालों पर बरसे PM मोदी, कहा- PAK कबूलनामे के बाद विरोधी देश के सामने हुए बेनकाब ◾TOP 5 NEWS 30 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पुलिस कार्यवाही के खिलाफ जामिया छात्रों का प्रदर्शन, VC नजमा बोलीं-कल से शुरू होगी FIR की प्रक्रिया

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने सोमवार को कहा कि जामिया ने छात्रों पर हुई पुलिस बर्बरता के खिलाफ मामला दर्ज कराने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है। प्रोफेसर अख्तर ने उनका घेराव करने आए छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि 15 दिसम्बर की घटना बहुत क्रूर थी। 

पुलिस के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की प्रक्रिया कल से शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस बिना प्रशासन की अनुमति के कैम्पस में आई और यहां के मासूम विद्यार्थियों की पिटाई की इस घटना की पहले दिन से निंदा कर रहे हैं। छात्रों के हक पुलिस के खिलाफ कानूनी लड़ई जारी रहेगी। 

हालांकि छात्र पुलिस के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की तिथि की मांग पर अड़े हैं। छात्रों का कहना है कुलपति उन्हें एक निश्चित तिथि बताएं कि कब कोर्ट में जाएंगी और कब एफआईआर कराई जाएगी। कुलपति ने कहा कि नागरिकता कानून और एनआरसी के मुद्दे पर वह कुछ नहीं बोलेंगी। 

गौरतलब है कि 15 दिसम्बर को नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के बाद जामिया कैम्पस में घुसकर पुलिस ने लाइब्रेरी में तोड़फोड़ की थी तथा छात्रों को बेरहमी से पीटा था। उसके बाद जामिया प्रशासन ने पांच जनवरी तक छुट्टी की घोषणा कर दी लेकिन इस बीच भी कैम्पस के बाहर छात्रों और स्थानीय लोगों का नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन चलता रहा। 

छह जनवरी को दोबारा जामिया खुला और नौ जनवरी से सेमेस्टर परीक्षा की घोषणा की गई लेकिन पुलिस के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग को लेकर आज छात्रों ने परीक्षा का बायकॉट कर कुलपति का घेराव किया। छात्र मुख्य द्वार का ताला तोड़कर कार्यालय परिसर में दाखिल हो गए और कुलपति के खिलाफ नारेबाजी की। 

कुलपति अख्तर ने छात्रों को समझाने की कोशिश की और कहा कि प्राथमिकी दर्ज कराने की कोशिश की गई लेकिन अब तक यह पंजीकृत नहीं हुई है। कुलपति ने बताया कि उन्होंने इस मुद्दे को सरकार के समक्ष भी उठाया और इस पर कानूनी राय भी मांगी है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय परिसर में सुरक्षा दोगुनी कर दी गई है। 

नाराज छात्रों ने दावा किया कि हिंसा के बाद उन्हे छात्रावास खाली करने का नोटिस दिया गया, जिससे कुलपति ने इनकार किया।  सईद फहाद नामक छात्र ने कहा कि प्राथमिकी उन लोगों के खिलाफ दर्ज की गई जो प्रदर्शन के दौरान अपने अधिकारों की मांग कर रहे थे। उन्होंने पुलिस कार्रवाई को रेखांकित करते हुए कहा कि असली गुनाहगार अभी भी बाहर हैं। अभियंत्रिकी के छात्र आदिल ने कहा कि पिछले महीने हुई हिंसा के मामले में एक भी प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है। 

उल्लेखनीय है कि 15 दिसंबर को प्रदर्शनकारियों ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के नजदीक न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिस के साथ हुई झड़प के बाद चार सार्वजनिक बसों और दो पुलिस वाहनों में आग लगा दी थी। इस दौरान छात्रों, पुलिस और अग्निशमन दल के सदस्यों सहित कुल 60 लाख लोग घायल हुए थे।