BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾विधानसभा चुनावः दिल्लीवासियों से केजरीवाल ने चार राज्यों में प्रचार के लिए मांगी मदद ◾MP में नए 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' ने दी दस्तक, इंदौर में 21 मामले आए सामने, फेफड़ों पर हो रहा संक्रमण का असर ◾राकेश टिकैत ने हिंदू-मुस्लिम और जिन्ना को बताया सरकारी मेहमान, बोले-सरकार के प्रवचन में नहीं आना◾भगवा खेमे का अभेद्य किला बनी हुई है 'गोरखपुर सीट', अखिलेश ने शिवप्रताप को दिया खुला ऑफर, जानें रणनीति ◾अखिलेश के बयान पर भाजपा ने घेरा, पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानने का लगाया आरोप ◾अल्पसंख्यक समुदाय के साथ की आस में BJP, RSS की मुस्लिम शाखा ने चलाया अभियान, धर्म संसद पर कहा... ◾UP चुनाव: सियासी मझधार में सपा और सहयोगी दलों का गठबंधन, सीट बंटवारे को लेकर कशमकश की स्थिति ◾BJP गठबंधन वाले दलों को हड़पकर उन्हें खत्म कर देती है : नवाब मलिक◾योगी सरकार पर फिर बरसीं मायावती, कहा- भाजपा के शासन में धर्म संबंधी असुरक्षा लगातार बढ़ रही◾गणतंत्र दिवस: समारोह में एंट्री के लिए अहम निर्देशों का करना होगा पालन, जानें सुरक्षा तैयारियों की जानकारी ◾

जामिया हिंसा : जारी हो रहे विवादित वीडियो पर पुलिस संजीदा, SIT पहुंची जामिया यूनिवर्सिटी

तीन चार दिन में एक साथ कई संदिग्ध वीडियो बाहर आने से दिल्ली पुलिस में भी खलबली मची हुई है। चार दिन से चुप, अंतत: मंगलवार को दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी को जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय का दौरा करना ही पड़ गया। दौरे वाली टीम के प्रमुख खुद डीसीपी एसआईटी राजेश देव थे। टीम कई घंटे तक जामिया में डेरा जमाए रही। 

मंगलवार देर रात दिल्ली पुलिस मुख्यालय ने इसकी जानकारी खुद ही अधिकृत बयान जारी करके दी। दिल्ली पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी अधिकृत बयान के अनुसार, 'जामिया मिलिया इस्लामिया की लाइब्रेरी में काफी देर तक एसआईटी टीम मौजूद रही। टीम ने उन स्थानों का भी गहन निरीक्षण किया जो वीडियो में दिखाई पड़ रहे हैं।'

जामिया मिलिया परिसर में पहुंची दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी ने स्टाफ और छात्रों से भी बातचीत की। बातचीत का मकसद था हर बिंदु की तह तक पहुंचना। इस अवसर पर विवि के चीफ प्रॉक्टर ने भी सहयोगात्मक रवैया अख्तियार किया।

 

दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बयान के मुताबिक, 'जामिया मिलिया विश्वविद्यालय परिसर में एसआईटी टीम के सदस्य करीब 3 घंटे मौजूद रहे।'

बीते साल बीच दिसंबर में जामिया जाकिर नगर में हुए हिंसा के वीडियो अब एक के बाद एक कहां से, क्यों और कैसे बाहर आ रहे हैं? इस सवाल को लेकर दिल्ली पुलिस संजीदा हो गई है। तीन-चार दिनों से मीडिया में उछल रहे वीडियो की जांच दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एसआईटी ने शुरू कर दी है।

पुलिस को आशंका है कि कहीं जांच को प्रभावित करने के लिए ही ये वीडियो वायरल न कराए जा रहे हों। 

मंगलवार को बातचीत के दौरान नाम जाहिर न करने की शर्त पर दिल्ली पुलिस एसआईटी के एक अधिकारी ने बताया, 'वीडियो ठीक उसी दिन से, यानी मंगलवार से ठीक तीन-चार दिन पहले ही आखिर क्यों बाहर आ रहे हैं? दूसरा सवाल यह भी है कि इन वीडियो को अगर जामिया जाकिर नगर के दंगों का बताया जा रहा है तो फिर इस वीडियो को वायरल करने वालों ने ईमानदारी के साथ पूरे मामले की जांच कर रही अपराध शाखा की एसआईटी से इसे अब तक छिपाकर क्यों रखा?' 

इसी आला अफसर ने बताया कि जो भी वीडियो सामने आए हैं, उन सबको जांच के दायरे में ले लिया गया है। संभव है कि वीडियो जामिया-जाकिर नगर इलाके से ही वायरल करवाए जा रहे हों। हालांकि इसकी पुख्ता जांच शुरू कर दी गई है, ताकि इस वक्त वायरल वीडियो को बाहर लाने के पीछे मकसद पता चल सके। 

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के एक एसीपी स्तर के अधिकारी के मुताबिक, 'दरअसल, अभी इन वीडियो पर कुछ खुलकर बोलना इसलिए ठीक नहीं होगा, क्योंकि पुलिस की जबाबदेही पहले कानून के प्रति है। हम इन वीडियो और उन्हें बाहर लाए जाने के रास्तों की जांच कर रहे हैं। कुछ वीडियो कब्जे में लिए गए हैं।' 

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी के एक अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, 'पुलिस के पास जो वीडियो पहले आ चुके थे, वो तकरीबन सभी के पास थे। हमें जांच के लिए और हिंसा फैलाने वालों की पहचान करने के लिए ये वीडियो बहुत काम के लगे। इन्हीं वीडियो से पता चला कि हिंसा फैलाने वाले असली गुनहगार और जिम्मेदार कौन थे? इन संदिग्धों में से कई गिरफ्तार भी हो चुके हैं। जो फरार हैं वे भी आज नहीं तो कल मिल जाएंगे।' 

जामिया मिलिया इस्लामिया के प्रवक्ता अहमद अजीम ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, 'वीडियो बाहर आ रहे हैं। वायरल हो रहे हैं। वीडियो किसने बनाए? वीडियो बाहर लाने में किसका हाथ है? या फिर जामिया मिलिया विश्वविद्यालय से मिलते-जुलते नाम से जो संस्था वीडियो बाहर लाने की दावेदारी कर रही है, उस संस्था से यूनिवर्सिटी का कोई लेना देना नहीं है।'

यह पूछे जाने पर कि वीडियो लीक करने के पीछे जामिया यूनिवर्सिटी ही संदेह के घेरे में आ रही है? इस पर अहमद अजीम ने कहा, 'नहीं, यह बेबुनियाद है। पुलिस जांच कर ले। विश्वविद्यालय प्रशासन का इन वीडियो से कोई लेना-देना नहीं है।'

 

एक वीडियो में हाथों में पत्थर लिए छात्र दिखाई दे रहे हैं! इस बाबत पूछे जाने पर जामिया विवि प्रवक्ता ने कहा, 'इस वीडियो की सच्चाई भी पुलिस को लगानी चाहिए। वैसे, कुछ न्यूज चैनल्स पर इन वीडियो को दिल्ली पुलिस से ही लीक कराया हुआ बताया जा रहा है। पुलिस देखे कि चैनल का दावा कहां और कितना खरा उतरता है?'

 

पूरे मामले और इन वीडियो की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक, 'वीडियो संदिग्ध हैं। कोई भी अंदाजा लगा सकता है कि इन विवादित वीडियो के इस वक्त बाहर लाने से किसको नफा-नुकसान होगा? फिर भी हमारा काम जांच का है। हम जांच कर रहे हैं।'