BREAKING NEWS

पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾मोदी सरकार द्वारा किसानों पर किए जा रहे अत्याचार के खिलाफ साथ मिलकर उठाएं आवाज : राहुल गांधी ◾देश में एक दिन की वृद्धि के बाद फिर घटे कोरोना के एक्टिव केस, संक्रमितों का आंकड़ा 59 लाख के पार ◾बॉलीवुड से जुड़े ड्रग केस की जांच के लिए तैयार NCB, दीपिका पादुकोण एजेंसी के सामने हुईं पेश ◾दुनियाभर में कोरोना केस 3 करोड़ 24 लाख के पार, 9 लाख 87 हजार से अधिक की मौत◾पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, भारत ने दिया करारा जवाब ◾ अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर जानिये उनसे जुड़ी ख़ास बातें ◾पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर बोले राहुल- उनके जैसे गंभीर प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है देश ◾ अमेरिका में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 70 लाख के पार ◾ बिहार के 'रोबिनहुड' ने नीतीश की जमकर तारीफ की, NDA में हो सकते हैं शामिल ◾संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोले पोप फ्रांसिस- कोरोना महामारी बदलाव के लिए अवसर है ◾आज का राशिफल (26 सितम्बर 2020)◾बिहार चुनाव में NDA को जीत का अनुमान : सर्वे ◾बिहार विधानसभा चुनाव में NDA ने सेट किया तीन चौथाई बहुमत का टारगेट◾UN में भाषण के दौरान पाक PM इमरान खान ने RSS और कश्मीर का मुद्दा उठाया, भारत ने किया बायकॉट◾CSK vs DC (IPL 2020) : दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रन से हराया◾UP में विधानसभा उपचुनाव के लिये राजनीतिक दलों ने कसी कमर◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट, संक्रमितों का आंकड़ा 13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 17,794 नए केस◾IPL-13: पृथ्वी शॉ का तूफानी अर्धशतक, दिल्ली ने चेन्नई के सामने रखा 176 रनों का लक्ष्य◾कोविड-19 : हर्षवर्धन ने बोले- देश की स्वास्थ्य सेवा से मृत्यु दर न्यूनतम और ठीक होने की दर अधिकतम रही◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जेएनयू फीस वृद्धि मामला : डॉक्टर्स-वैज्ञानिक, छात्र सड़क पर

नई दिल्ली : जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रावास की फीस बढ़ोतरी को लेकर विद्यार्थियों का प्रदर्शन जारी है। अब जेएनयू विद्यार्थियों के समर्थन में डॉक्टर्स, वैज्ञानिक और दिल्ली के आम लोग भी शामिल हो गए हैं। इसी क्रम में शनिवार को दिल्ली सिटीजन्स के साथ विभिन्न छात्र संगठनों के कार्यकर्ता, शिक्षक, पूर्व छात्र, नागरिक समाज के सदस्य और राजनेताओं ने मंडी हाउस से संसद मार्ग तक मार्च निकाला। 

सुबह करीब 11.30 बजे मंडी हाउस पर सैंकड़ों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए और करीब 12 बजे यहां से फीस वृद्धि, जेएनयू प्रशासन और केंद्र सरकार के खिलाफ हाथों में तख्तियां, बैनर और डफली बजाकर नारेबाजी करते हुए संसद मार्ग तक गए। इस दौरान विश्वविद्यालय प्रशासन से फीस वृद्धि वापस लेने और सरकार से सभी के लिए शिक्षा सस्ती करने की मांग करते हुए नारे भी लगाए गए। 

प्रदर्शन के दौरान आईसा, एसएफआई, एनएसयूआई, छात्र आरजेडी, सीपीआई (एम), सीपीआई, सीआईटीयू, एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स, जामिया, अंबेडकर यूनिवर्सिटी आदि के विद्यार्थी शामिल रहे। मार्च के दौरान सुरक्षा के मद्देनजर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया था।

जेएनयू को एम्स डॉक्टर्स का मिला साथ...

जेएनयू के छात्र पिछले कई दिनों से फीस बढ़ोतरी को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं, ऐसे में स्वास्थ्य मंत्रालय से एम्स को मिले पत्र ने आग में घी डालने का काम किया है। मंत्रालय ने देशभर के सभी एम्स को पत्र जारी कर कहा है कि वह फीस बढ़ोतरी और मरीजों से ली जाने वाले शुल्क का रिव्यू करें। ऐसे में एम्स के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। शनिवार को एम्स के छात्रों ने न सिर्फ मंडी हाउस से संसद मार्ग तक पैदल मार्च निकाला बल्कि जेएनयू के छात्रों का समर्थन कर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। 

बता दें कि जेएनयू की तरह ही देशभर के एम्स में स्टूडेंट ट्यूशन फीस और यूजर्स फीस (मरीजों से लिए जाने वाले पैसे) रिव्यू करने को लेकर पत्र जारी किया गया है जिसका डॉक्टर्स व स्टूडेंट्स विरोध कर रहे हैं। मार्च को लेकर प्रोग्रेसिव मेडिकोज एंड साइंटिस्ट फोरम (पीएमएसएफ) के नेशनल कन्वीनर डॉ. हरजीत भट्टी ने कहा कि एक तरफ सरकार एजुकेशन फ्री करने की बात करती है और दूसरी तरफ फीस बढ़ाने का फैसला लिया जा रहा है। 

देश के प्रत्येक कॉलेज में मेडिकल फीस इतनी ज्यादा है कि आम आदमी उसमें दाखिला लेने से पहले हजार बार सोचता है। साथ ही अब स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से पत्र जारी करके देशभर के एम्स में पढ़ने वाले मेडिकल स्टूडेंट्स और यूजर चार्ज को रिव्यू करने का आदेश दिया है। ऐसे में यही लग रहा है कि सरकार इनमें बढ़ोतरी करने का निर्णय ले रही है, जिसका पूरी मेडिकल फ्रेटरनिटी विरोध कर रही है। इसके अलावा एनएमसी बिल में भी फीस बढ़ाने से संबंधित कुछ चीजें शामिल हैं। 

ऐसे में इसका विरोध करने के लिए ही शनिवार को जेएनयू के छात्रों के साथ प्रदर्शन किया गया। इसमें बढ़ी संख्या में मेडिकल फ्रेटरनिटी व आम लोग शामिल होंगे। वहीं बता दें कि एम्स स्टूडेंट एसोसिएशन की ओर से भी फीस बढ़ोतरी को लेकर विरोध किया जा रहा है। वहीं डॉ. मुकुल कुमार का कहना है कि हम एजुकेशन फॉर ऑल का समर्थन करते हैं और चाहे जो भी परिस्थिति हो, एजुकेशन को महंगा नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करने से कई लोग पढ़ाई से वंचित रह जाएंगे।

आंदोलन युवाओं को जगाता है...

इस दौरान माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि जेएनयू का आंदोलन देश के युवाओं को जगाता है। यहां के छात्रों ने विश्वभर में देश का नाम रोशन किया है। शिक्षा, राजनीति, अर्थशास्त्र आदि के क्षेत्रों में जेएनयू के विद्यार्थियों ने अपने आप को स्थापित किया है। 

उन्होंने आरोप लगाया है कि मौजूदा केंद्र सरकार इसे बर्बाद और बदनाम करने की जुगत में है। नई शिक्षा नीति तर्क को समाप्त करने वाली है। येचुरी ने कहा कि विद्यार्थियों की फीस वृद्धि के खिलाफ यह आंदोलन जायज है और प्रशासन को फीस रोल बैक करने की जरूरत है। इस दौरान पूर्व सांसद उदित राज, चंद्रशेखर उर्फ रावण सहित कई नेता उपस्थित रहे।