BREAKING NEWS

लॉकडाउन 5.0 पर गृह मंत्री अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों से की बात, मांगे सुझाव ◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, 24 घंटे में 1024 नए मामले, संक्रमितों संख्या 16 हजार के पार◾सीताराम येचुरी ने मोदी सरकार पर साधा, कहा- रेलगाड़ियों का रास्ता भटकना सरकार के अच्छे दिन का ‘जादू’ ◾ट्रंप की पेशकश पर भारत ने कहा- मध्यस्थता की जरूरत नहीं, सीमा विवाद के समाधान के लिए चीन से चल रही है बातचीत◾अलग जगहों पर रखे जाएं विदेशी जमाती, दिल्ली HC ने कहा- खुद उठाएंगे अपना खर्चा◾कोविड-19 की वैक्सीन बनाने में जुटे देश के 30 ग्रुप : पीएसए राघवन◾मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने ऑनलाइन आंदोलन किया, केंद्र से गरीबों की मदद की मांग की◾SC का केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश, तत्काल श्रमिकों के भोजन और ठहरने की करें नि:शुल्क व्यवस्था◾महाराष्ट्र में कोरोना की चपेट में 2000 से अधिक पुलिसकर्मी, महामारी से अब तक 22 की मौत◾कोरोना संकट से जूझ रही महाराष्ट्र की सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है BJP : प्रियंका गांधी ◾पुलवामा जैसे हमले को अंजाम देने की फिराक में आतंकी, IG ने बताया किस तरह नाकाम हुई साजिश◾दिल्ली-गाजियाबाद बार्डर पर फिर लगी वाहनों की लाइनें, भीड़ में 'पास-धारक' भी बहा रहे पसीना ◾राहुल गांधी की मांग- देश को कर्ज नहीं बल्कि वित्तीय मदद की जरूरत, गरीबों के खाते में पैसे डाले सरकार◾RBI बॉन्ड को वापस लेना नागरिकों के लिए झटका, जनता केंद्र से तत्काल बहाल करने की करें मांग : चिदंबरम◾‘स्पीकअप इंडिया’ अभियान में बोलीं सोनिया- संकट के इस समय में केंद्र को गरीबों के दर्द का अहसास नहीं◾पुलवामा में हमले की बड़ी साजिश को सुरक्षाबलों ने किया नाकाम, विस्फोटक से लदी गाड़ी लेकर जा रहे थे आतंकी◾दुनिया में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख के करीब, अब तक 3 लाख 55 हजार से अधिक की मौत ◾मौसम खराब होने की वजह से Nasa और SpaceX का ऐतिहासिक एस्ट्रोनॉट लॉन्च टला◾कोविड-19 : देश में महामारी से अब तक 4500 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 58 हजार के पार ◾मुंबई के फॉर्च्यून होटल में लगी आग, 25 डॉक्टरों को बचाया गया ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जस्टिस डा. एस मुरलीधर मानवाधिकारों और नागरिक अधिकारों के प्रति समर्पित न्यायाधीश

मानवाधिकारों की रक्षा को लेकर बेहद संवेदनशील जस्टिस डा. एस मुरलीधर (Justice Dr. S. Muralidhar) निजी जीवन में सादगी पसंद व्यक्ति हैं। सीएए (Citizenship amendment law) को लेकर 23-24 फरवरी को दिल्ली के कुछ हिस्सों में हिंसा की घटनाओं के संबंध में दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) के जस्टिस के रूप में जस्टिस डा. मुरलीधर ने कड़ा रूख अपनाते हुये पुलिस और भाजपा के कुछ नेताओं को आड़े हाथ लिया था।

इसके बाद न्यायमूर्ति डा. मुरलीधर का तबादला पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में कर दिया गया। उनके तबादले के समय को लेकर अलग अलग बातें कही गईं। कुछ लोगों ने इस तबादले को पुलिस और भाजपा के प्रति उनके सख्त रूख से जोड़कर देखा, जबकि सरकार की ओर से दलील दी गई कि उच्चतम न्यायालय (Supreme court) के कॉलेजियम की 12 फरवरी की सिफारिश के अनुरूप तबादले की यह एकदम सामान्य प्रक्रिया थी। 

न्यायमूर्ति डा मुरलीधर के तबादले को लेकर उठे विवाद को एक तरफ कर दिया जाए तो इस बात में दो राय नहीं कि उन्हें मानवाधिकारों और नागरिक अधिकारों के लिये सदैव प्रतिबद्ध रहने वाले न्यायाधीश के रूप में देखा जाता है। उन्होंने अपने न्यायमूर्ति होने का धर्म सदैव निभाया। उनके द्वारा दिए गए कई बहुचर्चित फैसले उनके व्यक्तित्व के इस उजले पक्ष को उजागर करते हैं। 

उन्होंने कोरेगांव-भीमा हिंसा मामले में गिरफ्तार सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा के ट्रांजिट रिमांड पर 2018 में रोक लगाने वाली पीठ के सदस्य के रूप में सरकार और व्यवस्था को खरी खरी सुनाई थी। 

1986 के हाशिमपुरा नरसंहार के मामले में उप्र पीएसी के 16 कर्मियों और 1984 के सिख विरोधी दंगों से संबंधित एक मामले में कांग्रेस के पूर्व नेता सज्जन कुमार को सजा सुनाने में न्यायमूर्ति मुरलीधर की कलम जरा नहीं डगमगाई। वह उच्च न्यायालय की उस पीठ का भी हिस्सा थे, जिसने 2009 में दो वयस्कों में समलैगिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे से बाहर रखने की ऐतिहासिक व्यवस्था दी थी। 

दिल्ली उच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनने से पहले एक अधिवक्ता के तौर पर भी नागरिक अधिकारों और मानव अधिकारों के मामलों के प्रति उनकी संवेदनशीलता सामने आने लगी थी। 

CAA प्रदर्शन : शाहीन बाग में लगाई गई धारा 144 , भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात

चेन्नई में 1984 में वकालत शुरू करने वाले मुरलीधर करीब तीन साल बाद अपनी वकालत को नये आयाम देने की इच्छा के साथ दिल्ली आये और उन्होंने उच्च न्यायालय तथा उच्चतम न्यायालय में वकालत की। इस दौरान मुरलीधर पूर्व अटार्नी जनरल जी रामास्वामी:1990-1992 के जूनियर भी रहे। यहां उनके बारे में यह जान लेना दिलचस्प होगा कि अधिवक्ता के रूप में मुरलीधर पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार इलाके में स्थित सुप्रीम एन्क्लेव में रहते थे। वहीं करीब ही मशहूर गुरूवायुरप्पन मंदिर है। 

इस मंदिर के बाहर हर रविवार को दक्षिण भारतीय व्यंजनों के स्टॉल लगते हैं, जो खासे लोकप्रिय हैं। मुरलीधर रविवार को अकसर इन स्टाल पर बड़े सहज भाव से दक्षिण भारतीय व्यंजनों-डोसा, इडली और सांभर बड़ा का लुत्फ उठाते नजर आते थे। ये उनकी सादगी का परिचायक है। 

दिल्ली CAA हिंसा को लेकर अब तक 167 एफआईआर दर्ज, 885 लोग पुलिस की गिरफ्त में

राष्ट्रपति डा एपीजे अब्दुल कलाम ने 29 मई 2006 को डा एस मुरलीधर को दिल्ली उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया था। इस पद पर नियुक्ति से पहले वह राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और निर्वाचन आयोग के वकील भी रह चुके थे। बाद में वह दिसंबर, 2002 से विधि आयोग के अंशकालिक सदस्य भी रहे। इसी दौरान, 2003 में उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यलाय से पीएचडी भी की। 

डा. मुरलीधर की पत्नी उषा रामनाथन भी एक अधिवक्ता और मानव अधिकार कार्यकर्ता हैं जो आधार योजना के खिलाफ आन्दोलन में काफी सक्रिय थीं । बतौर वकील डा मुरलीधर और उनकी पत्नी उषा रामनाथन ने भोपाल गैस त्रासदी में गैस पीड़ितों और नर्मदा बांध के विस्थापितों के पुनर्वास के लिये काफी काम किया था।