BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

महाविद्यालयों की गतिविधियों पर पूरी नजर रखें : राज्यपाल

पटना : राज्यपाल-सह-कुलाधिपति लाल जी टंडन ने राज्य के सभी विवविद्यालयों के अधीन संचालित सम्बद्धता-प्राप्त महाविद्यालयों की गतिविधियों पर पूरी नजर रखने के लिए सभी कुलपतियों को कहा है। राज्यपाल श्री टंडन ने कहा है कि सम्बद्धता प्रदान किये जाते समय निर्धारित शत्र्तों पर संबंधित महाविद्यालय की सक्षमता की विन्दुवार जांच होनी चाहिए। राज्यपाल ने कहा है कि बगैर राज्य सरकार से सम्बद्धता प्राप्त किए, विभिन्न पाठ्यक्रमों में विद्यार्थियों का नामांकन लेनेवाले कॉलेजों से सख्ती से निबटा जाना चाहिए। राज्यपाल ने कहा है कि विद्यार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ की छूट किसी को हरगिज नहीं दी जा सकती है और छात्रहितों का हर हालत में पूरा ख्याल रखा जाना चाहिए।

राज्यपाल ने प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह को कहा है कि राज्यपाल सचिवालय सभी कुलपतियों को यह निदेश जारी कर दे कि निर्धारित शत्र्तों के आलोक में ही जांचोपरान्त सम्बद्धता के लिए प्रस्ताव अग्रसारित होने चाहिए। ज्ञातव्य है कि प्रावधानों के अनुरूप किसी महाविद्यालय को सम्बद्धता प्रदान करने के लिए यह जरूरी है कि शहरी क्षेत्र में संस्थापित होनेवाले महाविद्यालय के पास 2.5 एकड़ एवं ग्रामीण क्षेत्र में संस्थापित होनेवाले महाविद्यालय के पास 5.00 एकड़ का भूखंड हो।

सम्बद्धता के लिए यह आवश्यक है कि कॉलेज में नामांकन हेतु निर्धारित सीट संख्या के अनुरूप क्लास रूम की व्यवस्था हो। महाविद्यालय के पास व्याख्यान एवं टुइटोरियल रूम की भी पर्याप्त संख्या में उपलब्धता जरूरी है। साथ ही शिक्षकों के लिए स्टाफ रूम, छात्र एवं छात्राओं के कॉमन रूम, पुस्तकालय, सभी संबंधित विषयों की अलग-अलग प्रयोगशालाएं, विद्यार्थियों के लिए छात्रावास आदि को भी सम्बद्धता के लिए अपेक्षित बताया गया है।

राज्यपाल-सह-कुलाधिपति ने कहा है कि सभी कुलपति यह सुनिश्चित करें कि जबतक राज्य सरकार से सम्बद्धता नहीं मिल जाती, कोई भी कॉलेज किसी भी पाठ््यक्रम में विद्यार्थियों का प्रवेश नहीं लें। राज्यपाल ने कहा है कि सम्बद्धता की प्रत्याशा में छात्रों का नामांकन विधिसम्मत नहीं है। उन्होंने कहा है कि बगैर सम्बद्धता के नामांकित छात्रों का निबंधन किसी भी हालत में विवविद्यालयों में नहीं होना चाहिए। निर्धारित सीट संख्या से ज्यादा नामांकन को भी गंभीरता से लिया जाना चाहिए। सभी कुलपतियों को भेजे जा रहे निदेश में कहा जा रहा है कि छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने की छूट किसी को नहीं दी जानी चाहिए।

राज्यपाल ने प्रधान सचिव को सभी कुलपतियों को सूचित करने को कहा है कि सभी विवविद्यालय अपने विवविद्यालय की वेबसाईट पर अपने क्षेत्रान्तर्गत सम्बद्धता-प्राप्त महाविद्यालयों की सूची भी प्रदर्शित करें, ताकि विद्यार्थी किसी के बहकावे या भ्रम में नहीं आएं। राज्यपाल-सह-कुलाधिपति ने कहा है कि जो महाविद्यालय निदेशों का अनुपालन करने में कोताही बरतें, उनके विरूद्ध प्राथमिकी भी दर्ज करायी जानी चाहिए, ताकि छात्रों के साथ धोखाधड़ी न हो सके। राज्यपाल ने कहा है कि सभी कुलपतियों को छात्र-समस्याओं को नियमित तौर पर सुनना चाहिए तथा अपने विवविद्यालय में ऐसा ‘डमबींदपेउ’ (व्यवस्था) विकसित करना चाहिए ताकि व्यापक हित में छात्र-कल्याण की योजनाएं ससमय कार्यान्वित हो सकें।