BREAKING NEWS

ओमीक्रोन का असर कम रहने का अंदाजा, वैज्ञानिक मार्गदर्शन पर होगा बूस्टर देने का फैसला◾सुरक्षा के प्रति किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है भारतीय नौसेना : एडमिरल कुमार◾एक बच्चे सहित तीन यात्री कोरोना संक्रमित , जांच के बाद ही ओमीक्रन स्वरूप की होगी पुष्टि : तमिलनाडु सरकार◾जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

जानें इस साल दिल्ली में डेंगू के कितने केस मिले, अकेले नवंबर में मिले 5,600 मामले

राजधानी के अस्पतालों में डेंगू के नए मामलों में कमी आ रही है लेकिन गंभीर केस काफी तेजी से बढ़ रहे हैं।  इस सीजन में यहां डेंगू के मामले बढ़कर 7,100 से अधिक हो गए हैं, जिनमें से लगभग 5,600 मामले अकेले नवंबर महीने में ही दर्ज किए गए हैं।15 नवंबर को दिल्ली में कुल 5,277 डेंगू के मामले दर्ज किए गए थे, जो 2015 के बाद से राजधानी में दर्ज किए गए मच्छर जनित बीमारी के सबसे अधिक मामले हैं। पिछले एक सप्ताह में करीब 1,850 नए मामले दर्ज किए गए हैं। हालांकि, डेंगू के कारण कोई ताजा मौत की सूचना नहीं मिली है।

मच्छर जनित बीमारियों पर सोमवार को जारी नगर निगम की रिपोर्ट के अनुसार, इस सीजन में 20 नवंबर तक कुल 7,128 डेंगू के मामले दर्ज किए गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, बीते वर्षों में डेंगू के कुल मामले 4431 (2016), 4726 (2017), 2798 (2018), 2036 (2019) और 1072 (2020) दर्ज किए गए थे।गौरतलब है कि साल 2015 में दिल्ली में बड़े पैमाने पर डेंगू का प्रकोप देखा गया था, जब रिपोर्ट किए गए डेंगू के मामलों की संख्या अक्टूबर में ही 10,600 को पार कर गई थी, जिससे यह 1996 के बाद से राजधानी में मच्छर जनित बीमारी का सबसे भयानक प्रकोप बन गया था।

दिल्ली कांग्रेस ने राजधानी में डेंगू की स्थिति पर एलजी से की हस्तक्षेप की मांग

दिल्ली में डेंगू की वजह से लगातार बिगड़ती स्थिति के मद्देनजर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (DPCC) ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से इस मामले में हस्तक्षेप करने और स्वास्थ्य प्रणाली को दुरुस्त करने की मांग की है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि राजधानी में डेंगू से बिगड़ती स्थिति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यमुनापार के सबसे बड़े अस्पताल और यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज में भी डेंगू से निपटने के पर्याप्त इंतजाम नहीं हैं और वहां से मरीजों को स्वामी दयानंद अस्पताल भेजा जा रहा है। अस्पताल में बेड खाली नहीं हैं और एक एक-एक बेड पर दो-दो मरीजों को लिटाया जा रहा है।

चौधरी अनिल कुमार ने कहा कि डेंगू से होने वाली  मौतों के आंकड़े छिपाए जा रहे हैं और आम आदमी को इलाज मिलना तो मुश्किल है ही डॉक्टरों की मौत भी इस साधारण समझी जाने वाली बीमारी से हो रही है। रविवार को लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में एक रेजिडेंट डॉक्टर ईशान भगत की मौत हो गई है। वह मात्र 23 साल के थे। अगर समय रहते उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल जातीं तो इस होनहार डॉक्टर की जान बचाई जा सकती थी। उन्होंने कहा कि केजरीवाल का डेंगू से निपटने का अभियान 'दस हफ्ते, दस बजे, दस मिनट' फुस्स साबित हो गया है और ना ही उन्होंने इससे निपटने की कोई रणनीति बनाई है और ना ही दिल्ली के इलाकों में फॉगिग अभियान चलाया है, जिसकी वजह से यह हालत हो गई है।