BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

वकीलों की हड़ताल कल भी रहेगी जारी, तीस हजारी में वकीलों ने संभाली सुरक्षा जिम्मेदारी


नयी दिल्ली : दिल्ली की जिला अदालतों के वकीलों ने बृहस्पतिवार को लगातार चौथे दिन काम से दूर रहने का फैसला किया है क्योंकि तीस हजारी अदालत में झड़प में शामिल पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार करने की उनकी मांग नहीं पूरी की गयी है। बार संघों के सदस्यों ने बुधवार को यह बात कही। 

वहीं, तीस हजारी अदालत में पुलिसकर्मियों के मौजूद नहीं रहने पर वकीलों ने वहां की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाली। जिला अदालतों में वकीलों ने दो नवंबर को तीस हजारी अदालत में उनके और दिल्ली पुलिस के जवानों के बीच झड़प का विरोध करते हुए चार नवंबर से काम करना बंद कर रखा है। 

तीस हजारी अदालत में दिल्ली बार एसोसिएशन के सचिव जयवीर सिंह चौहान ने कहा, ‘‘न्याय होने तक बहिष्कार जारी रहेगा। हम दोषियों की गिरफ्तारी चाहते हैं। वादी अदालत में आ सकेंगे उनका कल भी स्वागत किया जाएगा। हमने उनके लिए चाय-पानी की व्यवस्था करने का फैसला किया है।’’ उन्होंने कहा कि तीस हजारी अदालत परिसर में कोई पुलिसकर्मी मौजूद न होने के कारण वकीलों ने ही सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाली । 

चौहान ने कहा, ‘‘हमने पुलिस को परिसर में प्रवेश करने से नहीं रोका है, वे खुद अंदर नहीं आना चाहते। बार ने वहां सुरक्षा का जिम्मा संभाला है। वकीलों ने अदालत परिसर में आने वाले वादियों की सुरक्षा जांच की।’’ 

दिल्ली में सभी जिला अदालतों के बार संघों की समन्वय समिति के महासचिव और साकेत बार एसोसिएशन के सचिव धीर सिंह कसाना ने कहा, ‘‘हड़ताल जारी रहेगी। कल शांतिपूर्ण प्रदर्शन होंगे।वादियों को अंदर आने दिया जाएगा।

उन्हें आज साकेत अदालत में नहीं आने दिया गया क्योंकि वहां कोई पुलिसकर्मी तैनात नहीं था। वहां सुरक्षा को लेकर चिंताएं हैं। हमें कोई रास्ता निकालना होगा। अगर कोई पुलिसकर्मी नहीं आया तो वकील कल सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक सुरक्षा जांच करेंगे।’’