BREAKING NEWS

देखें Video : छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल◾चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾हिंदू मंदिरों के अधिकार हिंदू श्रद्धालुओं को सौंपे जाएं, कुछ मंदिरों में हो रही है लूट - मोहन भागवत◾जनरल नरवणे भारत-श्रीलंका के बीच सैन्य अभ्यास के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए, दोनों दस्तों के सैनिकों की सराहना की◾अफगानिस्तान: कंधार में शिया मस्जिद को एक बार फिर बनाया गया निशाना, विस्फोट में कई लोगों की मौत ◾सिंघु बॉर्डर आंदोलन स्थल पर जघन्य हत्या की SKM ने की निंदा, कहा - निहंगों से हमारा कोई संबंध नहीं ◾अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना कठिन◾सिंघु बॉर्डर पर युवक की विभत्स हत्या पर बोली कांग्रेस - हिंसा का इस देश में स्थान नहीं हो सकता◾पूर्व PM मनमोहन की सेहत में हो रहा सुधार, कांग्रेस ने अफवाहों को खारिज करते हुए कहा- उनकी निजता का सम्मान किया जाए◾रक्षा क्षेत्र में कई प्रमुख सुधार किए गए, पहले से कहीं अधिक पारदर्शिता एवं विश्वास है : पीएम मोदी ◾PM मोदी ने वर्चुअल तरीके से हॉस्टल की आधारशिला रखी, बोले- आपके आशीर्वाद से जनता की सेवा करते हुए पूरे किए 20 साल◾देश ने वैक्सीन के 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान ने कायम किया रिकॉर्ड◾शिवपाल यादव ने फिर जाहिर किया सपा प्रेम, बोले- समाजवादी पार्टी अब भी मेरी प्राथमिकता ◾जेईई एडवांस रिजल्ट - मृदुल अग्रवाल ने रिकॉर्ड के साथ रचा इतिहास, लड़कियों में काव्या अव्वल ◾दिवंगत रामविलास पासवान की पत्नी रीना ने पशुपति पारस पर लगाए बड़े आरोप, चिराग को लेकर जाहिर की चिंता◾सिंघू बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास बैरिकेड से लटकी मिली लाश, हाथ काटकर बेरहमी से हुई हत्या ◾कुछ ऐसी जगहें जहां दशहरे पर रावण का दहन नहीं बल्कि दशानन लंकेश की होती है पूजा◾

जानिए ! दिल्ली नगर निगम चुनाव को लेकर BJP का क्या है खास प्लान?

अगले साल राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में होने वाले नगर निगम (MCD) के चुनाव को लेकर बीजेपी ने अभी से कमर कसनी शुरू कर दी है। बीजेपी की कोशिश है कि 2007 से नगर निकाय पर शासन कर रही बीजेपी अपनी जीत को दोहराई जाए।

दिलचस्प बात यह है कि नागरिक मोर्चे पर शासन करने के बावजूद, भगवा पार्टी 1998 से राष्ट्रीय राजधानी में सरकार बनाने में असमर्थ रही है।

जानिए ! क्या हैं MCD चुनावों के लिए पार्टी का एजेंडा

अगले साल अप्रैल में होने वाले MCD चुनावों के लिए पार्टी के एजेंडे में क्या है, यह जानने के लिए समाचार एजेंसी ने बीजेपी दिल्ली अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता से बात की।

जब उनसे पूछा गया कि अगर MCD को 2012 से पहले के स्वरूप में बहाल कर दिया जाता है, तो उनके सभी वित्तीय मुद्दे हल हो जाएंगे। क्या आप भी ऐसा ही सोचते हैं?

इस पर उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि नगर निकायों का एकीकरण इस समस्या का समाधान है, क्योंकि निगम का तीन भागों में बंटवारा इसे बेहतर ढंग से चलाने के लिए किया गया था। दिल्ली नगर निगम एक धर्मार्थ संगठन की तरह है, जो उन लोगों के स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित मुद्दों को देखता है, जो इन बुनियादी सुविधाओं को स्वयं वहन नहीं कर सकते हैं। इसलिए, निगम को दिल्ली सरकार की सहायता MCD के उचित कामकाज का अभिन्न अंग है, लेकिन दुर्भाग्य से, आज नगर निगम (नगर परिषद) को एक राजनीतिक हथकंडे के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है और इसे वह सभी सहायता नहीं मिल रही है, जिसकी उसे आवश्यकता है।

अगला प्रश्न : कोविड-19 के बाद MCD में क्या बदलाव देखने को मिले हैं?

इस पर उनका जबाव था- महामारी के दौरान एमसीडी की अपनी चुनौतियां थीं, लेकिन नगरसेवकों ने उन बाधाओं से परे देखा और शहर के सुचारु कामकाज के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ काम करते रहे। तो एक तरह से इस मुश्किल घड़ी ने एमसीडी और भाजपा दोनों को दिल्ली की जनता की सेवा करने का मौका दिया।

प्रश्न- अगर चौथी बार MCD चुनाव जीतती है, तो बीजेपी की सर्वोच्च प्राथमिकता कौन से मुद्दे होंगे?

जबाव- दिल्ली में कचरे और उसके प्रबंधन की एक बड़ी समस्या है, तो यह हमारा मुख्य फोकस होगा। नगर निगम के स्कूलों और अस्पतालों के समुचित संचालन को सुनिश्चित करने के अलावा, हम शहर से डेंगू को जड़ से खत्म करने के लिए भी कदम उठाएंगे।

पिछले कुछ वर्षों में, हमने 300 से अधिक कचरा संग्रह केंद्र को बंद कर दिया है, जो खुले में हुआ करते थे, जिससे और भी अधिक गंदगी और बीमारियां होती थीं और उनके स्थान पर कम्पेक्टर लगाए गए थे। इन कम्पेक्टरों से कचरा प्रसंस्करण इकाई में जाता है। इस कदम से राजधानी में सफाई के स्तर में सुधार आया है। इसी तरह नगर निगम के स्कूलों और अस्पतालों की स्थिति में भी सुधार हुआ है।

प्रश्न- दिल्ली हाई कोर्ट ने हाल ही में कहा है कि राष्ट्रीय राजधानी नागरिक मोर्चे पर विफल रही है, क्योंकि डेंगू के मामले फिर से बढ़ रहे हैं। इस पर क्या कहना चाहते हो?

जबाव- पिछले कुछ सालों की तुलना में दिल्ली में डेंगू के मामले वास्तव में कम हुए हैं। MCD मच्छरों के प्रजनन का सफाया करने के लिए क्षेत्रों की जांच और फ्यूमिगेटिंग भी कर रही है। अभी वायरल संक्रमण अभी भी नियंत्रण में है।