नई दिल्ली: दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग में कथित घोटाले व व्याप्त अनियमितताओं की जांच की मांग को लेकर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने शनिवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल को ज्ञापन सौंपा। इस ज्ञापन के माध्यम से उन्होंने सरकारी अस्पतालों एवं मोहल्ला क्लीनिकों में हो रही व्यापक धांधलियों की ओर एलजी का ध्यान खींच कर जांच एवं उचित कार्रवाई की मांग की। ज्ञापन में कहा गया है कि दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अधीन जीबी पंत अस्पताल में एमआरआई मशीन एक साल से ज्यादा समय से खराब पड़ी है। वहीं गुरु तेग बहादुर, लोक नायक जय प्रकाश एवं डॉ. बीआर अंबेडकर जैसे बड़े अस्पतालों में भी अन्य आवश्यक मशीनें खराब पड़ी हैं।

केजरीवाल सरकार द्वारा स्थापित सीपीए में भी धांधली के कई मामले सामने आए हैं। दिल्ली के अधिकतर अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों के साथ ही कुछ चालू मोहल्ला क्लीनिकों में पैरामेडिकल स्टॉफ एवं फार्मिस्टों के साथ ही डॉक्टरों की भी कमी है। मरीजों को कई दवाइयां बाजार से लेने को कहा जाता है। इस मौके पर तिवारी ने कहा कि भाजपा द्वारा पहले उठाये गए कुछ मामलों को मीडिया ने उठाया है। उन्होंने स्टिंग कर सच को दिखाया है। मनोज तिवारी ने उपराज्यपाल से अनुरोध किया कि वह दिल्ली के मुख्य सचिव से स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अस्पतालों एवं मोहल्ला क्लीनिकों पर रिपोर्ट मांगें।

साथ ही मामले की जांच को एसीबी को सौंप दें। तिवारी ने कहा कि समाचार पत्रों एवं टीवी चैनलों की स्टिंग जांच ने भाजपा द्वारा केजरीवाल सरकार के स्वास्थ्य विभाग में चल रही व्याप्त अनियमितताओं के आरोपों की पुष्टि की है और हम उपराज्यपाल से मांग करते हैं कि इनकी जांच का काम उपयुक्त एजेंसी को सौंपी जाए। एलजी ने भाजपा नेताओं को मामले की उचित जांच का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि एक विशेष ऑडिट के रूप में भी जांच हो सकती है।