BREAKING NEWS

देश में कोरोना के 4067 मामलों में से 1445 तबलीगी जमात से सम्बन्धित : स्वास्थ्य मंत्रालय◾केंद्र का बड़ा फैसला, PM सहित कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों के वेतन में 30 फीसदी की होगी कटौती◾PM मोदी ने की वीडियो लिंक के जरिये पहली बार कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता◾कोरोना की चपेट में आई मुकेश अंबानी की संपत्ति, 2 महीने में 28 प्रतिशत गिरकर हुई 48 अरब डॉलर◾कांग्रेस प्रवक्ता बोले- पेट्रोल-डीजल पर मुनाफा जनता के साथ साझा करें सरकार◾मौलाना साद को क्राइम ब्रांच ने भेजा दूसरा नोटिस, पहले नोटिस में नहीं दिए थे सवालों के जवाब◾BJP स्थापना दिवस पर PM मोदी बोले- कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में जीत हो यही देश का लक्ष्य और संकल्प है◾BJP विधायक ने PM मोदी की सोशल डिस्टेंसिंग की अपील की उड़ाई धज्जियां, समर्थकों के साथ सड़क पर निकाला जुलूस◾इंसानों के बाद जानवरों पर कोरोना की मार, न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर की बाघिन हुई संक्रमित ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों की संख्या 4000 के पार, 109 लोगों की अब तक मौत◾BJP स्थापना दिवस पर PM मोदी, नड्डा और शाह ने कार्यकर्ताओं को दी शुभकामनाएं, कहा- एकजुट होकर देश को कोविड-19 से करें मुक्त◾भोपाल में कोविड-19 से 52 वर्षीय व्यक्ति की हुई मौत, कोरोना से मरने वालो का आकंड़ा 14 हुआ ◾ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन कोरोना वायरस से संबंधी जांचों के लिए अस्पताल में हुए भर्ती ◾अमेरिका में कोरोना वायरस से संक्रमितो की संख्या 3,37,274 हुई, पिछले 24 घंटो में 1200 लोगों ने गवाई जान ◾प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान पर उनकी मां ने भी दीया जलाया◾लॉकडाउन: दिल्ली पुलिस ने शब-ए-बारात के दिन मुस्लिम समुदाय के लोगों से घरों में रहने का आग्रह किया◾PM मोदी की अपील पर देश भर में घरों के बल्ब और ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर नहीं पड़ा कोई असर, सबकुछ सामान्य◾कश्मीर से कन्याकुमारी तक लोगों ने कोरोना से लड़ने का लिया संकल्प◾कोविड 19 : कोरोना के खिलाफ एकजुट दिखा भारत, मोदी की अपील पर देशवासियों समेत कई बड़े नेताओं ने जलाए दीये ◾रक्षा प्रमुख अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने दिल्ली में कोविड-19 शिविर का किया दौरा◾

राष्ट्रवाद से ही मीडिया आरंभ होता है : किरण चोपड़ा

नई दिल्ली : राष्ट्रवाद से ही मीडिया आरंभ होता है। मीडिया, साहित्य और राष्ट्रवाद का जो विषय आज यहां चुना गया है, इसका मेरे और मेरे परिवार के जीवन में बहुत असर है। या यूं कहें कि ये तीनों शब्द मिलकर पंजाब केसरी बनाते हैं। यह कहना है वरिष्ठ नागरिक केसरी क्लब की चेयरपर्सन किरण चोपड़ा का। मौका था दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के पीजीडीएवी (सांध्य) कॉलेज द्वारा आयोजित दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का। कार्यक्रम के अंतिम दिन के तीसरे सत्र में मीडिया, राष्ट्रीयता और राष्ट्रवाद पर चर्चा की गई, जिसकी अध्यक्षता प्रोफेसर कुमुद शर्मा (हिन्दी विभाग, डीयू) ने की।

इस दौरान विशिष्ट अतिथि किरण चोपड़ा, मुख्य वक्ता प्रो. अरुण कुमार भगत (पत्रकारिता विभाग, भोपाल) और कॉलेज के प्राचार्य डॉ. रविंद्र कुमार गुप्ता मौजूद रहे। मंच का संचालन डॉ. ज्योत्सना प्रभाकर और कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डॉ. हरीश अरोड़ा ने दिया। डॉ. हरीश अरोड़ा ने कहा कि मैं नियमित रूप से पंजाब केसरी संपादकीय पढ़ता हूं, अश्विनी कुमार चोपड़ा जी जिस प्रकार निर्भीकता के साथ इसे लिखते हैं वह सराहनीय है।

लाजपत राय की पत्रिका 'जय हिंद' से शुरू हुआ सफर... किरण चोपड़ा ने बताया कि आजादी की लड़ाई के समय से ही हिंदी पत्र-पत्रिकाओं का विशेष महत्व रहा है। लाला लाजपत राय और बाल गंगाधर तिलक ने जयहिंद पत्रिका की शुरुआत की, उस समय मेरे ग्रेट ग्रांड फादर इन लॉ लाला जगत नारायण जी इसके एडिटर थे। उन्होंने न केवल पत्रकारिता बल्कि आजादी की लड़ाई में भी योगदान दिया। 16 साल उन्हें जेल में रखा गया। उस वक्त क्रांतिकारियों को संदेश देने के लिए पत्र का व्यवहार किया जाता था। धीरे-धीरे पत्र पेज बना और फिर कई पेज बनकर अखबार का रूप लिया।

और उसी से हमारे परिवार का अखबार शुरू हुआ 'हिंद समाचार' जो मेरे दादा ससुर ने शुरू किया। उनकी पत्रकारिता राष्ट्रवादी थी इसलिए वो दोनों देश की एकता और अखंडता को कायम रखते हुए शहीद हुए। पंजाब आतंकवाद के समय उन्होंने निष्पक्ष, निर्भीक और निडर पत्रकारिता करते हुए शहादत को प्राप्त किया। उसके बाद अश्विनी जी ने उनकी कलम को थामा जो पंजाब केसरी के नाम से आज भी जारी है। पंजाब केसरी ने कभी पत्रकारिता से समझौता नहीं किया और न ही करेगा।

पत्रकारिता में निर्भीकता जरूरी है... डॉ. कुमुद शर्मा ने कहा कि आज के दौर में निर्भीक पत्रकारिता की जरूरत है। ग्लोबल मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता के मायने बदल गए हैं। पहले मीडिया में एडिटर हुआ करते थे लेकिन आज उनका स्थान मार्केटिंग एडिटर ने ले लिया है। धीरे-धीरे अखबारों से एडिटर की सत्ता छिनती जा रही है। उन्होंने दशकों पहले का टेलिविजन में आने वाले धारावाहिक की पटकथा से इसे समझाने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि 90 के दशक में दो सीरियल हमलोग और बुनियाद आता था। जिसमें एक मध्यम वर्ग परिवार के लोगों द्वारा अभाव में भी सुंदर भविष्य की कल्पना दिखती थी और बुनियाद देशबोध को दर्शाता था। ग्लोब्लाइजेशन के दौर में इसका स्वरूप बदला और धारावाहिक जुनून आया और नायक का स्थान खलनायक ने ले लिया जो प्रेमिका को खुश करने के लिए कोई भी काम कर सकता है। वैसे ही आज अखबारों से खबर गायब और विज्ञापन स्थान घेरता जा रहा है। लेकिन सोशल मीडिया से आपको कुछ राहत जरूर मिलती है।

तो इसलिए पत्रकारिता बेस्ट... प्रो. अरुण भगत ने कहा कि आज भी राष्ट्र पत्रकारिता से प्रेरणा ग्रहण करता है। देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है। समाचार पत्रों में लिखते समय राष्ट्र को सर्वोपरि रखा जाता है। देश में जब युद्ध, विषम परिस्थितियां और आंतरिक कलह या अलगाववाद आता है तो पत्रकारिता का महत्व और बढ़ जाता है। आजादी के समय अखबारों में राष्ट्रीयता दिखाई देती थी। लेकिन आज के समय में कुछ टीवी चैनलों और अखबारों के जरिए देश की नकारात्मक खबरों को प्रमुखता दी जाती है। जबकि देश में सकारात्मक घटनाएं 80 प्रतिशत होती है और नकारात्मक महज 20 प्रतिशत। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पत्रकारिता के माध्यम से ऐजेंडा तैयार किया जाता है। इसलिए आज राष्ट्रीयता और राष्ट्रवाद की जरूरत बढ़ गई है।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये पंजाब केसरी की अन्य रिपोर्ट।