BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾

विधायक कपिल मिश्रा की सदस्यता रद्द​

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने आम आदमी पार्टी (आप) के बागी विधायक कपिल मिश्रा को शुक्रवार को अयोग्य घोषित कर दिया। करावल नगर से विधायक कपिल के खिलाफ आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने दल-बदल कानून के तहत कार्रवाई की मांग की थी। 

इस बारे में विधानसभा की तरफ से एक बयान जारी किया गया है जिसके अनुसार करावल नगर से विधायक कपिल मिश्रा को संविधान की 10वीं अनुसूची के पैराग्राफ 2(1)(ए) के तहत अयोग्य घोषित किया जाता है। मिश्रा का निष्कासन 27 जनवरी 2019 से प्रभावी रहेगा। इसके बाद अब करावल नगर की सीट रिक्त मानी जाएगी। 

वहीं विधानसभा सदस्यता रद्द किए जाने पर कपिल मिश्रा ने कहा कि मोदी जी के लिए अभियान चलाने पर मैं एक क्या सौ बार विधायक की कुर्सी कुर्बान कर सकता हूं। एक तरफ देशभक्त और एक तरफ टुकड़े-टुकड़े गैंग है। मैं सारी दिल्ली के साथ खड़ा था। अभी मोदी के लिए दिल्ली के सातों सीटें के लिए अभियान चलाया और अब विधानसभा चुनाव में साठ सीटों के लिए अभियान चलाऊंगा। 

कपिल ने कहा कि जिस प्रकार से इस पूरे मामले की सुनवाई की गई, आधी सुनवाई के बीच में फैसला सुनाया गया व मुझे कोई भी गवाह व तथ्य रखने की अनुमति नहीं दी गई, एक तरह से कानून व विधानसभा का मजाक उड़ाया गया है। जिस प्रकार कानून व प्रक्रियाओं की धज्जियां उड़ाई गईं, ऐसा लोकतंत्र के इतिहास में पहली बार हुआ है। कोर्ट में ये आदेश एक दिन भी नहीं टिक पाएगा। इस अलोकतांत्रिक, गैरकानूनी और विधानसभा व जनता का अपमान करने वाले कानून के खिलाफ कोर्ट जाऊंगा।

‘भाजपा नेतृत्व मिश्रा को पार्टी में शामिल करने को तैयार नहीं’

कपिल मिश्रा की सदस्यता रद्द किये जाने पर दिल्ली में राजनीति शुरु हो गई है। कपिल मिश्रा की सदस्यता पर मनोज तिवारी के बयान के बाद अब आप ने तिवारी पर निशाना साधा है। आप के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि तिवारी बहुत कोशिश कर रहे हैं लेकिन भाजपा नेतृत्व कपिल मिश्रा को औपचारिक रूप से शामिल करने के लिए तैयार नहीं है। 

ऐसा इसीलिए है क्योंकि दिल्ली विधानसभा में अपनी टेलीफोनिक रिकॉर्डिंग चलाने के लिए भाजपा के नेता कपिल मिश्रा से बहुत नाराज़ हैं। साथ ही भारद्वाज ने आरोप लगाया कि मिश्रा अपने करावल नगर इलाके से फरार हो गया है। कपिल कोई और विधानसभा ढूढ रहे हैं लेकिन कोई भी पार्टी उन्हें शामिल नहीं करेगी।

केजरीवाल के खिलाफ आवाज उठाने वाले को दिखाया बाहर का रास्ता : मनोज तिवारी 

अरविन्द केजरीवाल सरकार में मंत्री रहे कपिल मिश्रा की विधानसभा सदस्यता रद्द करने के मसले पर टुकड़े-टुकड़े गैंग पर कटाक्ष करते हुए दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि जब कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर व्यक्तिगत टिप्पणी की और दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सियासी जमीन को हिला कर रख दिया तो केजरीवाल ने किस के दबाव में आकर कोई कार्रवाई नहीं की थी। 

यदि केजरीवाल के लिए भ्रष्टाचार, रिश्वतखोरी करना कोई गुनाह था और वह इसको संरक्षण नहीं देते थे तो पिछले दो साल से विधायक मिश्रा की सदस्यता खत्म करवाने के लिये किसके आदेश का इंतजार कर रहे थे। सच्चाई तो यह है कि कपिल मिश्रा ने केजरीवाल की सियासी जमीन की ईंट से ईंट बजा दी थी तब केजरीवाल मौन साध कर क्यों बैठे थे ? जबकि हर छोटी-बड़ी घटना पर केजरीवाल तुरन्त कार्रवाई करते हैं। 

केजरीवाल अपने खिसकते जनाधार को बचाने के लिए हर वो काम कर रहे हैं, जो उन्हें एक संवैधानिक पद पर बैठे हुए नहीं करना चाहिए। मिश्रा ने यदि राष्ट्र निर्माण में अपनी भागीदारी के लिए प्रचार किया है तो क्या यह गुनाह है?