BREAKING NEWS

आज का राशिफल (28 सितम्बर 2020)◾IPL 2020 : राजस्थान रायल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 4 विकेट से हराया ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम बरकरार, बीते 24 घंटे में 18,056 नए केस, 380 की मौत ◾मप्र उपचुनाव : कांग्रेस ने 9 और उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी, भाजपा के तीन नेताओं को मिला टिकट◾कोविड-19 : सत्येंद्र जैन ने कहा- पिछले 10 दिनों में दिल्ली में मृत्यु दर एक फीसदी से नीचे रही◾संसद से पारित तीनों कृषि संबंधी विधेयकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी◾IPL 2020 RR vs KXIP : राजस्थान ने जीता टॉस, पंजाब को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾फिल्मकार अनुराग कश्यप की गिरफ्तारी में देरी होने पर पायल घोष ने उठाए सवाल ◾बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में हुए शामिल, कहा- नहीं समझता राजनीति◾विधानसभा चुनाव के लिए बिहार में तैनात होंगे 30,000 जवान, गृह मंत्रालय ने दिए निर्देश◾मतदाताओं को लुभाने की कवायद में जुटे राजनीतिक दल, तेजस्वी ने 10 लाख युवाओं को नौकरी देने का किया वादा◾पूर्व सैन्य अधिकारी होने के बावजूद एक दक्ष नेता के तौर पर जसवंत ने हमेशा दिखाई राजनीतिक ताकत◾चीन को जवाब देने के लिए भारत पूरी तरह तैयार, लद्दाख में तैनात किए T-90 और T-72 टैंक◾मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सम्मेलन से विधायक ‘आउट’, मच गया बवाल

पूर्वी दिल्ली : कहते हैं राजनीति में कोई किसी का सगा नहीं होता। पूर्वी दिल्ली लोकसभा में आयोजित भाजपा के शहरी केंद्र प्रमुख सम्मलेन में विश्वास नगर से ​विधायक ओपी शर्मा की नजरअंदाजी को लेकर हुए बवाल ने इस बात को एक बार फिर सही साबित कर दिया है। 

दरअसल बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याम जाजू की अध्यक्षता में होने वाले इस कार्यक्रम में सांसद गौतम गंभीर समेत प्रदेश के तीन सदस्य, ईडीएमसी मेयर, डिप्टी मेयर, स्टेंडिंग कमेटी चेयरमैन, नेता सदन, जिलाध्यक्ष, पूर्वांचल मोर्चा जिलाध्यक्ष व अन्य लोग आमंत्रित थे, लेकिन पूरी लोकसभा में पार्टी के एक मात्र विधायक ओपी शर्मा को ​निमंत्रण तक नहीं भेजा गया था। 

बावूजद इसके पार्टी के प्रति अपनी लगन के दिखाने के लिए विधायक बिन बुलाए मेहमान बनकर कार्यक्रम में शामिल होने पहुंच गए। हालांकि पहुंचने के बावजूद उन्हें तवज्जो नहीं दी गई, इससे उन्होंने खुद को अपमानित महसूस किया और वापस लौट जाना ही सही समझा। ​अब विधायक तो वापस लौट गए, लेकिन उनके चारों मंडलों के अध्यक्षों ने विरोध जाहिर करते हुए कार्यक्रम में नारेबाजी शुरू कर दी। 

सभी ने गंदी राजनीति नहीं चलेगी...ओमप्रकाश शर्मा जिंदाबाद... जिलाध्यक्ष मुर्दाबाद जैसे कई नारे लगाए। सब कुछ राष्ट्रीय उपा​ध्यक्ष के सामने हुआ। विरोध जाहिर करने के बाद विधायक के समर्थक भी वहां से चले गए। मगर कार्यक्रम शुरू होते ही हुए इस बवाल ने पार्टी के लोगों के बीच चल रही फूट सबके सामने आ गई है। बता दें कि चुनाव के मद्देनजर पार्टी दिल्ली की सभी लोकसभा में शहरी केंद्र प्रमुख सम्मेलन करा रही है। 

इसी कड़ी में रविवार को कार्यक्रम पूर्वी लोकसभा में रखा गया था। झिलमिल इलाके एक बैंकट हॉल में आयोजित इस कार्यक्रम के लिए इलाके में कई होर्डिंग भी लगे हुए थे। जिसमें तमाम नेताओं के नाम व फोटो थे, लेकिन लोकसभा से इकलौते विधायक की फोटो और नाम कहीं नहीं था, न ही उन्हें निमंत्रण भेजा गया था। ऐसे में जब विधायक वहां पहुंच गए तो भी उन्हें सम्मान नहीं दिया गया। मंच पर जिलाध्यक्ष तक के बैठने के लिए कुर्सी और नाम की प्लेट रखी हुई थी, लेकिन विधायक की नहीं।

इसलिए हुई विधायक की नजरअंदाजी...

विधायक की नजरअंदाजी के लिए समर्थक प्रदेश उपाध्यक्ष मोनिका पंत, प्रदेश महामंत्री कुलजीत चहल को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। दरअसल समर्थकों का कहना है कि ये दोनों विश्वास नगर विधानसभा से टिकट मिलने का दावा कर रहे हैं। ओम प्रकाश शर्मा इसी सीट से मौजूदा विधायक हैं। कहा जा रहा है कि अपनी राजनीति चमकाने और विधायक को कमजोर दिखाने के लिए दोनों नेताओं में जिलाध्यक्ष राम किशोर शर्मा के साथ मिलकर विधायक को नजरअंदाज कराया है। यही कारण है कि वहां गंदी राजनीति नहीं चलने देने के नारे भी लगाए गए।

दिखावे के लिए हाथ से लिखकर लगाई  नेमप्लेट

कार्यक्रम में मौजूद कार्यकर्ताओं की माने तो जैसे ही वरिष्ठ नेताओं को लगा कि बवाल होने वाला है तो तुरंत एक कागज पर विधायक का नाम लिखकर उनके नाम की जुगाड़ू नेमप्लेट भी बनवाई गई थी। मगर ये दिखावा सम्मेलन में होने वाले बवाल को रोक नहीं पाया। वहीं विधायक की नजरअंदाजी पर श्याम जाजू की चुप्पी ने आग में घी डालने का काम किया। जब उन्होंने कुछ नहीं बोला तो कार्यक्रम में नारेबाजी शुरू हो गई।