BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 224 लोगों की मौत, 5134 नये मामले ◾दिल्ली में कोरोना का कोहराम जारी, बीते 24 घंटे में 2008 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1,02,831 तक पहुंचा◾पश्चिम बंगाल: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते कोलकाता में फिर से लग सकता है लॉकडाउन ◾CBSE का बड़ा ऐलान, अगले साल 9वीं से 12वीं क्लास के सिलेबस में 30 फीसदी की होगी कटौती, बोर्ड ने ट्वीट कर दी जानकारी◾भारत में कोरोना टेस्टिंग का आंकड़ा पहुंचा 1 करोड़ के पार, मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾भारत-चीन बॉर्डर पर IAF ने दिखाया अपना दम, चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान◾विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस की 50 टीमें, चौबेपुर थाने में 10 कॉन्स्टेबल का हुआ तबादला◾कोरोना वायरस : देश में मृतकों का आंकड़ा 20 हजार के पार, संक्रमितों की संख्या सवा सात लाख के करीब ◾पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी मार गिराया, सेना का एक जवान भी हुआ शहीद ◾चीन मुद्दे पर US ने एक बार फिर किया भारत का समर्थन, कहा- अमेरिकी सेना साथ खड़ी रहेगी◾विश्वभर में कोविड-19 मरीजों की संख्या 1 करोड़ 15 लाख से अधिक, मरने वालों का आंकड़ा 5 लाख 3 हजार के पार ◾US में कोरोना संक्रमितों की संख्या 29 लाख के पार, अब तक 1 लाख 30 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾गृह मंत्रालय से विश्वविद्यालयों को मिली हरी झंडी, परीक्षाएं कराने की मिली अनुमति◾महाराष्ट्र में कोरोना के 5,368 नए मामले आये सामने, 204 और मरीजों की मौत◾वांग - डोभाल बातचीत के बाद बोला चीन - LAC पर सैनिकों को पीछे हटाने का काम जल्द से जल्द किया जाना चाहिए ◾दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1 लाख के पार, देशभर में 7 लाख से ऊपर पहुंची संक्रमितों की संख्या◾कांग्रेस का पलटवार - चीन के खिलाफ मजबूत होती सरकार तो नड्डा को ‘झूठ’ नहीं बोलना पड़ता◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली -NCR में प्रदूषण पर बैठक से सांसद गंभीर और शीर्ष अधिकारी गैरहाजिर रहे

दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में वायु प्रदूषण की गंभीर स्थिति पर शुक्रवार को चर्चा के लिए आयोजित सदस्यीय संसदीय समिति की बैठक में 28 में से महज चार सांसदों ने शिरकत की। गैर हाजिर सांसदों में पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर भी शामिल हैं। 

शीर्ष अधिकारी भी बैठक में अनुपस्थित रहे। इनमें पर्यावरण मंत्रालय के शीर्ष अफसर, दिल्ली विकास प्राधिकरण एवं नगर निगमों के आयुक्त शामिल हैं। 

शहरी विकास पर संसद की स्थायी समिति ने दिल्ली में वायु प्रदूषण और इसे घटाने के उपायों पर चर्चा करने के लिए विभिन्न सरकारी विभागों के शीर्ष अधिकारियों की एक बैठक बुलायी थी । 

इस बैठक में विभिन्न दलों के 24 सांसदों ने हिस्सा नहीं लिया । समिति में शामिल दिल्ली से भाजपा के एकमात्र नेता गौतम गंभीर की अनुपस्थिति को लेकर राजनीतिक विवाद शुरू हो गया। राष्ट्रीय राजधानी में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी ने भाजपा पर हमला बोला और प्रदूषण की समस्या के समाधान के प्रति भगवा पार्टी की गंभीरता पर सवाल उठाया । 

क्रिकेटर से नेता बने गौतम गंभीर दिल्ली में वायु प्रदूषण की खराब स्थिति को लेकर लगातार आवाज उठाते रहे हैं। वह इस समस्या से निपटने के उपाय की मांग करते रहे हैं। इंदौर में उन्हें टीवी पर टिप्पणी करते देखा गया था, जहां भारत और बांग्लादेश के बीच टेस्ट मैच चल रहा है । 

केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और विपक्षी कांग्रेस समेत विभिन्न दलों के 24 सांसद इस बैठक में शामिल नहीं हुए । 

गंभीर पर हमला बोलते हुए आम आदमी पार्टी ने ट्वीट कर कहा कि उनके (गंभीर) जैसे सांसद आनंद लेने में व्यस्त हैं जबकि आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने इस बैठक में हिस्सा लिया । 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली पार्टी ने सवाल उठाया, ‘‘गौतम गंभीर, वायु प्रदूषण पर क्या यही आपकी गंभीरता का स्तर है ।’’ 

दूसरी तरफ गंभीर ने बयान जारी कर कहा कि उनका काम उनके बारे में बताता है । उन्होंने कहा कि अगर उन्हें गाली देने से दिल्ली का प्रदूषण स्तर कम हो जाता है तो आम आदमी पार्टी ऐसा करने के लिए स्वतंत्र है । 

सिंह के अलावा जिन तीन सांसदों ने हिस्सा लिया उनमें कमेटी के अध्यक्ष तथा भाजपा सांसद जगदंबिका पाल एवं सी आर पाटिल तथा नेशनल कांफ्रेंस के हसनैन मसूदी शामिल हैं । 

इस बीच सूत्रों ने बताया कि बैठक में समिति के सदस्य पयार्वरण सचिव, दिल्ली विकास प्राधिकरण के चेयरमैन तथा नगर निगमों के अधिकारियों की गैर हाजिरी से खफा दिखे और इस मुद्दे को लोकसभा अध्यक्ष के समक्ष उठाने की योजना बना रहे हैं। 

सूत्रों ने बताया कि सदस्यों ने बैठक में मौजूद कनिष्ठ अधिकारियों से कहा कि वह अपने वरिष्ठों को बतायें कि उन्हें इस बैठक में शामिल होना चाहिए था । 

पर्यावरण मंत्रालय के अधिकारियों की अनुपस्थिति के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि वह मामले का पता लगायेंगे । 

जावड़ेकर ने कहा, ‘‘प्रदूषण के बारे में हम हमेशा गंभीर हैं । मैने जोर देकर कहा है कि प्रदूषण केवल दिल्ली की समस्या नहीं है । मैने एक संयुक्त कार्य योजना का आदेश दिया है । टीमें समन्वय के साथ काम कर रही हैं ।’’ 

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि पर्यावरण मंत्रालय के उप सचिव और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी बैठक में मौजूद थे । संयुक्त सचिव इस बैठक में हिस्सा नहीं ले सकी क्योंकि उन्हें एक महत्वपूर्ण मामले में उच्चतम न्यायालय में पेश होना था । 

प्रवक्ता ने यह भी बताया कि विस्तृत जानकारी शहरी विकास मंत्रालय को भेजा जाएगी । बैठक में प्रदूषण नियंत्रण के उपायों पर चर्चा होनी थी ।