BREAKING NEWS

शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना भाजपा की राष्ट्रीय प्रतिबद्धता थी : नड्डा ◾आजाद ने अपने गृह राज्य जाने की अनुमति के लिए उच्चतम न्यायालय का किया रुख◾सिद्धारमैया ने बाढ़ राहत को लेकर केन्द्र कर्नाटक सरकार की आलोचना की◾बेरोजगारी पर बोले श्रम मंत्री-उत्तर भारत में योग्य लोगों की कमी, विपक्ष ने किया पलटवार ◾INLD के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और निर्दलीय विधायक कांग्रेस में हुये शामिल ◾PAK ने इस साल 2,050 से अधिक बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, 21 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्रालय ◾PM मोदी,वेंकैया,शाह ने आंध्र नौका हादसे पर जताया शोक◾पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन◾न्यायालय में सोमवार को होगी अनुच्छेद 370 को खत्म करने, कश्मीर में पाबंदियों के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई◾TOP 20 NEWS 15 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आंध्र प्रदेश के गोदावरी में बड़ा हादसा : नाव पलटने से 13 लोगों की मौत, कई लापता◾संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

भाजपा के लगभग पांच दर्जन नेता पार्टी से निष्कासित

भोपाल : मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए नामवापसी की समय सीमा समाप्त होने के बाद भी पार्टी लाइन को नहीं मानने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लगभग पांच दर्जन नेताओं को प्रदेश संगठन ने छह वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया। भाजपा के सूत्रों ने आज यहां यूनीवार्ता को बताया कि कल नामवापसी का अंतिम दिन था। पार्टी ऐसे नेताओं को पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ने के लिए मना रही थी, जिन्होंने किसी अन्य दल के टिकट पर या निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकनपत्र दाखिल किया है। लगभग एक दर्जन नेताओं ने नाम वापस ले लिया, लेकिन पांच दर्जन नेता नहीं माने।

सूत्रों के अनुसार कल देर रात प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह की मौजूदगी में हुयी वरिष्ठ नेताओं की बैठक में बगावती तेवर दिखाने वाले ऐसे सभी नेताओं को छह वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया गया। इनमें मुख्य रूप से दमोह और पथरिया से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में डटे रहने वाले पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमारिया, गुना जिले के बामोरा से पूर्व मंत्री के एल अग्रवाल शामिल हैं। वहीं कांग्रेस ने झाबुआ जिले में जेवियर मेड़ और एक अन्य नेता को निष्कासित किया है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि शेष स्थानों पर पार्टी प्रत्याशी मान गए हैं या फिर वे निर्दलीय नहीं होकर अन्य दलों के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं, इसलिए वे स्वत: ही पार्टी से निष्कासित हो गए हैं।

राज्य में सभी 230 सीटों के लिए नामांकनपत्र दाखिले का कार्य 02 नवंबर को शुरू हुआ था और नौ नवंबर तक 4157 प्रत्याशियों की ओर से नामांकनपत्र दाखिल किए गए। नाम वापसी के अंतिम दिन बुधवार को 556 प्रत्याशियों ने नाम वापस लिए और अब लगभग 2900 प्रत्याशी मैदान में हैं। शेष लगभग सात सौ प्रत्याशियों के नामांकनपत्र जांच के दौरान तकनीकी खामियों के कारण निरस्त कर दिए गए थे। राज्य में अब भाजपा और कांग्रेस समेत विभिन्न दलों का चुनाव प्रचार अभियान तेज पकड़ रहा है।

सभी 230 सीटों पर एक ही चरण में 28 नवंबर को मतदान होगा और 11 दिसंबर को नतीजे आएंगे। भाजपा ने सभी 230 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं, जबकि कांग्रेस ने जतारा सीट लोकतांत्रिक जनता दल को गठबंधन के तहत छोड़कर शेष 229 सीटों पर उम्मीदवार खड़ किए हैं। भाजपा लगातार चौथी बार सरकार बनाने की कोशिश में है, तो कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में फिर से सत्ता हासिल करने के प्रयास में जुटी है।