BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

एनजीटी सख्त, दिल्ली सरकार पर ठोका दो लाख का जुर्माना

पश्चिमी दिल्ली : फसलों की खूंटी (स्टबल बर्निंग) जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने कोई एक्शन प्लान तैयार नहीं किया है। इसे लेकर एनजीटी ने दिल्ली सरकार की खिंचाई की है। साथ ही दो लाख का जुर्माना भी ठोका है। एनजीटी एक्टिंग जस्टिस जवाद रहीम की बेंच ने दिल्ली सरकार से पूछा कि पिछले आदेश के बावजूद शपथ पत्र (हलफनामा) में चीफ सेक्रेटरी के हस्ताक्षर क्यों नहीं थे? एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट के ज्वाइंट डायरेक्टर के हस्ताक्षर थे।

बेंच ने कहा कि यदि हम कोई दिशा-निर्देश देते हैं तो उसका अनुपालन किया जाना चाहिए। बेंच ने कहा कि दिल्ली सरकार जुर्माने की राशि का 25 फीसदी सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (सीपीसीबी) को, 25 फीसदी दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी (डीपीसीसी) के पास जमा करे। जबकि शेष राशि एनजीटी के पास रहेगी। बता दें कि फसलों की खूंटी (स्टबल बर्निंग) को जलाने से होने वाले प्रदूषण पर लगाम कसने के लिए एनजीटी ने दिल्ली समेत चार पड़ोसी राज्यों को एक्शन प्लान तैयार करने का निर्देश जारी किया था।

इस दौरान इसके तहत खूंटी जलाने से रोकने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के साथ ही बुनियादी ढांचा सहायता मुहैया कराने के लिए एक व्यापक नीति तैयार करने के लिए भी बेंच ने निर्देशित किया था। एनजीटी ने दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान व उत्तर प्रदेश की सरकारों को अपने एक्शन प्लान संबंधी एफिडेविट भी दाखिल करने के लिए निर्देशित किया था। उस दौरान भी बेंच ने दिल्ली व राजस्थान की सरकारों को फटकार भी लगाई थी। बेंच ने कहा था कि राज्य सरकारों ने मामले की जांच करने की बात कही थी और अब एक्शन प्लान पेश करने के लिए समय मांग रहे हैं। बेंच ने कहा कि फसलों के अवशेष को फिर से इस्तेमाल के लिए रिमूवल, कलेक्शन व स्टोरेज साइट तैयार करना राज्य सरकारों का दायित्व है। लेकिन इस मामले में कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें।