BREAKING NEWS

भारत को कोरोना से लड़ाई में ऐतिहासिक उपलब्धि, स्वस्थ मरीजों के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ बना शीर्ष◾चीन के लिए रक्षा संबंधी जासूसी करने वाले पत्रकार समेत एक चीनी महिला और नेपाली युवक गिरफ्तार◾कृषि बिल को लेकर चिदंबरम का बड़ा हमला : हर पार्टी तय करे कि वह किसानों के साथ है या भाजपा के साथ◾J&K में एक साल के लिए बिजली-पानी के बिल हुए आधे, व्यापारियों के लिए 1350 करोड़ के पैकेज का ऐलान ◾आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद राज्यपाल धनखड़ का ममता पर प्रहार, कहा - राज्य बना अवैध बम बनाने का घर◾जयपुर : ब्याज माफियाओं से परेशान होकर आभूषण व्यवसायी ने परिवार सहित लगाई फांसी ◾राहुल ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'भारतीय राष्ट्रवाद क्रूरता और हिंसा का साथ नहीं दे सकता'◾कुलभूषण जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए भारत की ''क्वींस काउंसल'' की मांग को पाक ने किया खारिज◾देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 53 लाख के पार, 85 हजार से अधिक मरीजों ने गंवाई जान◾कंगना रनौत की याचिका जुर्माने के साथ खारिज की जानी चाहिए : बीएमसी ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 3 लाख के पार ◾एनआईए ने आतंकवादी अल-कायदा मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, 9 लोग गिरफ्तार◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 21,656 नए केस, 405 की मौत ◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 4,127 नए केस, 30 की मौत ◾अधीर रंजन चौधरी ने अनुराग ठाकुर पर की विवादित टिप्पणी, लोकसभा में हुआ जमकर हंगामा◾नेपाल के स्कूलों में भारत के खिलाफ जहर, पाठ्य पुस्तकों में भारतीय हिस्सों वाला विवादित नक्शा शामिल ◾सीएम केजरीवाल की सभी गैर भाजपा दलों से अपील - राज्यसभा में कृषि विधेयकों का करें विरोध◾कांग्रेस का तीखा वार : सरकार से उठ चुका है किसानों का विश्वास, प्रधानमंत्री किसान विरोधी◾दिल्ली में 5 अक्टूबर तक सभी छात्रों के लिए बंद रहेंगे स्कूल, केजरीवाल सरकार ने जारी किया आदेश◾चीन ने पहली बार माना, खुलासे में बताया गलवान झड़प में मारे गए थे PLA के जवान◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निर्भया गैंगरेप: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की दोषी पवन की याचिका, अब फांसी तय

निर्भया गैंगरेप एवं हत्या मामले के गुनहगार पवन गुप्ता की फांसी से बचने का एक और प्रयास सोमवार को उस वक्त विफल हो गया जब सुप्रीम कोर्ट ने भी उसके 16 दिसम्बर 2012 की घटना के दिन नाबालिग होने का दावा खारिज कर दिया। 

न्यायमूर्ति आर भानुमति, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना की विशेष खंडपीठ ने दिल्ली हाई कोर्ट का इस मामले में 19 दिसम्बर 2019 का फैसला बरकरार रखते हुए पवन की याचिका खारिज कर दी। पीठ की ओर से न्यायमूर्ति भानुमति ने फैसला सुनाते हुए कहा कि पवन के नाबालिग होने का दावा निचली अदालत और हाई कोर्ट ने पहले ही खारिज कर दिया है और इस दावे पर विचार करने का याचिका में कोई विशेष आधार नजर नहीं आता। 

इससे पहले कोर्ट ने दोपहर बाद करीब 45 मिनट तक पवन के वकील ए पी सिंह तथा अभियोजन पक्ष की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की दलीलें सुनने के बाद फैसले के लिए 2 : 30 बजे का समय निर्धारित किया था, लेकिन पीठ करीब आधे घंटे देर से बैठी और उसने संक्षिप्त फैसला सुनाते हुए पवन की विशेष अनुमति याचिका खारिज कर दी। सुनवाई के दौरान पीठ में शामिल तीनों न्यायाधीशों ने पवन के वकील से कई अहम सवाल किए थे। 

बता दें कि पवन ने हाई कोर्ट के गत 19 दिसंबर के उस फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी थी, जिसने घटना के वक्त उसके नाबालिग होने की दलील खारिज कर दी थी। पवन ने अपनी याचिका में कहा था कि 16 दिसंबर, 2012 को निर्भया के साथ हुई हैवानियत के दिन वह नाबालिग था। 

याचिका में कहा गया था कि उसने इस बाबत हाई कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया था, लेकिन वहां से उसे राहत नहीं मिली थी और याचिका खारिज कर दी गयी थी। गौरतलब है कि उसने खुद को फांसी के फंदे से बचाने के लिए यह हथकंडा निचली अदालत में भी अपनाया था, जिसने इस संबंध में उसकी याचिका खारिज कर दी थी। उसके बाद उसने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। वहां से भी निराशा हाथ लगने के बाद पवन ने अब सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। 

16 दिसंबर 2012 को राजधानी में निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार किए जाने के बाद उसे गम्भीर हालत में फेंक दिया गया था। दिल्ली में इलाज के बाद उसे एयरलिफ्ट करके सिंगापुर के महारानी एलिजाबेथ अस्पताल ले जाया गया था, जहां उसकी मौत हो गई थी। 

इस मामले के छह आरोपियों में से एक नाबालिग था, जिसे सुधार गृह भेजा गया था। उसने वहां सजा पूरी कर ली थी। एक आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगा ली थी। चार अन्य दोषियों-पवन, मुकेश, अक्षय और विनय शर्मा को फांसी के लिए ब्लैक वारंट जारी किया जा चुका है।