BREAKING NEWS

पूर्व सैन्य अधिकारी होने के बावजूद एक दक्ष नेता के तौर पर जसवंत ने हमेशा दिखाई राजनीतिक ताकत◾चीन को जवाब देने के लिए भारत पूरी तरह तैयार, लद्दाख में तैनात किए T-90 और T-72 टैंक◾मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामलों का आंकड़ा 3 करोड़ 26 लाख और 9 लाख 90 हजार से अधिक की मौत◾एनआईए ने पश्चिम बंगाल से अल-कायदा के 10वें आतंकवादी समीम अंसारी को किया गिरफ्तार ◾आज का राशिफल (27 सितम्बर 2020)◾महागठबंधन में फूट : कांग्रेस बोली - मिले सम्मानजनक सीट नहीं तो 243 सीटों पर लड़ेंगे◾कृषि विधेयकों के मुद्दे पर अकाली दल ने NDA से तोड़ा 22 साल पुराना गठबंधन◾PM मोदी ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की◾देश के हितों की रक्षा करने में अपने सशस्त्र बलों की क्षमता पर विश्वास करने की जरूरत है : जयशंकर ◾KKR vs SRH (IPL 2020) : केकेआर ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया◾देश में कोरोना वायरस का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब पहुंची◾UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

देश को हिला देने वाले निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्या के मामले में ‘ब्लैक वारंट’ का सामना कर रहे दोषी पवन गुप्ता ने घटना की तारीख को नाबालिग होने का दावा करते हुए उच्चतम न्यायालय में एक विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) शुक्रवार को दायर की। 

पवन ने दिल्ली उच्च न्यायालय के गत 19 दिसंबर के उस फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी है, जिसने घटना के वक्त उसके नाबालिग होने की दलील खारिज कर दी थी। 

पवन ने अपनी याचिका में कहा है कि 16 दिसंबर, 2012 को निर्भया के साथ हुई हैवानियत के वक्त वह नाबालिग था। उसने कहा कि उसने इस बाबत उच्च न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया था, लेकिन वहां से उसे राहत नहीं मिली थी और याचिका खारिज कर दी गयी थी। 

गौरतलब है कि उसने खुद को फांसी के फंदे से बचाने के लिए यह हथकंडा निचली अदालत में भी अपनाया था, जिसने इस संबंध में उसकी याचिका खारिज कर दी थी। उसके बाद उसने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। वहां से भी निराशा हाथ लगने के बाद पवन ने अब सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया है। 

याचिका में कहा गया है कि जांच अधिकारियों ने उम्र का निर्धारण करने के लिए पवन की हड्डियों की जांच नहीं की थी। उसने अपने मामले को किशोर न्याय कानून की धारा सात (एक) के तहत चलाये जाने का अदालत से आग्रह किया है। 

उसने शीर्ष अदालत से आग्रह किया है कि नाबालिग होने के दावे की जांच के लिए अधिकारियों को उसकी अस्थि जांच का निर्देश दिया जाये। 

सोलह दिसंबर 2012 को राजधानी में निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार किये जाने के बाद उसे गम्भीर हालत में फेंक दिया गया था। दिल्ली में इलाज के बाद उसे एयरलिफ्ट करके सिंगापुर के महारानी एलिजाबेथ अस्पताल ले जाया गया था, जहां उसकी मौत हो गयी थी। 

इस मामले के छह आरोपियों में से एक नाबालिग था, जिसे सुधार गृह भेजा गया था। उसने वहां से सजा पूरी कर ली थी। एक आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगा ली थी। चार अन्य दोषियों- पवन, मुकेश, अक्षय और विनय शर्मा को फांसी के लिए ब्लैक वारंट जारी किया जा चुका है।