BREAKING NEWS

किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾आज का राशिफल (27 जनवरी 2021)◾ट्रैक्टर मार्च के दौरान हिंसा के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद◾दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा, लालकिले में भी प्रदर्शनकारियों ने मचाया उत्पात ◾प्रदर्शनकारी किसानों की ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान हिंसा में 86 पुलिसकर्मी घायल हुए◾ट्रैक्टर परेड के बाद किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर अपने प्रदर्शन शिविरों में लौटना शुरू किया◾बवाल : गाजीपुर, सिंघू, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड तोड़ दिल्ली में घुसे किसान, पुलिस ने दागे आंसूगैस के गोले ◾राजपथ पर अत्याधुनिक हथियार, मिसाइल, लड़ाकू विमानों, भारतीय सैनिकों ने दिखाई भारत की ताकत ◾72वां गणतंत्र दिवस : राजपथ पर दिखी ऐतिहासिक विरासत, सांस्कृतिक धरोहर और शौर्य की झलक◾पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की दी शुभकामनाएं ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एम्स में इस वर्ष साढ़े पांच लाख से अधिक मरीज नहीं पहुंचे इलाज कराने

देश के सबसे बड़े चिकित्सकीय संस्थान अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों की संख्या में भारी गिरावट दर्ज की गई है। करीब 12.41 फीसदी मरीजों के आने की संख्या कम हो गई है। सबसे ज्यादा एम्स के प्रमुख ओपीडी में गिरावट दर्ज की गई है। एम्स की ओर से तैयार किए गए वार्षिक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है। 

निर्भया के दोषियों से अंतिम मुलाकात के लिए जेल प्रशासन ने परिजनों को लिखा पत्र

रिपोर्ट पर नजर डालें तो पिछले सात वर्षों में सबसे कम मरीज इस वर्ष एम्स इलाज कराने के लिए पहुंचे हैं। हालांकि, मुख्य अस्पताल सहित एम्स के सभी सेंटरों में मरीजों के दाखिले, सर्जरी व प्रोसिजर बढ़े हैं। लगातार मरीजों की संख्या में आ रही गिरावट : एम्स में इलाज के लिए आने वाले मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट दर्ज कर रही है। वर्ष 2018-19 में एम्स की ओपीडी में कुल 38 लाख से अधिक मरीज आए थे। जबकि वर्ष 2017-2018 में 43 लाख से अधिक मरीज इलाज के लिए आए थे। इसका कारण मुख्य अस्पताल की ओपीडी में मरीजों की संख्या घटने के अलावा सीसीएम (सेंटर फॉर कम्यूनिट मेडिसिन) की सक्रियता कम होना है। 

मुख्य ओपीडी में 4 लाख से अधिक दर्ज की गई गिरावट 

रिपोर्ट के अनुसार, एम्स के प्रमुख ओपीडी राजकुमारी अमृत कौर में इस वर्ष 4 से अधिक मरीज इलाज कराने नहीं पहुंचे। इसी तरह आरपी सेंटर में 5 हजार से अधिक मरीज इस वर्ष इलाज कराने नहीं पहुंचे हैं। कम्युनिटी सेंटर में भी मरीजों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि इस रिपोर्ट के अनुसार कैंसर, हार्ट, डेंटल, ट्रॉमा सेंटर और झज्जर में बने आउटरिच सेंटरों के ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ी है। अस्पताल सूत्रों का कहना है कि सुपर स्पेशलिटी सेंटरों के ओपीडी में अभी भी मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है, जो इस बात का संकेत है कि बड़ी बीमारी में लोग अभी भी इलाज के लिए एम्स को पंसद कर रहे हैं।