BREAKING NEWS

दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने गृहमंत्री से की मुलाकात, कोरोना के हालात की स्थिति से कराया अवगत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 116 लोगों की मौत, 2,682 नए मामले ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अब सरकारी स्कूलों में भी होती है दाखिले की सिफारिश : सीएम

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को सरकारी स्कूलों में हुई मेगा पैरेंट टीचर्स मीटिंग (पीटीएम) में हिस्सा लिया। इस दौरान सीएम केजरीवाल दीनदयाल मार्ग स्थित सर्वोदय बाल विद्यालय में पहुंचे और डिप्टी सीएम ने पोचनपुर स्थित गवर्नमेंट को एड सीनियर सैकेंडरी स्कूल, सेक्टर-22 के स्कूल ऑफ एक्सिलेंस सहित द्वारका सेक्टर-2 स्थित गवर्नमेंट को एड सीनियर सैकेंडरी स्कूल का दौरा किया। 

दोनों ने अभिभावकों, बच्चों और शिक्षकों से बात की। इस दौरान कई अभिभावकों ने बताया कि उन्होंने अपने बच्चों को निजी स्कूल से निकालकर सरकारी स्कूल में दाखिल कराया है। बच्चों ने पिछले पांच साल में स्कूल में हुए तमाम बदलाव के लिए सीएम केजरीवाल का धन्यवाद किया। वहीं शिक्षकों ने सीएम को बताया कि उन्हें गर्व है कि वह सरकारी स्कूल के शिक्षक हैं।

20 प्राइवेट स्कूलों से 373 बच्चे आना चाहते थे सरकारी स्कूल 

डिप्टी सीएम ने कहा कि सरकार की कोशिश रहती है कि सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के सर्वांगीण विकास की जानकारी उनके माता-पिता को दी जाये। इस बार जब हम पीटीएम करवाना चाहते थे तो विरोधियों ने सर्दी का बहाना बनाकर इसको रोकने की पूरी कोशिश की। विरोधियों को लगता है कि पीटीएम करने से हमे वोट मिलेंगे, पर उन्हें ये नहीं पता कि हमें वोट पांच सालों में किये गए कामों के लिए मिलेंगे। एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल ने बताया कि पिछले साल के आसपास की दो विधानसभाओं के 20 प्राइवेट स्कूलों से 373 बच्चे हमारे स्कूल में आना चाहते थे पर उनमें से सिर्फ 64 बच्चे ही हमारे स्कूल के स्तर के थे।

स्कूलों की व्यवस्था देख हैरान हुए शिक्षक

पीटीएम के दौरान एक शिक्षक ने सीएम को बताया कि उसने इसी साल स्कूल ज्वाइन किया है। इससे पहले वे केन्द्रीय विद्यालय में थे। लेकिन दिल्ली सरकार के स्कूलों को देखकर वे हैरान हैं। दिल्ली के सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूलों से अच्छे हैं। मैं हैरान हूं कि सरकारी स्कूलों में पब्लिक स्कूलों से भी बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर है। शिक्षक डाॅ हरेन्द्र सिंह ने बताया कि वे केमिस्ट्री के शिक्षक हैं।

सरकारी स्कूलों की पढ़ाई पर अभिभावकों को गर्व

सीएम ने कहा कि अब बच्चों और उनके अभिभावकों को इस बात का गर्व है कि उनके बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं। वे अब अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूलों से निकालकर सरकारी स्कूल में पढ़ा रहे हैं। अब लोग सरकारी स्कूलों के प्रधानाचार्य के पीछे दाखिला कराने के लिए चक्कर लगा रहे हैं। जबकि पहले वे प्राइवेट स्कूलों में दाखिला कराने के लिए सिफारिश लगाते थे। उन्होंने कहा मैं पीटीएम में अभिभावकों से मिलने आया हूं। सभी अभिभावकों को पीटीएम में आना चाहिए।

दिल्ली में शिक्षा के नाम पर होनी चाहिए वोटिंग 

केजरीवाल ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से पीटीएम का सिलसिला शुरू हुआ है। इससे अभिभावकों के साथ-साथ शिक्षक भी काफी खुश हैं। दोनों को एक-दूसरे से मिलने का मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में हिन्दू-मुस्लिम की राजनीति नहीं होनी चाहिए। यहां सभी धर्मों के बच्चे पढ़ रहे हैं। यही तो अच्छी राजनीति है। इसीलिए वोटिंग शिक्षा के नाम पर होनी चाहिए।