BREAKING NEWS

UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾

कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने पीएम मोदी सहित कई कैबिनेट मंत्रियों के लापता होने की दर्ज कराई रिपोर्ट

नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) ने दिल्ली पुलिस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई कैबिनेट मंत्रियों के खिलाफ कोविड-19 संकट के बीच भागने का आरोप लगाते हुए उनके लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई है। कांग्रेस की छात्र शाखा का यह कदम केंद्रीय मंत्री अमित शाह की गुमशुदगी के लिए दर्ज कराई गई रिपोर्ट के दो दिन बाद सामने आया है। 

दरअसल, कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर का कहर देश पर बुरी तरह टूटा है। स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है, जिससे केंद्र सरकार और मंत्रियों की चारों तरफ से आलोचना हो रही है। नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय महासचिव नागेश करियप्पा ने जहां पहले गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए पुलिस में उनके लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी, वहीं अब उन्होंने पीएम मोदी व अन्य कई कैबिनेट मंत्रियों के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

एनएसयूआई महासचिव करियप्पा ने नवीनतम गुमशुदगी की रिपोर्ट मोदी, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, स्मृति ईरानी, एस. जयशंकर, रविशंकर प्रसाद, धर्मेंद्र प्रधान, नरेंद्र सिंह तोमर, प्रकाश जावड़ेकर, हर्षवर्धन और गजेंद्र सिंह शेखावत के लिए यहां संसद मार्ग थाने में दर्ज कराई है।

करियप्पा ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि भाजपा के इन सभी नेताओं को आखिरी बार पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान देखा गया था और इसके बाद से ही यह लापता हैं। करियप्पा ने कहा कि ऐसे समय में जब देश भर में महामारी की दूसरी लहर चल रही है, मोदी और उनके कैबिनेट मंत्रियों ने लोगों की पीड़ा से आंखें मूंद ली हैं।

एनएसयूआई नेता ने कहा कि राजनेताओं के रूप में, उन्हें पूरे देश के प्रति जवाबदेह होना चाहिए, लेकिन महामारी के संकट के समय में भी प्रधानमंत्री और उनके मंत्री स्थिति से भाग रहे हैं। करियप्पा ने पिछले सात वर्षों में भाजपा की उपलब्धि के बारे में भी सवाल किया और कहा कि वह केवल जुमले गढ़कर और झूठे वादे करके ही अभी तक टिक पाई है।

करियप्पा ने इस बात पर जोर दिया कि चिकित्सा संसाधनों की कमी के कारण देश भर में लाखों लोग पीड़ित हैं। उन्होंने कहा, लोग मृतकों के अंतिम संस्कार करने को लेकर जगह पाने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। तथाकथित नेता कहां हैं, जिन्होंने भारत को वैश्विक लीडर बनाने का आश्वासन दिया था।

इस बीच, एनएसयूआई प्रमुख नीरज कुंदन ने कहा है कि जब लोगों को सख्त जरूरत है, ऐसे समय में प्रधानमंत्री और उनके कैबिनेट सहयोगी गायब हैं। कुंदन ने कहा, उन्हें तो ऐसे समय पर सबसे आगे होना चाहिए था, जब चिकित्सा उपकरणों की कमी के कारण कई लोगों की मृत्यु हो रही है।