BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

सिर्फ अभिभावकों को मिलेगा सीसीटीवी का फीडबैक : सिसोदिया

नई दिल्ली : उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे लगाने की परियोजना पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक न लगाने पर शुक्रवार को कहा कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा इस परियोजना पर रोक न लगाने से अब इस पर तेज गति से काम शुरू किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि सीसीटीवी कैमरों की फीड सिर्फ माता-पिता को ही भेजी जाएगी। 

सिसोदिया ने कहा कि उन्हें इस परियोजना के बारे में कई सवाल मिल रहे हैं, मैं स्पष्ट कहना चाहता हूं कि इस परियोजना पर कुछ लोगों के द्वारा आरोप लगाने पर बहुत पीड़ा हुई। दुनिया ने देखा है कि हमारी सरकार की शिक्षा सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। सरकारी स्कूलों में गुणवत्ता के साथ शिक्षा प्रदान की जा रही है। स्कूलों में छात्रों की सुरक्षा और शिक्षा प्रदान करने में पारदर्शिता बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। 

सिसोदिया ने कहा कि एक स्कूल में सात वर्षीय लड़के की हत्या और अन्य कुछ गंभीर मामले को देखते हुए उन्होंने सरकारी स्कूलों के अंदर सीसीटीवी कैमरे लगाने का फैसला किया। लेकिन हमारी इस योजना के खिलाफ पिछले साल सितंबर में दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई। न्यायालय ने याचिका खारिज कर दी थी। जिसके बाद इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई। 

लेकिन शुक्रवार को देश के सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार को किसी भी ठहराव से इनकार करते हुए इस परियोजना को आगे बढ़ाने की अनुमति दे दी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि कक्षाओं की फीड केवल माता-पिता को ही उपलब्ध कराया जाएगी, जो बिना किसी ऑडियो के सीमित अवधि के लिए स्मार्ट-फोन के लिए सुरक्षित पासवर्ड प्राप्त करने के बाद इसे एक्सेस कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि शिक्षक, अभिभावक और छात्र इस नवीनतम पहल से खुश हैं।