BREAKING NEWS

नई एक्साइज पॉलिसी से केजरीवाल और AAP के लिए पैसा बनाते हैं सिसोदिया : मनोज तिवारी◾केंद्र सरकार पर केजरीवाल का आरोप, कहा- अच्छे काम करने वालों को रोका जा रहा ◾अमित शाह ने सभी राज्यों से राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों को प्राथमिकता देने का किया आग्रह◾जांच एजेंसियों के दुरुपयोग से भ्रष्टाचारियों को बचने में मदद मिलती है : पवन खेड़ा ◾पूर्व NCB अधिकारी समीर वानखेड़े को मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस ◾सिसोदिया के खिलाफ CBI रेड पर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित का बड़ा बयान◾सिसोदिया के घर पर CBI का छापा, केजरीवाल ने कहा- मिल रहा अच्छे प्रदर्शन का इनाम ◾भ्रष्ट व्यक्ति खुद को कितना भी बेकसूर साबित कर ले, वह भ्रष्ट ही रहेगा : अनुराग ठाकुर◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 15,754 नए मामले सामने आए, संक्रमण दर 3.47 प्रतिशत दर्ज◾Uttar Pradesh: श्रीकांत त्यागी को मिला बीकेयू का समर्थन, रिहाई की मांग की ◾मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI, केजरीवाल बोले-इस बार भी कुछ सामने नहीं आएगा◾भारत के साथ शांतिपूर्ण संबंध और कश्मीर मुद्दे का समाधान चाहता है पाकिस्तान : शहबाज शरीफ◾देशभर में जन्माष्टमी की धूम, PM मोदी बोले-सुख, समृद्धि और सौभाग्य लेकर आए यह उत्सव◾गोवा में ‘हर घर जल उत्सव’ को डिजिटल माध्यम से संबोधित करेंगे PM मोदी◾आज का राशिफल (19 अगस्त 2022)◾राजू श्रीवास्तव की हालत स्थिर, डॉक्टर उनका बेहतर इलाज कर रहे हैं : शिखा श्रीवास्तव◾कोलकाता में ममता से मिले पूर्व भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी◾महाराष्ट्र : रायगढ़ तट से मिली संदिग्ध नाव, AK-47 समेत कई हथियार बरामद ◾रोहिंग्याओं पर राजनीति! भाजपा ने कहा- केजरीवाल रोहिंग्याओं को ‘रेवड़ी’ बांट रहे, राष्ट्रीय सुरक्षा के समझौते को तैयार◾जयशंकर ने कहा- भारत स्वतंत्र, समावेशी व शांतिपूर्ण हिंद प्रशांत की परिकल्पना करता है◾

पाकिस्तानी आतंकवादी ने किया खुलासा- वह 2011 के दिल्ली हाई कोर्ट ब्लास्ट में भी था शामिल

पूर्वी दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाके से एक पाकिस्तानी नागरिक को गिरफ्तार किया गया और उसके पास से हथियार तथा गोला बारूद बरामद किए गए हैं। बुधवार को आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राजधानी दिल्ली पुलिस के विशेष सेल द्वारा गिरफ्तार किए गए संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी ने खुलासा किया है कि वह 2011 में दिल्ली उच्च न्यायालय विस्फोट में शामिल था।

पाकिस्तानी नागरिक की पहचान मोहम्मद अशरफ उर्फ अली के रूप में हुई

सूत्र ने कहा कि उसने स्वीकार किया कि उसने 2011 में विस्फोट से पहले दिल्ली उच्च न्यायालय की रेकी की थी। हालांकि, विस्फोट को अंजाम देने में उसकी आगे की संलिप्तता का पता नहीं चल पाया है। दिल्ली में हुए इस आतंकी हमले के अलावा गिरफ्तार पाकिस्तानी नागरिक, जिसकी पहचान मोहम्मद अशरफ उर्फ अली के रूप में हुई है, उसने खुलासा किया कि वह देश, खासकर जम्मू-कश्मीर में कई आतंकी गतिविधियों में शामिल था। अशरफ ने पूछताछ के दौरान खुलासा किया कि वह 2009 में जम्मू के बस स्टेशन पर हुए आतंकी हमले में भी शामिल था। हमले को पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस के निर्देश पर अंजाम दिया गया था। सूत्र ने रेखांकित किया कि यह भारत में हर आतंकी गतिविधि में पाकिस्तान की भूमिका का एक स्पष्ट सबूत है।

आतंकवादी को कम से कम छह महीने पहले 2004 में प्रशिक्षित किया था

दिल्ली के भीड़भाड़ वाले लक्ष्मीनगर इलाके से सोमवार को रात करीब नौ बजे संदिग्ध आतंकी मोहम्मद अशरफ को गिरफ्तार किया गया। स्पेशल सेल ने पहले कहा था कि आईएसआई ने इस आतंकवादी को  2004 में प्रशिक्षित किया था। उसी वर्ष, वह पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी सीमा पर बांग्लादेश के माध्यम से भारत में प्रवेश करने में सफल रहा था।

तब से वह भारत में स्लीपर सेल के रूप में रह रहा था। एक अधिकारी ने कहा कि भारत में प्रवेश करने के बाद, वह अजमेर गया और एक स्थानीय मस्जिद, अजमेर में एक मौलवी से दोस्ती की। वर्ष 2006 में, वह उक्त मौलवी के साथ दिल्ली आया था। मंगलवार को पूछताछ के दौरान संदिग्ध आतंकी ने यह भी खुलासा किया है कि उसने जम्मू-कश्मीर में आतंकियों को कई बार हथियार और गोला-बारूद की आपूर्ति की है। 

 14 सितंबर को, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तान स्थित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था

सूत्रों ने कहा, 'उसकी हर गतिविधि आईएसआई के निर्देश पर होती थी। आरोपी आतंकी को पाकिस्तान की आईएसआई के इशारे पर इस त्योहारी सीजन में आतंकी हमले को अंजाम देने का जिम्मा सौंपा गया था। इससे पहले भी 14 सितंबर को, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तान स्थित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था और सात संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था, जिनमें दो ऐसे लोग शामिल थे, जिन्हें आईएसआई ने प्रशिक्षित किया था। गिरफ्तार आतंकी इस त्योहारी सीजन में देश में आतंकी हमले को अंजाम देने की भी योजना बना रहे थे। फिलहाल सभी आरोपी पुलिस हिरासत में हैं।

राष्ट्रपति के समक्ष कांग्रेस ने रखी दो मांगे, राहुल बोले-गृह राज्य मंत्री के पद पर बने रहने तक निष्पक्ष जांच संभव नहीं