BREAKING NEWS

पूर्वी लद्दाख विवाद : भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच आज होगी उच्च स्तरीय वार्ता ◾राजस्थान : कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक आज, सचिन पायलट को किया आमंत्रित ◾नेपाल के पीएम ओली का बेतुका बयान, कहा - भगवान राम नेपाली है और भारत की अयोध्या है नकली◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,246 नए केस◾राजस्थान में जारी सियासी उठापटक पर भाजपा ने कहा- विधायकों की गिनती के लिए सड़क या होटल नहीं, विधानसभा उपयुक्त स्थान ◾महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 2.60 लाख के पार, मरने वालों का आंकड़ा 10,482 पहुंचा◾पायलट को मनाने में लगे राहुल और प्रियंका, कई वरिष्ठ नेताओं ने भी किया संपर्क ◾एलएसी विवाद : कल होगी भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक◾बौखलाए चीन ने निकाली खीज, अमेरिका के शीर्ष अधिकारियों - नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगाया ◾कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित, हाईकमान के नेतृत्व में जताया विश्वास ◾बच गई राजस्थान की कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों के संग दिखाया शक्ति प्रदर्शन◾सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित, 88.78% परीक्षार्थी रहे उत्तीर्ण ◾श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर प्रबंधन पर शाही परिवार का अधिकार SC ने रखा बरकरार◾सियासी संकट के बीच CM गहलोत के करीबियों पर IT का शकंजा, राजस्थान से लेकर दिल्ली तक छापेमारी◾राहुल ने केंद्र पर साधा सवालिया निशाना, कहा- क्या भारत कोरोना जंग में अच्छी स्थिति में है?◾जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी, एक आतंकवादी ढेर ◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख 78 हजार के पार, साढ़े पांच लाख से अधिक लोगों ने महामारी से पाया निजात ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरीजों की संख्या 1 करोड़ 29 लाख के करीब ◾CM शिवराज ने किया मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, नरोत्तम मिश्रा बने MP के गृह मंत्री◾असम में बाढ़ और भूस्खलन में चार और लोगों की मौत, करीब 13 लाख लोग प्रभावित◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

AIIMS में दिव्यांगों को नहीं मिल रहा उचित आरक्षण, दिल्ली HC ने केंद्र से मांगा जवाब

दिल्ली हाई कोर्ट ने उस जनहित याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब तलब किया है जिसमें दावा किया गया है कि प्रतिष्ठित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) परास्नातक पाठ्क्रम में दिव्यांगों को उचित आरक्षण नहीं दे रहा है। मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायाधीश सी हरी शंकर की पीठ ने सामाजिक न्याय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय को नोटिस जारी कर गैर सरकारी संगठन की ओर से दायर जनहित याचिका पर अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है। 

यह याचिका गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) ‘प्रहरी सहयोग एसोसिएशन’ की ओर से अधिवक्ता गौरव कुमार बंसल ने दायर की है। इसमें उन्होंने दावा किया है कि एम्स समावेशी शिक्षा के सिद्धांत को आत्मसात करने में नाकामयाब रहा है क्योंकि 2018-19 के लिए जारी विज्ञापन में परास्नातक की 435 सीटों में केवल एक सीट दिव्यांगों को दी गई है जबकि कानूनी रूप से पांच फीसदी सीटे इस श्रेणी के छात्रों को देने की बाध्यता है। 

बंसल ने कोर्ट को बताया कि यह दिव्यांगों के अधिकार कानून 2016 के उल्लंघन जैसा है। याचिका में दावा किया गया है कि दिव्यांगों के अधिकार संबंधी संयुक्त राष्ट्र के घोषणा पत्र (यूएनसीआरपीडी) के मुताबिक सदस्य देशों के लिए समावेशी शिक्षा को सैद्धांतिक रूप से लागू करना बाध्यकारी है। एनजीओ ने कोर्ट से मांग की है कि वह एम्स से रिपोर्ट तलब करे जिसमें दिव्यांगों को कानून के तहत समावेशी शिक्षा मुहैया कराने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी हो। 

याचिका में कोर्ट से मांग की गई है कि परास्नातक सत्र में दिव्यांगों को आरक्षण देने के लिए वह निर्देश दे। इसके साथ ही दिव्यांगों के लिए आरक्षित सीटें जो जनवरी 2018, जुलाई 2019 और जनवरी 2019 के सत्र खाली रह गई हैं उन्हें भरने के लिए एम्स को विज्ञापन निकालने का निर्देश दे।