BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

AIIMS में दिव्यांगों को नहीं मिल रहा उचित आरक्षण, दिल्ली HC ने केंद्र से मांगा जवाब

 aiims

दिल्ली हाई कोर्ट ने उस जनहित याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब तलब किया है जिसमें दावा किया गया है कि प्रतिष्ठित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) परास्नातक पाठ्क्रम में दिव्यांगों को उचित आरक्षण नहीं दे रहा है। मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायाधीश सी हरी शंकर की पीठ ने सामाजिक न्याय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय को नोटिस जारी कर गैर सरकारी संगठन की ओर से दायर जनहित याचिका पर अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है। 

यह याचिका गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) ‘प्रहरी सहयोग एसोसिएशन’ की ओर से अधिवक्ता गौरव कुमार बंसल ने दायर की है। इसमें उन्होंने दावा किया है कि एम्स समावेशी शिक्षा के सिद्धांत को आत्मसात करने में नाकामयाब रहा है क्योंकि 2018-19 के लिए जारी विज्ञापन में परास्नातक की 435 सीटों में केवल एक सीट दिव्यांगों को दी गई है जबकि कानूनी रूप से पांच फीसदी सीटे इस श्रेणी के छात्रों को देने की बाध्यता है। 

बंसल ने कोर्ट को बताया कि यह दिव्यांगों के अधिकार कानून 2016 के उल्लंघन जैसा है। याचिका में दावा किया गया है कि दिव्यांगों के अधिकार संबंधी संयुक्त राष्ट्र के घोषणा पत्र (यूएनसीआरपीडी) के मुताबिक सदस्य देशों के लिए समावेशी शिक्षा को सैद्धांतिक रूप से लागू करना बाध्यकारी है। एनजीओ ने कोर्ट से मांग की है कि वह एम्स से रिपोर्ट तलब करे जिसमें दिव्यांगों को कानून के तहत समावेशी शिक्षा मुहैया कराने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी हो। 

याचिका में कोर्ट से मांग की गई है कि परास्नातक सत्र में दिव्यांगों को आरक्षण देने के लिए वह निर्देश दे। इसके साथ ही दिव्यांगों के लिए आरक्षित सीटें जो जनवरी 2018, जुलाई 2019 और जनवरी 2019 के सत्र खाली रह गई हैं उन्हें भरने के लिए एम्स को विज्ञापन निकालने का निर्देश दे।