BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली दंगे: पुलिस ने चार्जशीट में कहा - आरोपियों ने 'मानवता के खिलाफ अपराध' किया

दिल्ली दंगों के मामले में यहां एक अदालत में दायर अपने पूरक आरोपपत्र में पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने हाल के दंगों में “मानवता के खिलाफ अपराध” किया जिसे “बेहद बर्बर”, “विकृत” और “नृशंस” तरीके से अंजाम दिया गया। 

इस आरोपपत्र में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद और जेएनयू छात्र शरजील इमाम का भी आरोपियों के तौर पर नाम है। इसमें कहा गया है कि इस “गैरकानूनी” कृत्य को अंजाम देने के लिए आरोपियों के बीच “गुपचुप सहमति” थी। 

इसमें कहा गया है कि “सुनियोजित अभियान” के तहत उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय के दिमाग में डर और असुरक्षा की भावना पैदा की। पुलिस ने रविवार को दायर आरोपपत्र में दावा किया, “आरोपी व्यक्तियों द्वारा बेहद बर्बर, विकृत और नृशंस तरीके से इस अपराध को अंजाम दिया गया। निर्दोष और असहाय लोगों को इस खतरनाक तथा खौफनाक अपराध में निशाना बनाया गया। लोगों की जान गई।” 

इसने आरोपपत्र में दावा किया, “आरोपियों ने मानवीय मूल्यों के प्रति पूर्ण अनादर दिखाया और उनके भ्रष्ट, क्रूर तथा साजिशपूर्ण दिमाग से यह साजिश उपजी। आरोपियों ने मानवता के खिलाफ अपराध को अंजाम दिया।” इसमें आगे कहा गया कि आपराधिक साजिश जारी रही और इसे पुलिस के खुलासे तथा आरोपियों की गिरफ्तारी से झटका लगा लेकिन यह न तो बंद हुई और न ही इसे छोड़ा गया। 

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को संशोधिन नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प के बाद सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी थी जिसमें कम से कम 53 लोगों की जान चली गई थी और 200 अन्य घायल हुए थे। 

दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन की जमानत याचिका पर पुलिस से किया जवाब तलब