BREAKING NEWS

CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾हरियाणा: राहुल का PM पर वार, बोले- अडानी और अंबानी के लाउडस्पीकर हैं मोदी◾अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्षकारों का आरोप-हिन्दु पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे ही किए जा रहे है सवाल◾हुड्डा बोले- हरियाणा में कांग्रेस के पास है जबरदस्त समर्थन, बनाएंगे अगली सरकार◾उत्तर प्रदेश: मऊ में सिलेंडर ब्लास्ट से मरने वालो की संख्या हुई 12 ◾जम्मू-कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवा हुई बहाल, 72 दिन से ठप थी सेवा ◾ अजीत डोभाल बोले- FATF का पाकिस्तान पर गहरा दबाव◾NIA का बड़ा खुलासा, कहा-देश के 4 राज्यों में सक्रिय है बांग्लादेश का खूंखार आतंकी संगठन JMB ◾होशंगाबाद: कार हादसे में राष्ट्रीय स्तर के 4 हॉकी खिलाड़ियों की मौत, कमलनाथ और शिवराज ने जताया शोक◾हरियाणा में आज PM मोदी, शाह और राहुल गांधी भरेंगे हुंकार, इन जगहों पर करेंगे रैली◾राम जन्मभूमि विवाद : आज से सुप्रीम कोर्ट करेगा अयोध्या मामले की अंतिम दौर की सुनवाई ◾महाराष्ट्र में राहुल गांधी की मौजूदगी का मतलब है भाजपा की जीत : योगी आदित्यनाथ◾भारत-सियेरा लियोन के बीच छह समझौतों पर हस्ताक्षर◾प्रदूषण को लेकर केजरीवाल सरकार के खिलाफ मनोज तिवारी ने बांटे ‘मास्क’◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

हत्या मामला में सियासत गर्म

नई दिल्ली : मोती नगर के बसईदारापुर में छेड़छाड़ का विरोध करने पर हुई पिता की हत्या की घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि यह घटना हृदयविदारक है जिसकी जितनी भी निंदा की जाए वह कम है। उन्होंने कहा कि गुंडाराज और अर्बन नक्सलवाद की जगह हमारे समाज में नहीं है।

दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द सुनवाई के लिए मामला फास्ट ट्रैक अदालत में जाने की मांग करते हुए कहा कि इससे पीड़ित परिवार को जल्द मिलेगा। तिवारी ने कहा कि परिवार को समुचित मुआवजा मिलना चाहिए और समाज के लोगों को ऐसी घटनाओं पर मूकदर्शन बनकर नहीं रहना चाहिए।

पिता को खोने के बाद परिवार आहत मोती नगर में पिता की मौत और बेटे के घायल होने के बाद पीड़ित परिवार इस कदर आहत है कि वह करीब सौ साल पुराने अपने मकान को छोड़ऩे का मन बना रहे हैं। पीड़ित परिवार का कहना है कि हत्या व जानलेवा हमले के दौरान उनके पड़ोसियों ने परिवार की कोई भी मदद नहीं की, जिसकी वजह से उनका मन पड़ोसियों से खट्टा हो गया है। यहीं वजह है कि वह अब यहां रहना नहीं चाहते है। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि घटना के समय उनके पड़ोसियों ने भी उनके परिवार वालों को बचाने की कोशिश नहीं की और अपनी बालकनी से मुकदर्शक बनकर सब कुछ देखते रहे। कई लोग घटना का वीडियो बनाने में मशगूल थे।

आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग इस घटना पर नेता विपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि इस घटना से जुड़े सभी आरोपियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरा एक सवाल केजरीवाल सरकार से भी है कि इतनी दर्दनाक घटना पर केजरीवाल ने चुप्पी क्यों साध रखी है? क्या वे इसमें भी कोई राजनीतिक लाभ दिखने के बाद ही बोलेंगे? या फिर आरोपी किसी विशेष समुदाय से ताल्लुख रखता है।

इसलिए बोलने से कतरा रहे हैं कि कहीं उनका वोट बैंक न खिसक जाए। गुप्ता ने कहा कि दिल्ली में हो रही इस प्रकार की जघन्य घटनाओं के लिए कहीं न कहीं केजरीवाल सरकार भी जिम्मेदार है। क्योंकि केजरीवाल सरकार बताए कि कहां गए उनके महिला सुरक्षा के दावे और कहां गए दिल्ली में सीसीटीवी लगाने के वायदे? दिल्ली सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति जो उदासीनता दिखा रही है।

आप ने उठाए कानून-व्यवस्था पर सवाल दिल्ली के मोती नगर स्थित बसईदारापुर इलाके में बेटी के साथ छेड़छाड़ करने एवं उसके खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने के विरोध में चाकू मारकर की गई पिता ध्रुवराज त्यागी की हत्या को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) ने राजधानी की कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। केन्द्र की भाजपा सरकार एवं दिल्ली पुलिस को घेरते हुए आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि यह घटना राजधानी की कानून-व्यवस्था की बदहाली को दर्शाती है, यहां बेटियां सुरक्षित नहीं हैं।

अराजक तत्वों ने पिता के साथ जा रही एक बेटी पर अभद्र टिप्पणी की,इसका विरोध करने पर बेरहमी से पिता की हत्या कर दी गई। सिंह ने कहा कि आरोपी पहले भी अपराधों में लिप्त रहा है। उसके खिलाफ धारा 304 में मुकद्दमा दर्ज है। फिर भी वह खुलेआम घूम रहा था।