दिवाली के बाद दिल्ली की हवा जहरीली हो गई है। प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली के कुछ इलाकों में सांस लेना 21 सिगरेट पीने के बराबर है। शुक्रवार को आनंद विहार, वजीरपुर और मथुरा रोड पर स्थित सीआरआरआई की हवा की औसतन गुणवत्ता इतनी खराब थी कि यहां दिनभर हवा में सांस लेना 21 सिगरेट पीने के बराबर था। एम्स के मेडिसन विभाग के प्रोफेसर नवल विक्रम कहते हैं कि पीएम 2.5 स्तर के हिसाब से दिल्ली के अधिकतर इलाकों में लोग प्रदूषण की वजह से औसतन 20 सिगरेट पीने के बराबर नुकसान कर रहे हैं।

दिमाग के दौरे से मरने वालों में 11 प्रतिशत मरीज धूम्रपान करने वाले रहे हैं, जो 20 या इससे अधिक सिगरेट या बीड़ी प्रतिदिन पीते हैं। उन्हें दिमागी दौरा पड़ने की आशंका दूसरों के मुकाबले डेढ़ गुना अधिक रहती है। उन्होंने कहा कि लंबे समय तक एक दिन में 20 सिगरेट पीना स्वस्थ लोगों को भी बीमार कर सकता है। बर्कले अर्थ की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक सिगरेट एक दिन के लिए 21.6 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर के वायु प्रदूषण के बराबर है।

पीएम 2.5 आंकड़ों के औसत और सिगरेट की संख्या प्राप्त करने के लिए इसे 21.6 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से भाग करते हैं। इस हिसाब से दिल्ली के कई इलाकों का 451 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर वायु प्रदूषण दिन में 21 सिगरेट पीने के बराबर है।

राजधानी में अभी नहीं मिलेगी प्रदूषण से राहत