BREAKING NEWS

कृषि बिल पर विरोध जारी, संसद परिसर में गांधी प्रतिमा से अंबेडकर प्रतिमा तक विपक्ष का मार्च ◾कृषि बिल : विपक्ष का संसद परिसर में प्रदर्शन, आज शाम 5 बजे 5 नेताओं से मिलेंगे राष्ट्रपति◾बारिश की वजह से डूबी मुंबई, सड़क और रेल यातायात बुरी तरह प्रभावित ◾सुशांत केस : ड्रग्स मामले में रिया-शोविक की सुनवाई टली, मुंबई में बारिश के चलते आज HC की छुट्टी◾कश्मीर के मुद्दे को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति पर भड़का भारत, कहा- आंतरिक मामलों में दखल स्वीकार नहीं◾राहुल ने पीएम मोदी पर पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को नष्ट करने का लगाया आरोप◾कोरोना संक्रमण के फैलते प्रकोप की वजह से संसद का मानसून सत्र आज से अनिश्चित काल के लिए स्थगित ◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 56 लाख के पार, 90 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾पीएम मोदी की 7 राज्यों के CM के साथ बैठक आज, कोरोना महामारी पर करेंगे चर्चा ◾अमेरिका में वैश्विक महामारी के नए मामलों में कमी, कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 2 लाख के पार ◾आज का राशिफल (23 सितम्बर 2020)◾बिहार DGP गुप्तेश्वर पांडे ने लिया VRS, लड़ सकते हैं आगामी विधानसभा चुनाव◾संजू सैमसन के तूफान में नरम पड़े सुपरकिंग्स, राजस्थान रायल्स ने चेन्नई को 16 रन से हराया◾भारत ने स्वदेशी हाई-स्पीड टार्गेट ड्रोन 'अभ्यास' का किया सफल परीक्षण◾LAC पर भारत-चीन के बीच नो एक्शन एग्रीमेंट, अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिक नहीं भेजेंगे दोनों देश◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 18,390 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 12.42 लाख के पार◾IPL-13: सैमसन और स्मिथ की शतकीय साझेदारी, राजस्थान ने चेन्नई को दिया 217 रनों का टारगेट◾एकजुटता दिखाते हुए विपक्ष ने लोकसभा का किया बहिष्कार, कृषि मंत्री बोले - कांग्रेस के भ्रम में न आये जनता◾सरकार ने बताया 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' योजना के विज्ञापन पर 2014 से कितने करोड़ खर्च हुए◾IPL-13 के CSK vs MI के उद्घाटन मैच ने व्यूअरशिप में तोड़े रिकॉर्ड, इतने करोड़ लोगों ने मुकाबला ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रदूषण एक बार फिर आपात श्रेणी में पहुंचा

सीपीसीबी की अगुवाई वाले एक कार्यबल ने यहां होने वाले आसियान सम्मेलन के दौरान वायु प्रदूषण को काबू में रखने के लिए दिल्ली और एनसीआर में 15 जनवरी से एक पखवाड़ के लिए कोयला आधारित उद्योगों को बंद करने की आज सिफारिश की। केंद्र द्वारा अधिसूचित क्रमिक जवाबी कार्वाई योजना (जीआरएपी) के तहत गठित इस कार्यबल ने प्रदूषण के एक बार फिर आपात स्तर तक पहुंच जाने के आलोक में विभिन्न प्रस्तावों के तहत ईपीसीए से यह सिफारिश की है। आसियान सम्मेलन राष्ट्रीय राजधानी में 19 से 30 जनवरी के बीच होने वाला है। पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम एवं नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) ने भी दिल्ली, हरियाण, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के मुख्य सचिवों को जीआरएपी)) की आपात श्रेणी के तहत अगले दौर की कार्वाई के लिए तैयार रहने के लिए पत्र लिखा है। उसके तहत सम-विषम योजना भी शामिल है। सीपीसीबी कार्यबल ने स्थिति की समीक्षा के बाद यह सिफारिश भी की कि राज्य निजी वाहनों के लिए युक्तिसंगत योजना को लागू करने में तत्परता दिखाएं, वैसे आपात सेवाएं उनका अपवाद हो सकती हैं।

कार्यबल के सदस्य स्वास्थ्य विशेषज्ञ टी के जोशी ने पीटीआई भाषा से कहा कि इस क्षेत्र में कोयला आधारित ताप बिजली संयंत्रों को बंद करने की सिफारिश भी विचाराधीन है लेकिन इसे फिलहाल मुल्तवी कर दिया गया है क्योंकि यह प्रतिकूल फलदायक भी हो सकता है। जोशी ने कहा, इससे बिजली का संकट पैदा हो सकता है, तत्पश्चात डीजल जेनरेटरों का उपयोग होने लगेगा जो पहले से ही प्रतिबंधित है। हम लगातार स्थिति की समीक्षा करेंगे क्योंकि यह स्थिति कुछ और दिन तक बनी रह सकती है। आज दोपहर एक बजे पीएम 2.5 की सांद्रता 320.9 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर और पीएम 10 की सांद्रता 496 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी। पीएम 10 की सांद्रता 500 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर की आपात सीमा से महज चार इकाई कम थी। शाम छह बजे पीएम 2.5 की सांद्रता 314 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर और पीएम 10 की सांद्रता 487 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी। केंद्र द्वारा अधिसूचित क्रमिक जवाबी कार्वाई योजना (जीआरएपी))) के तहत जब पीएम 2.5 और पीएम 10 के अतिसूक्ष्म कण क्रमश: 300 और 500 माइक्रोक्रोम प्रति घनमीटर से अधिक हो जाते हैं तो उस प्रदूषण को गंभीर से अधिक या आपात श्रेणी का प्रदूषण समझा जाता है। जब ऐसी स्थिति 48 घंटे से भी ज्यादा देर तक बनी रहती है तो आपात श्रेणी के उपाय करने होते हैं।

बैठक के ब्योरे में कहा गया है, कार्यबल ने दिल्ली एनसीआर के लिए वायु की गुणवथा की समीक्षा की। आज सुबह सात बजे से गंभीर से भी अधिक वायु गुणवथा बनी हुई है। भारतीय मौसम विभाग ने सुबह में कम हवा तथा मध्यमाघने कोहरे का अनुमान लगाया है। यदि ईपीसीए आपात कार्ययोजना की अधिसूचना जारी करता है, जो नवंबर में धुंध के दौरान की गयी थी, तब ट्रकों के प्रवेश, निर्माण गतिविधियों पर रोक, सम-विषम वाहन परियोजना जैसे उपाय शहर में लागू किए जा सकते हैं। पहले दौर में ये उपाय आठ नवंबर को किये गये थे जो 16 नवंबर को वापस लिये गये थे जब धुंध छंट गई थी। नवीनतम गंभीर प्रदूषण 19 दिसंबर की रात को शुरु हुआ जो लगातार बढ़ है। इसकी वजह हवा की रफ्तार में भारी गिरावट है जिससे प्रदूषक नहीं छितराते हैं।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।