BREAKING NEWS

लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय की मीडिया विंग में भारी फेरबदल, नितिन वाकणकर नये प्रवक्ता नियुक्त किये गए ◾भाजपा नेता और टिक टोक स्टार सोनाली फोगाट ने हिसार मंडी समिति के सचिव को पीटा , वीडियो वायरल ◾सैन्य बातचीत से पहले बोला चीन-भारत के साथ सीमा विवाद को उचित ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध◾PM मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' के ऐलान को कपिल सिब्बल ने बताया 'जुमला'◾दिल्ली के पीतमपुरा में एक मेड से 20 लोगों को हुआ कोरोना, 750 से ज्यादा लोग हुए सेल्फ क्वारंटाइन◾कोरोना संकट पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, नई योजनाओं पर मार्च 2021 तक लगी रोक◾गुजरात में कांग्रेस को तीसरा झटका, एक और विधायक ने दिया इस्तीफा◾दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾Coronavirus : अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 19 लाख के करीब, अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत ◾अदालती आदेश का अनुपालन नहीं करने पर CM केजरीवाल के खिलाफ कोर्ट में अवमानना याचिका दायर ◾महाराष्ट्र : निसर्ग तूफान पर मुख्यमंत्री ठाकरे ने की समीक्षा बैठक, दो दिन में नुकसान की रिपोर्ट पूरी करने के दिए निर्देश ◾वंदे भारत मिशन के शुरू होने से अबतक विदेश में फंसे 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय स्वदेश वापस आए : विदेश मंत्रालय ◾दिल्ली : पटेल नगर से आप विधायक राजकुमार आनंद कोरोना पॉजिटिव, खुद को किया होम क्वारनटीन◾केंद्र सरकार ने जारी किया राज्यों का जीएसटी मुआवजा, दिए 36,400 करोड़ रुपये◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,932 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 77 हजार के पार, अकेले मुंबई में 44 हजार से ज्यादा केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

CAA के विरोध में जंतर-मंतर पर जुटे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रही शाहीन बाग की महिलाएं बुधवार को जंतर मंतर पर जमा हुईं। यहां प्रदर्शनकारी महिलाओं ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ मिलकर विख्यात शायर फैज अहमद फैज की नजम 'हम देखेंगे' भी पढ़ी। 

प्रदर्शनकारियों ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों के आने पर अपना विरोध जताया और उनके खिलाफ नारेबाजी भी की। बजट सत्र शुरू होने से ठीक पहले संसद भवन के नजदीक जंतर-मंतर पर सीएए का विरोध करने पहुंची इन महिलाओं को छात्रों का भी साथ मिला। 

दिल्ली विधानसभा चुनाव : EC ने अनुराग ठाकुर, प्रवेश वर्मा को भाजपा की स्टार प्रचारक की सूची से बाहर किया

बड़ी संख्या में जामिया, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय व दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र सीएए के खिलाफ जंतर-मंतर पहुंचे। दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता कानून के खिलाफ धरने पर बैठी 70 वर्ष से अधिक उम्र की तीन बुजुर्ग महिलाएं भी बुधवार को जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन का हिस्सा रहीं। इन तीनों वृद्ध महिलाओं को लोग शाहीन बाग की दादियों के नाम से जानते हैं। 

प्रदर्शन करने आईं सैकड़ों महिलाओं ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी), राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) और सीएए के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद महिलाओं ने छात्रों के साथ फैज अहमद फैज की नजम 'हम देखेंगे' का पाठ भी किया। दिल्ली के कई छात्र संगठनों ने संयुक्त रूप से सीएए के खिलाफ अपना विरोध जताया। छात्र यहां अलग-अलग गुटों में पहुंचे थे, जोकि बिना किसी नेतृत्व के अपना विरोध दर्ज करा रहे थे। 

बुधवार सुबह से ही जंतर-मंतर पर भारी संख्या में छात्रों ने जुटना शुरू कर दिया था। छोटी-छोटी टोलियों में बंटे इनमें से कई छात्रों ने अपना विरोध जताने के लिए संगीत का सहारा लिया। वे ढफली, ढोल और मंजीरों की थाप के बीच नारेबाजी करते रहे। कुछ छात्रों ने तस्वीरें और पोस्टर बनाकर यहां मौजूद लोगों का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की। 

दिल्ली विश्वविद्यालय में एमए की छात्रा कनिष्ठा ने नागरिकता संशोधन कानून पर अपना मत रखते हुए कहा सरकार को सभी धर्मों के शरणार्थी इस कानून के अंतर्गत लेने चाहिए थे। भेदभावपूर्ण तरीके से इस कानून को लागू किया गया है, जिससे पूरे विश्व में हमारे देश की छवि धूमिल हुई है। जामिया की छात्रा शाजिया ने कहा कि वह नागरिकता कानून को एकतरफा मानती हैं, इसलिए अपना विरोध दर्ज करने यहां पहुंची हैं।