BREAKING NEWS

चीन के लिए रक्षा संबंधी जासूसी करने वाले पत्रकार समेत एक चीनी महिला और नेपाली युवक गिरफ्तार◾कृषि बिल को लेकर चिदंबरम का बड़ा हमला : हर पार्टी तय करे कि वह किसानों के साथ है या भाजपा के साथ◾J&K में एक साल के लिए बिजली-पानी के बिल हुए आधे, व्यापारियों के लिए 1350 करोड़ के पैकेज का ऐलान ◾आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद राज्यपाल धनखड़ का ममता पर प्रहार, कहा - राज्य बना अवैध बम बनाने का घर◾जयपुर : ब्याज माफियाओं से परेशान होकर आभूषण व्यवसायी ने परिवार सहित लगाई फांसी ◾राहुल ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'भारतीय राष्ट्रवाद क्रूरता और हिंसा का साथ नहीं दे सकता'◾कुलभूषण जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए भारत की ''क्वींस काउंसल'' की मांग को पाक ने किया खारिज◾देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 53 लाख के पार, 85 हजार से अधिक मरीजों ने गंवाई जान◾कंगना रनौत की याचिका जुर्माने के साथ खारिज की जानी चाहिए : बीएमसी ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 3 लाख के पार ◾एनआईए ने आतंकवादी अल-कायदा मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, 9 लोग गिरफ्तार◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 21,656 नए केस, 405 की मौत ◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 4,127 नए केस, 30 की मौत ◾अधीर रंजन चौधरी ने अनुराग ठाकुर पर की विवादित टिप्पणी, लोकसभा में हुआ जमकर हंगामा◾नेपाल के स्कूलों में भारत के खिलाफ जहर, पाठ्य पुस्तकों में भारतीय हिस्सों वाला विवादित नक्शा शामिल ◾सीएम केजरीवाल की सभी गैर भाजपा दलों से अपील - राज्यसभा में कृषि विधेयकों का करें विरोध◾कांग्रेस का तीखा वार : सरकार से उठ चुका है किसानों का विश्वास, प्रधानमंत्री किसान विरोधी◾दिल्ली में 5 अक्टूबर तक सभी छात्रों के लिए बंद रहेंगे स्कूल, केजरीवाल सरकार ने जारी किया आदेश◾चीन ने पहली बार माना, खुलासे में बताया गलवान झड़प में मारे गए थे PLA के जवान◾मंत्रियों एवं सांसदों के वेतन, भत्ते में कटौती संबंधी विधेयकों को राज्यसभा ने मंजूरी दी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

DTC और क्लस्टर बसों में महिलाओं की मुफ्त यात्रा के खिलाफ दिल्ली HC में जनहित याचिका

डीटीसी बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सुविधा उपलब्ध कराने के आप सरकार के फैसले के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गयी है। मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने याचिकाकर्ता महिला से पूछा कि वह कैसे यह दावा कर रही है कि यह फैसला असंवैधानिक है या इसके लिए केंद्र सरकार से अनुमति जरूरी है। 

पीठ ने याचिकाकर्ता अज्मा जैदी से पूछा, ‘‘यह कैसे असंवैधानिक है? आप कैसे कह सकती हैं कि इसके लिए केंद्र सरकार से अनुमति जरूरी है।’’ पीठ ने याचिकाकर्ता से अगली सुनवाई के दिन 21 जनवरी को सभी सवालों के जवाबों के साथ आने को कहा। महिला की ओर से पेश हुए वकील अनिल कुमार खवारे ने दलील दी कि महिलाओं को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) और दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टी-मॉडल ट्रांजिट सिस्टम (डीएमआईटीएस) की बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा करदाताओं के पैसे से उपलब्ध करायी जा रही है। 

उन्होंने कहा, ‘‘इससे सरकारी खजाने पर वित्तीय बोझ आ गया है।’’ वकील ने 28 अक्टूबर की अधिसूचना को ‘‘अवैध, मनमाना, भेदभावपूर्ण और असंवैधानिक’’ बताया। इसमें यह भी दावा किया गया कि यह फैसला एक नया वर्ग पैदा कर रहा है क्योंकि महिलाएं टिकट खरीदने के लिए स्वतंत्र हैं या ऐसा नहीं भी कर सकती हैं तथा जो मुफ्त सफर का चयन करती हैं, उन्हें उपहास का सामना करना पड़ सकता है। 

जैदी एक वकील हैं और उन्होंने दलील दी कि मुफ्त यात्रा छूट बुजुर्गों, नाबालिगों और समाज के गरीब तबके के लोगों को दी जानी चाहिए, न कि लिंग के आधार पर। उन्होंने दलील दी कि ऐसे कदम के समर्थन में कोई मूल आधार या आंकड़ा नहीं है। अपनी याचिका में उन्होंने यह भी कहा कि डीटीसी ने सरकार को दी गयी एक रिपोर्ट में कहा था कि अपनी बसों में यह योजना लागू करने के लिए उसे 200 करोड़ रुपये की वार्षिक सब्सिडी और डीआईएमटीएस द्वारा संचालित क्लस्टर बसों में यह रियायत शुरू करने के लिए अतिरिक्त 100 करोड़ रुपये की आवश्यकता है। 

योजना के तहत मुफ्त यात्रा का चुनाव करने वाली महिलाओं को बसों में गुलाबी टिकट दिया जा रहा है और इन गुलाबी टिकटों की संख्या के आधार पर परिवहन सेवा को सरकार यह राशि हस्तांतरित करेगी। याचिका में कहा गया है कि लोगों को होने वाली परेशानी कम करने के लिए सार्वजनिक परिवहन बसों की संख्या बढ़ाए जाने की जगह ‘‘समाज के एक खास तबके तक अवैध रूप से मौजूदा संसाधन पहुंचाए जा रहे हैं।’’