BREAKING NEWS

कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾गाजियाबाद की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 7 की मौत, कई लोग घायल◾कानपुर एनकाउंटर : शक के दायरे में चौबेपुर थाना, IG बोले-सबूत मिले तो पुलिसवालों पर दर्ज होगा हत्या का केस◾TMC नेता कल्याण बनर्जी का विवादित बयान, वित्तमंत्री सीतारमण को बताया 'काली नागिन'◾राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा-सूर्य, चंद्रमा और सत्य ज्यादा देर छिप नहीं सकते◾रक्षा मंत्री राजनाथ के साथ अमित शाह ने सरदार पटेल कोविड-19 केयर सेंटर का किया दौरा ◾कानपुर घटनाक्रम के लिए ओवैसी ने CM योगी की 'ठोक देंगे' पॉलिसी को बताया जिम्मेदार◾देश में 24 घंटों के दौरान 25 हजार से अधिक कोरोना मामलों की पुष्टि,मरीजों की संख्या 6 लाख 73 हजार के पार ◾कानपुर : 8 पुलिसकर्मियों को जान से मारने वाले आरोपी विकास दुबे का साथी दयाशंकर गिरफ्तार◾कोरोना रिकवरी रेट बढ़ने पर बोले CM केजरीवाल- 2 करोड़ लोगों की मेहनत रंग ला रही◾J&K : पुलवामा में आतंकियों ने CRPF के काफिले को IED ब्लास्ट के जरिये बनाया निशाना,एक जवान घायल◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 11 लाख के पार ◾दिल्ली में रातभर चली तेज हवाओं और बारिश ने दिलाई गर्मी से राहत, मौसम हुआ सुहाना ◾ पूर्वी लद्दाख गतिरोध : चीन से लगी सीमा पर प्रमुख केंद्रों पर तैनाती बढ़ा रही है वायु सेना ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली की दमघोंटू हवा ने बच्चों और बुजुर्गों की बढ़ाई मुसीबत, एम्स में बढ़े सांस के रोगी

दिवाली के बाद पिछले पांच दिनों में दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में तेजी से आई गिरावट से राष्ट्रीय राजधानी में न केवल मरीजों की मुसीबत बढ़ी है बल्कि बच्चों और बुजुर्गों के लिये भी खतरे में इजाफा हुआ है। दमघोंटू हवा का सीधा असर स्वास्थ्य सेवाओं पर भी पड़ा है और दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में सांस और दिल के मरीजों की संख्या में 15 से 20 प्रतिशत का इजाफा दर्ज किया गया है। 

एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने शनिवार को बताया कि हर साल की तरह इस साल भी दीवाली के बाद वायु प्रदूषण के कारण श्वसन और हृदय रोग विभाग की ओपीडी (वाह्य रोगी विभाग) एवं आपातकालीन सेवा में मरीजों की संख्या पिछले पांच दिनों में 20 प्रतिशत तक बढ़ गयी है। 

उन्होंने बताया, "पिछले चार पांच सालों में दिल्ली में वायु प्रदूषण का संकट गहराने के बाद एम्स प्रशासन इस बात को लगातार महसूस कर रहा है कि वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) जब जब खतरनाक स्तर पर पहुंचता है, उसके चार पांच दिनों के भीतर अस्थमा, सांस और दिल के मरीजों की संख्या में 15 से 20 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हो जाती है।"

डा. गुलेरिया ने बताया इस साल 27 अक्टूबर के बाद एक्यूआई में उछाल के साथ ही पिछले पांच दिनों में इन विभागों की ओपीडी और आपातकालीन सेवाओं में प्रतिदिन आने वाले मरीजों की संख्या में कुछ दिन 25 प्रतिशत तक इजाफा हुआ। अस्थमा के अलावा सांस संबंधी अन्य रोगों के पीड़ितों को वेंटिलेटर और नेबुलाइजर का सहारा देना पड़ रहा है। 

उन्होंने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद, एम्स और कुछ विदेशी संस्थाओं की मदद से किये गये अध्ययनों के हवाले से बताया कि हवा में घुले दूषित पार्टिकुलेट (अति सूक्ष्म कण) सीधे तौर पर मानव स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते हैं। इनकी वजह से खतरनाक स्तर पर पहुंचे वायु प्रदूषण की चपेट में रहने वाले स्वस्थ्य लोगों के लिये भी सांस और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। 

दिल्ली प्रदूषण पर बोले प्रकाश जावड़ेकर- राजनीति न करें केजरीवाल

वायु प्रदूषण के कारण सेहत के लिहाज से घोषित की गयी आपात स्थिति में बचाव के उपाय के बारे में गुलेरिया ने बच्चों को खुले में खेलने, बुजुर्गों को चहलकदमी से बचने और यहां तक कि खिलाड़ियों को मैदान में खेलने से बचने की हिदायद दी है। उल्लेखनीय है कि रविवार को दिल्ली में टी20 क्रिकेट श्रृंखला के तहत भारत और बांग्लादेश के बीच मैच है। 

मास्क या एयर प्यूरीफायर को इस समस्या से बचाव का बेहतर विकल्प मानने से इंकार करते हुये डा. गुलेरिया ने कहा, "समस्या के ये कोई स्थायी और कारगर समाधान नहीं है। हकीकत यह है कि एन95 मास्क संक्रमण से बचाता है, वायु प्रदूषण से नहीं।" 

उन्होंने कहा कि वैसे भी दूषित हवा से बचने के लिये इस मास्क का इस्तेमाल लाभप्रद नहीं है क्योंकि इसमें हवा के प्रवेश का कोई विकल्प नहीं होने के कारण इसे आधा घंटे से ज्यादा लगाने पर सांस की कमी के कारण घुटन महसूस होने लगती है।