BREAKING NEWS

IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾

राजधानी दिल्ली में 2019 में सड़क हादसों में 14 फीसदी की कमी आई: NCRB

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 2019 में सड़क हादसों में 14 फीसदी की कमी आई है और 2018 की तुलना में बीते साल सड़क दुर्घटनाओं में 226 कम लोगों की मृत्यु हुई है।

आंकड़े दर्शाते हैं कि राष्ट्रीय राजधानी में पिछले साल 5,601 सड़क हादसे हुए जिनमें 1,508 लोग मारे गये और 4,949 अन्य घायल हो गये। जबकि 2018 में 6,517 सड़क दुर्घटनाओं में 1,734 लोगों की मृत्यु हो गयी वहीं 5,640 अन्य घायल हो गये। एनसीआरबी के 2017 के आंकड़े बताते हैं कि उस साल इन मामलों की संख्या और भी अधिक थी, जब 6,672 दुर्घटनाओं में 1,638 लोगों की जान चली गयी और 6,086 लोग घायल हो गये।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत काम करने वाले एनसीआरबी ने दुर्घटनाओं में मृत लोगों का लिंगवार भी अध्ययन किया है जिसके तहत हादसों में जान गंवाने वालों में महिलाओं से अधिक पुरुष थे और घायलों में भी पुरुष अधिक रहे। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि एनसीआरबी की 2019 की रिपोर्ट दिखाती है कि अधिकतर राज्यों में सड़क हादसों में कमी आई है और इस सुधार के पीछे मुख्य वजह नया मोटर वाहन कानून है।

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘देश में यातायात से जुड़े कुल हादसों में 92.2 फीसद घटनाएं सड़क हादसों की होती हैं जिनमें देशभर में कमी आई है। इसके पीछे मोटर वाहन अधिनियम जैसे कानूनों के बेहतर क्रियान्वयन को श्रेय दिया जा सकता है।’’