BREAKING NEWS

आगामी दिल्ली विधानसभा चुनावों को एक और 'स्वतंत्रता संग्राम' मानें : केजरीवाल ◾अयोध्या मामला : मध्यस्थता समिति ने न्यायालय में सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंपी ◾राहुल गांधी ने कहा- भूख सूचकांक में भारत का लुढ़कना मोदी सरकार की घोर विफलता◾श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम से जानी जाएगी जम्मू-कश्मीर की चेनानी-नासरी सुरंग : नितिन गडकरी ◾वोट की खातिर लोकलुभावन वादों से बचें राजनीतिक दल : वेंकैया नायडू ◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- 5 साल में घुसपैठियों को देश से बाहर करेंगे◾देवेन्द्र और नरेन्द्र महाराष्ट्र में विकास के दोहरा इंजन हैं : PM मोदी◾TOP 20 NEWS 16 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या विवाद मामले पर सुनवाई पूरी, SC ने फैसला रखा सुरक्षित ◾PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-परिवार भक्ति में ही राष्ट्र भक्ति आती है नजर ◾अर्थव्यवस्था को लेकर प्रियंका का केंद्र पर तंज, कहा-विश्व बैंक के बाद IMF ने भी दिखाया सरकार को आईना◾साक्षी महाराज बोले- 6 दिसंबर से शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण◾महाराष्ट्र रैली में PM मोदी ने कहा-राष्ट्र निर्माण का आधार हैं सावरकर के संस्कार◾कपिल सिब्बल का PM पर तंज, बोले- मोदी जी, राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए◾आईएनएक्स मीडिया मामला: तिहाड़ जेल में पूछताछ के बाद ED ने पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार◾अयोध्या विवाद : CJI गोगोई ने मामले की सुनवाई को आज शाम 5 बजे पूरी करने का दिया निर्देश◾होमगार्ड मामले में मायावती का यूपी सरकार पर वार, बेरोजगारी बढ़ाने का लगाया आरोप◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए 3 आतंकवादी◾होमगार्ड मामले पर प्रियंका का सवाल- योगी सरकार पर कौन सा फितूर है सवार ◾आईएनएक्स मीडिया: चिदंबरम से पूछताछ करने तिहाड़ पहुंची ED टीम, कार्ति और नलिनी भी मौजूद◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

फीस बकाया होने पर टीसी नहीं रोक सकते स्कूल : दिल्ली हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने फैसला सुनाया है कि फीस बकाया होने की स्थिति में स्कूल किसी छात्र के स्थानांतरण प्रमाण पत्र (टीसी) को नहीं रोक सकते हैं। न्यायाधीश डी. एन. पटेल की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने एक पत्र का संज्ञान लेते हुए यह आदेश पारित किया। पत्र में कार्तिक और प्रियांश के मामले का उल्लेख था। 

दरअसल, राष्ट्रीय राजधानी में उनके वर्तमान स्कूल ने करीब एक लाख रुपये की फीस बकाया होने के कारण स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करने से मना कर दिया था जिस वजह से वे दूसरे स्कूल में प्रवेश नहीं ले पा रहे थे। पत्र को जनहित याचिका में परिवर्तित करने के पश्चात न्यायालय ने गुरुवार को निजी स्कूल को एक सप्ताह के अंदर नौ वर्षीय कार्तिक (कक्षा तीन) और पांच वर्षीय प्रियांश (प्री-प्राइमरी) के माता-पिता को स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करने का निर्देश दिया है। 

न्यायालय के सहयोग के लिए न्यायालय मित्र के रूप में नियुक्त अधिवक्ता अशोक अग्रवाल ने तर्क दिया कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम, 1973 के नियम 167 के तहत, एक स्कूल फीस के बकाया होने पर अपने रजिस्टर से छात्र का नाम हटा सकता है, लेकिन इसे मुद्दा बनाकर वह छात्र के स्थानांतरण प्रमाण पत्र को नहीं रोक सकता। 

बहस खत्म होने के बाद कोर्ट ने कहा कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम के तहत, एक निजी स्कूल के पास बकाया फीस का भुगतान न करने पर छात्र का टीसी रोकने कोई अधिकार नहीं है।