BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली में फिलहाल नहीं खोले जाएंगे स्कूल : मनीष सिसोदिया

कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति का सामना कर रही राजधानी दिल्ली में फिलहाल स्कूल नहीं खोले जाएंगे। दिल्ली सरकार के मुताबिक छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए स्कूल नहीं खोले जाने का निर्णय लिया गया है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर चल रही है। सरकार का कहना है कि ऐसे में स्कूल खोलकर छात्रों को संकट में नहीं डाला जा सकता। 

मंगलवार को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, अभी आने वाले दिनों में भी दिल्ली के स्कूल नहीं खुलने जा रहे हैं। दिल्ली में फिलहाल स्कूल नहीं खुलेंगे। दिल्ली में इस वक्त कोरोना की तीसरी लहर चल रही है और यह सबसे खतरनाक है। इस दौरान कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या ज्यादा है।

पिछले कई दिनों से दिल्ली में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़ रही है। इस दौरान कोरोना से प्रतिदिन होने वाली मौत के आंकड़ों में भी वृद्धि हुई है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सिसोदिया ने कहा, मौजूदा वक्त में कोई भी माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल भेजने का खतरा मोल नहीं लेगा। ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने कहा, हमने शिक्षा मंत्रालय एवं प्रधानमंत्री के समक्ष मुख्य रूप से तीन विषय रखे हैं। इनमें सबसे महत्वपूर्ण विषय यह है कि जब तक कोरोना पर पूरी तरह से काबू नहीं पा लिया जाता, तब तक स्कूल नहीं खुलने चाहिए। 

दिल्ली में अभिभावक भी अपने बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में नहीं है। अखिल भारतीय अभिभावक संघ ने दिल्ली सरकार से मांग की है कि इस पूरे मौजूदा सत्र को ही जीरो अकादमिक ईयर घोषित किया जाए। दिल्ली के विभिन्न स्कूलों में पढ़ने वाले 2500 छात्रों के अभिभावक दिल्ली सरकार को ईमेल भेज कर स्कूल न खोलने की मांग कर चुके हैं। 

इन अभिभावकों का कहना है कि जब तक कोरोना की वैक्सीन न आ जाए तब तक या फिर कम से कम 10 दिन कोरोना के नए केस न आने की स्थिति में ही स्कूल खोले जाने चाहिए। उधर कोरोना की मौजूदा स्थिति को देखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार के अस्पतालों में 1000 आइसीयू बेड दिल्ली के मरीजों के लिए सुरक्षित करने की अपील की है। 

दिल्ली सरकार का दावा है कि कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बावजूद दिल्ली में मृत्यु दर को नियंत्रित किया जा रहा है। कोरोना वायरस से बड़े शहरों में प्रति दस लाख जनसंख्या पर हुई औसत मौतों के मामले में दिल्ली 15वें स्थान पर है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, कोरोना वायरस से होने वाली मौतों के मामले में अधिकांश मेट्रो शहरों में भी दिल्ली सबसे पीछे है। दिल्ली में प्रति दस लाख जनसंख्या पर औसतन मुंबई, चेन्नई, कोलकत्ता और अहमदाबाद से कम मौत हुई हैं।