BREAKING NEWS

नितिन गडकरी की अपील, कहा- सभी दलों को यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने के लिए सामूहिक प्रयास करना चाहिए◾Bharat Jodo Yatra: भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होगी सोनिया गांधी, सोमवार से राजस्थान में होगी शुरू◾Border dispute: एमएसआरटीसी ने कोल्हापुर और बेलगावी के बीच बहाल की बस सेवा, हालात सामान्य होने के आसार ◾UP News: धर्मांतरण के बाद युवती के निकाह मामले में 10 के खिलाफ FIR दर्ज, दो गिरफ्तार◾चक्रवाती तूफान मैंडूस का दिखने लगा असर, चेन्नई से 4 उड़ानें रद्द, सरकार ने कसी कमर ◾गुजरात विजय पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- कांग्रेस अपना वजूद ढूंढने को मजबूर◾भाजपा ने गुजरात में विधायक दल के नेता के चयन के लिए पर्यवेक्षक किया नियुक्त, जानें किसे मिली जिम्मेदारी ◾हिमाचल में कांग्रेस की जीत पर बोले अशोक गहलोत- चुनाव जीतने के लिए OPS ने निभाई अहम भूमिका ◾राजस्थान: सीएम गहलोत बोले- बजट में किसानों, पशुपालकों की खुशहाली का रखेंगे ध्यान ◾उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा- सांसद मुद्दों को उठाने से पहले निजी अध्ययनों व आंकड़ों का विश्लेषण करें ◾Delhi News: कांग्रेस को झटका, दो नव-निर्वाचित पार्षद ‘आप’ में हुए शामिल◾CM योगी का ऐलान, कानपुर के पास जल्द होगा अपना हवाई अड्डा ◾शीतकालीन सत्र में पेश हुआ 'यूनिफॉर्म सिविल कोड बिल', पक्ष में पड़े 63 वोट, विपक्ष ने किया जमकर हंगामा◾Noida: नोएडा में दरिंदगी, 14 वर्ष की लड़की के साथ दुष्कर्म, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें मामला ◾केसीआर की पार्टी का आधिकारिक नाम हुआ बीआरएस, EC ने दी स्वीकृति ◾उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त, बरेली में पेड़ से लटका मिला पांचवीं के छात्र का शव, जांच में जुटी पुलिस ◾गुजरात चुनाव के नतीजों पर कांग्रेस ने दी प्रतिक्रिया, कहा- अब कठोर निर्णय लेने का वक्त◾Indonesia: इंडोनेशिया में कोयले की खदान में भारी विस्फोट, 9 की मौत, अन्य कई घायल ◾दलाई लामा का संदेश, कहा- हथियारों पर बहुत खर्च कर रहे लोग, यह पूरी तरह से गलत ◾मेयर पर आदेश गुप्ता ने तोड़ी चुप्पी- 'AAP' का ही होगा सब कुछ... विपक्ष में अहम भूमिका निभाएगी BJP ◾

कोरोना उपचार के लिए श्रमिकों को 10000 रुपये की सहायता की सीमा तय करना न्यायसंगत नहीं : दिल्ली HC

दिल्ली हाई कोर्ट ने बुधवार को दिल्ली सरकार से कहा कि वह कोविड-19 उपचार के लिए श्रमिकों और उनके आश्रितों को दी जानी वाली वित्तीय सहायता पर 10 हजार रुपये की सीमा तय करने को न्यायसंगत नहीं ठहरा सकते क्योंकि परिवार के एक से ज्यादा सदस्य के संक्रमित होने पर यह राशि पर्याप्त नहीं होगी।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति रेखा पल्ली की पीठ ने कहा कि कोविड-19 बेहद संक्रामक बीमारी है और परिवार में एक व्यक्ति संक्रमित होता है तो अन्य भी संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं, ऐसे में प्रत्येक मरीज को दवाओं की आवश्यकता होगी।

दिल्ली सरकार के भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड की ओर से पेश वकील उरवी मोहन को अदालत ने उसके द्वारा वित्तीय सहायता की राशि के संबंध में जतायी गई चिंता के बारे में निर्देश लेने को भी कहा।

मोहन ने अदालत को बताया कि बोर्ड ने उसके पास पंजीकृत श्रमिक तथा उस पर आश्रित किसी व्यक्ति के संक्रमित होने की सूरत में उपचार के वास्ते 5,000 रुपये की वित्तीय सहायता देने का आदेश जारी किया है जोकि अधिकतम 10,000 रुपये तक हो सकती है। इसके बाद अदालत ने मोहन को यह निर्देश दिए।