BREAKING NEWS

हाई कमान से मुलाकात के बाद बोले पायलट: पद की कोई लालसा नहीं, समस्या का जल्द समाधान जल्द हो◾वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सफलतापूर्वक हुई मस्तिष्क की सर्जरी हुई ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,181 नये मामले सामने आये ,293 और लोगों की मौत◾केरल : बारिश थमने से कुछ राहत, इडुक्की में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 49 हुई◾पायलट मामले के समाधान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 707 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 1.46 लाख के पार◾संजय राउत के बयान को लेकर मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे सुशांत सिंह राजपूत के परिजन ◾लीग चेयरमैन बृजेश पटेल ने दी जानकारी - यूएई में आईपीएल के लिये सरकार से मंजूरी मिली◾शाह फैसल ने जेकेपीएम के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, प्रशासनिक सेवा में लौटने की अटकलें जारी◾सुशांत सिंह राजपूत केस में SC पहुंची रिया चक्रवर्ती, कहा - मीडिया साबित करना चाहता है 'मैं दोषी हूं'◾विधानसभा सत्र से पहले पायलट ने राहुल और प्रियंका से की मुलाकात, घर वापसी की अटकलें तेज◾कोविड-19 : देश में रिकवरी दर 69 फीसदी के पार, मृत्यु दर घटकर दो प्रतिशत के करीब ◾पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी ◾इस स्वतंत्रता दिवस पर वाजपेयी का रिकॉर्ड तोड़ेंगे PM मोदी, 7वीं बार लाल किले से फहराएंगे तिरंगा◾आप्टिकल फाइबर परियोजना के उद्घाटन पर बोले पीएम मोदी- यह प्रोजेक्ट अंडमान-निकोबार को दुनिया से जोड़ेगा ◾मणिपुर में आज बीरेन सिंह सरकार का बहुमत परीक्षण, कांग्रेस-BJP ने विधायकों को जारी किया व्हिप◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में एक हजार से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 22 लाख के पार ◾देश में संसाधनों की लूट को रोकने के लिए EIA 2020 का मसौदा वापस ले सरकार : राहुल गांधी◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 97 लाख के पार, 7 लाख 29 हजार की मौत ◾जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के हमले में घायल भाजपा नेता ने इलाज के दौरान तोड़ा दम◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सीवर सफाई कर्मियों को मुफ्त सेफ्टी किट दे रही है दिल्ली सरकार : केजरीवाल

नई दिल्ली : सीवर सफाई से जुड़े कर्मचारियों को काम करने के बेहतर तरीके सिखाने और उन्हें अपने अधिकारों के प्रति जागरुक के लिए दिल्ली जलबोर्ड द्वारा सोमवार को तालकटोरा इंडोर स्टेडियम में सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया। इस दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं जलबोर्ड के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने सीवर कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार सीवर की सफाई में लगे सभी कर्मचारियों को मुफ्त में सेफ्टी किट मुफ्त में दे रही है।

प्राइवेट ठेकेदार की ओर से कोई सुरक्षा के इंतजाम ना भी हो, तो सभी सफाई कर्मचारियों के पास सभी पुख्ता इंतजाम होना चाहिए ताकि किसी भी प्रकार के हादसे को टाला जा सके। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने सफाई कर्मचारियों को एक शपथ भी दिलवाई कि कोई भी सफाई कर्मचारी बिना पुख्ता सुरक्षा इंतजाम के सीवर में नहीं उतरेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी कोशिश है कि दिल्ली का विकास सबको साथ लेकर हो। दिल्ली में होने वाले विकास का लाभ अमीर और गरीब सभी को हो। किसी भी पक्ष का शोषण करके विकास न हो। 

उन्होंने कहा कि आज भी जब सीवर की सफाई करते हुए किसी कर्मचारी की मौत हो जाती है तो बड़ा दुख होता है। इस व्यवस्था को हमें मिलकर बदलना होगा। सीएम ने कहा कि इस ट्रेनिंग प्रोग्राम का मकसद यही है कि किसी भी कर्मचारी की सीवर में मौत ना हो। कर्मचारी चाहे दिल्ली जलबोर्ड का हो या प्राइवेट ठेकेदार का, जब भी वह सीवर में सफाई के लिए उतरे तो उसके पास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने चाहिए। कई बार देखा जाता है मात्र दो मिनट का काम समझकर कर्मचारी बिना सुरक्षा के सीवर में उतर जाते हैं। लेकिन अब आप आगे से बिना सेफ्टी उपकरणों के सीवर में सफाई के लिए नहीं उतरेंगे।

‘केजरीवाल सफाई कर्मचारियों को दे रहे हैं धोखा’

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सीवर सुरक्षा जागरूकता पर दिल्ली सरकार द्वारा आयोजित कार्यशाला को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि साढ़े चार साल बीत गए केजरीवाल ने सफाई कर्मचारियों की सुध नहीं ली, जबकि सीवर साफ करते हुए दिल्ली में हर माह सफाई कर्मचारियों की दर्दनाक मौत हो रही है। सरकार इतनी संवेदनहीन हो चुकी है कि सफाई कर्मचारियों को सुरक्षा के पर्याप्त न तो उपकरण दिये जाते हैं और न ही सुरक्षा के पूरे इंतजाम किये जाते हैं।

‘सरकार का राजनीतिक स्टंट’

नेता विपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने सोमवार को कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा सीवर सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला जैसे कार्यक्रम आयोजित कर सरकार राजनीतिक स्टंटबाजी कर रही है। दिल्ली जल बोर्ड सीवर कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर अपने दायित्व से बच रहा है। मैला ढोने या हाथ से सफाई करने के काम की रोकथाम और इन लोगों के पुनर्वास से जुड़े पीईएमएसआर एक्ट, 2013 के अंतर्गत सरकार कोई ठोस कार्यवाही नहीं कर रही है।

डेढ़ साल में घर-घर तक पहुंचेगा पीने का पानी 

सीएम ने कहा कि आज से साढ़े चार साल पहले जब हमने दिल्ली की जिम्मेदारी संभाली थी, उस समय तक दिल्ली मात्र 58 प्रतिशत कालोनियों तक ही पीने के पानी की पाइप लाइन पहुंची थी और मात्र साढ़े चार साल में हमने 35 प्रतिशत और कालोनियों में पानी की पाइप लाइन पहुंचाकर उसको 93 प्रतिशत तक पहुंचा दिया। 

दिल्ली की उन कालोनियां को छोड़कर, जहां वन विभाग का इलाका होने की वजह से या किसी अन्य कानूनी पेच होने की वजह से दिक्कत है, बाकी पूरी दिल्ली में आने वाले एक डेढ़ साल में घर-घर तक पाइपलाइन के जरिए पीने का पानी पहुंचाने की व्यवस्था कर दी जाएगी।