BREAKING NEWS

NCP नेता माजिद मेमन का ट्वीट, सुशांत अपने जीवनकाल में उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मरने के बाद◾बेंगलुरु हिंसा के दौरान मुस्लिम युवाओं ने पेश की एकता की मिसाल, मानव श्रृंखला बनाकर उपद्रवियों से बचाया मंदिर◾सुशांत सिंह केस : माफी की मांग पर बोले राउत-मैंने जो कहा जानकारी के आधार पर कहा◾GDP को लेकर राहुल का केंद्र सरकार पर तंज- ‘मोदी है तो मुमकिन है’◾बेंगलुरु हिंसा : शहर में धारा 144 लागू, 110 लोग गिरफ्तार, CM येदियुरप्पा ने की शांति की अपील◾हम अपने सभी मतभेदों को दूर करके राज्य की सेवा के संकल्प को पूरा करेंगे : CM गहलोत◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 60 हजार से अधिक नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 23 लाख के पार◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ 20 लाख के पार, अमेरिका में 51 लाख से अधिक मामले ◾US चुनाव में हुई भारत की एंट्री, भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को चुना गया VP कैंडिडेट◾J&K में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षाबलों ने एक आंतकवादी को मार गिराया, एक जवान भी हुआ शहीद ◾बेंगलुरु में कांग्रेसी विधायक के घर पर हमला, 2 की मौत, 60 पुलिसकर्मी घायल ◾ बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त फेफड़ों के कैंसर का इलाज के लिए जा सकते है अमेरिका ◾राजस्थान: कांग्रेस विधायक दल की बैठक, पायलट की वापसी पर गहलोत खेमे के कई विधायक खफा◾उत्तर प्रदेश : CM योगी ने प्रधानमंत्री से HFNC उपकरणों की खरीद में मदद करने का किया अनुरोध◾पर्यावरण सरंक्षण कानून के खिलाफ और भारत के भविष्य से समझौता है EIA का मसौदा : कांग्रेस◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.47 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,257 नए केस ◾उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, बीते 24 घंटे में कोरोना के 5,130 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1.31 लाख के पार◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- कोरोना के रोजाना बढ़ते मामलों से राज्यों को अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए◾उर्दू के मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती◾पुतिन का दावा-रूस ने बना ली कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन, बेटी को लगाया गया टीका◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

शालीमार बाग : महिलाओं का हुआ पोस्टमार्टम

पश्चिमी दिल्ली : शालीमार बाग इलाके में बीते शनिवार शाम को चार मंजिला इमारत में लगी आग में तीन महिलाओं की मौत हो गई थी। पुलिस ने रविवार को मृतक महिलाओं का पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। घटना में दो बच्चों समेत चार की हालत खराब हो गई थी। 

दूसरी तरफ डॉक्टरों ने अस्पताल में चारों की हालत स्थिर बताई है। पुलिस ने हादसे के बाद बिल्डिंग को देखा और परिजनों से घटना के बारे में पूछताछ की। पुलिस को स्थानीय लोगों ने बताया कि इलाके में पिछले कुछ समय से बिजली की वोल्टज दो- तीन बार हाई और लो हुई थी। शनिवार शाम तीन से छह बजे के बीच में दो से तीन बार ऐसा हुआ था। 

नवनीत जैन के पहली मंजिल पर स्थित घर में बालकॉनी की तरफ दो एयर कंडीशनर लगे हुए हैं। जबकि उनमें से सटा कर गैस पाइप लाइन लगी है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शुरुआती जांच में गैस लीकेज की संभावना नहीं है। हो सकता है कि बिजली के तेज और कम होने पर कहीं पर शॉर्ट सर्किट हुआ था। आग किसी कमरे में सबसे पहले लगी थी। सौ गज के तीन कमरों वाले इस मकान में आग लगने से एसी, फ्रिज और टीवी पूरी तरह से जलकर खाक हो गए थे। 

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि आग कितनी भीषण लगी थी। जबकि एक अन्य कमरे में रखे कपड़ों में ज्यादा आग नहीं लगी थी। जिनको रविवार सुबह परिजनों ने कई चादरों में बांधकर नीचे उतारा था। पुलिस का कहना है कि मकान में जिस तरह से आग लगी। शुरुआती जांच में आग एक कमरे में ज्यादा आग नहीं फैली थी। जबकि दो में काफी भीषण आग थी। जिससे कमरे में रखा काफी सामान बच गया है। 

पहली मंजिल पर रहने वाले नवनीत जैन ने बताया कि वह पिछले साढ़े तीन साल से अपनी पत्नी मीनाक्षी जैन के साथ रहते हैं। उनके दो बेटे वैभव रोहिणी में  हैं, जबकि विशेष शालीमार बाग में अपनी पत्नी व बच्चों के साथ रहते हैं। शनिवार सुबह वह टैंक रोड अपनी कपड़े की दुकान पर गए थे। जबकि शाम करीब तीन बजे मीनाक्षी शालीमार बाग स्थित एक मंदिर में सत्संग में गई थी। शाम करीब पौने छह बजे जब वह वापस घर आया। 

घर की बालकनी से धुआं निकल रहा था। शुरू में उनको लगा कि मीनाक्षी अंदर फंस गई है। उसने तुरंत आसपास के लोगों की मदद से पत्थर फैंककर शीशा तोड़ा था। जिसके बाद अंदर पानी डालना शुरू किया। उसने मीनाक्षी को फोन किया तो उसने बताया कि वह सतसंग में है। वह तुरंत घर पहुंची। लेकिन तक आग ने पूरी इमारत को घेर लिया था।

पुलिस और दमकल ने लोगों को बचाया

बिल्डिंग की छत से पुलिस और दमकलकर्मी छत पर जाने वाली सीढ़ी में  अंदर से ताला लगा हुआ था। जिसको तोड़ा गया। सीढी पर सोमवती और किरण अधमरी हालत में पड़ी थी। उनको अस्पताल में पहुंचाया गया। दमकलकर्मियों ने बताया कि आग की चपेट में आए सभी लोग अलग-अलग मंजिल के कमरों में पड़े मिले थे।

इंस्पेक्टर ने बच्चों से की थी बातें

तीसरी मंजिल पर लाजवंती रहती है। उसके साथी उसकी बेटी ऐना और उसके दो बच्चों अंक्षित और वंशिका के साथ रहती है। इंस्पेक्टर ललित उनकी बिल्डिंग के सामने अपने परिवार के साथ ही रहते हैं। जब आग लगी, चारों के चिल्लाने की आवाज सुनकर उन्होंने बच्चों को फोन किया था।

कांता से बहन मिलने आई थी

दूसरी मंजिल पर रहने वाली कांता के पति का काफी समय पहले देहांत हो गया है। शनिवार को उसकी बहन अपने बेटे को लेकर मिलने के लिए आई थी। जब आग लगी। कांता अंदर के कमरे में रह गई थी। जबकि उसकी बहन और बेटा किसी तरह से बराबर की बिल्डिंग पर आ गए थे।

आपातकालीन दरवाजा नहीं था... लोगों ने बताया कि मकान को बने करीब चार साल हुए हैं। शालीमार बाग में बनी किसी भी इमारत में आपातकालीन दरवाजा नहीं हैं। यहां पर ग्राउंड फ्लोर पर एक दरवाजा है। जिसपर हमेशा ताला लगा रहता है। शुक्र है कि आग नीचे की तरफ नहीं आई। जहां पर बिजली के मीटर भी लगे थे। बिल्डर, एमसीडी अधिकारियों की मिलीभगत से इमारत बनाकर हादसों का कारण बनते हैं।