BREAKING NEWS

भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾UP में मुआवजे के लिए किसानों का प्रदर्शन हुआ उग्र ◾भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾अयोध्या फैसले पर बोले यशवंत सिन्हा, कहा- इस फैसले में कुछ खामियां हैं, लेकिन हमें आगे बढ़ने की जरूरत◾UEA के नागरिकों को अब भारत आने पर सीधे मिलेगा वीजा◾महाराष्ट्र सरकार गठन : सोमवार को पवार सोनिया गांधी से करेंगे मुलाकात ◾विपक्ष ने संसद में अपनी संख्या बढ़ाई ◾बाल ठाकरे की पुण्यतिथि पर तेज हुई राजनीति◾PM मोदी ने राजपक्षे को भारत आने का दिया निमंत्रण◾प्रदूषण के मुद्दे पर केंद्र सोमवार को उत्तरी राज्यों के अधिकारियों के साथ करेगा उच्च स्तरीय बैठक ◾कर्नाटक उपचुनावों में उम्मीदवारों को भविष्य के मंत्री के तौर पर पेश कर रही है भाजपा ◾किसानो पर पुलिस बर्बरता शर्मनाक : प्रियंका◾नागरिकता विधेयक से लेकर आर्थिक सुस्ती पर विपक्ष के विरोध से शीतकालीन सत्र के गर्माने की संभावना ◾TOP 20 NEWS 17 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मंत्री स्वाती सिंह के कथित आडियो पर प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरा ◾अयोध्या मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड◾उपभोक्ता खर्च के आंकड़े छिपाने के आरोपों में चिदंबरम का केंद्र सरकार पर निशाना◾प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वास्तविक मुद्दों पर फोकस करने का दिया निर्देश ◾सर्वदलीय बैठक में बोले PM मोदी- सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए हैं तैयार ◾गोताबेया राजपक्षे ने जीता श्रीलंका के राष्ट्रपति का चुनाव, PM मोदी ने दी बधाई◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

शीला बीमार, दिल्ली कांग्रेस वेंटीलेटर पर!

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस में इस समय अनिश्चिता का माहौल बना हुआ है। एक तरफ कहा जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित की तबीयत खराब होने के कारण अस्पताल में भर्ती हैं, तो दूसरी तरफ प्रदेश के कई वरिष्ठ नेताओं के भाजपा में शामिल होेने की चर्चा आम हो चली है। यही नहीं प्रदेश में गुटबाजी भी चरम पर है। एक तरफ प्रदेश प्रभारी पीसी चाको हैं तो दूसरी तरफ शीला दीक्षित। दोनों गुट एक-दूसरे की खिलाफत करते आसानी से देखे जा सकते हैं। पार्टी के भीतर अनिश्चिता कुछ इसलिए भी है कि राहुल गांधी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है, नए अध्यक्ष का चयन नहीं हो पा रहा है। 

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की निगाहें उधर भी लगी हैं। शीला एंड कंपनी ने ब्लॉक समी​तियां भंग कर दी हैं, लेकिन नई ब्लॉक समितियां नहीं बनी। दूसरे जिला समितियों को भी भंग करने की तैयारी थी, लेकिन जबतक राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित नहीं हो जाते, तब तक कुछ होने वाला नहीं। बताया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित पिछले एक हफ्ते से बीमार चल रही हैं और एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं। जब शीला दीक्षित को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था तभी दिल्ली में पहली बार अध्यक्ष के साथ-साथ तीन कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाए गए थे, लेकिन ​शीला के बीमार होते ही तीन कार्यकारी अध्यक्षों में से दो कार्यकारी अध्यक्ष भी गायब हो गए हैं। 

राजेश लिलोठिया जरूर प्रदेश कार्यालय में दिख जाते हैं, बाकी हारुन युसूफ व देवेन्द्र यादव दिखाई नहीं देते हैं। वैसे उनके शुभचिंतक यह कह कर जरूर उन्हें बचाते रहते हैं कि यहां आकर क्या करेंगे, फील्ड में रहते हैं। यानी कुल मिलाकर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस शीला के बीमार होते ही वेंटीलेटर पर पहुंच गई है। इन्हें ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। विधानसभा चुनाव सिर पर हैं, लेकिन कांग्रेस की तैयारियां जमीन पर बिखरी पड़ी हैं। प्रदेश कार्यालय में न तो बैठकें हो रही हैं न ही ब्लॉक अध्यक्षों को घोषित करने की प्रक्रिया ही आगे बढ़ रही है। शीला के न होने से प्रदेश कांग्रेस ठप हो गई है। तीनों ही कार्यकारी अध्यक्षों में सामंजस्य नहीं है। 

जब ब्लॉक समितियों को भंग किया गया था तब भी कार्यकारी अध्यक्ष हारुन युसूफ ने बयान दिया था कि उन्हें मालूम ही नहीं की ब्लॉक समितियां भंग कर दी गई हैं। ऐसे में नई समितियां बन नहीं रही, पुराने वाले ब्लॉक अध्यक्ष काम नहीं कर रहे हैं। जिलाध्यक्षों में बैचेनी है कि उनका क्या होगा? ब्लॉक अध्यक्षों के चयन के लिए विधानसभा स्तर पर ऑबजर्बर नियुक्ति किए जाने थे, लेकिन अध्यक्ष के न होने से वह भी लटक गया है। अब जब तक ऑबजर्बर नहीं घोषित होंगे, तब तक ब्लॉक अध्यक्ष नहीं बनेंगे। लेकिन उससे पहले शीला दीक्षित को दफ्तर आना ज्यादा जरूरी है, लेकिन उनकी तबीयत खराब है। फिलहाल कांग्रेस में सब भगवान भरोसे चल रहा है।