BREAKING NEWS

दिल्ली में अमित शाह की रैली में सीएए-विरोधी नारा लगाने पर छात्र की पिटाई ◾हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार को, सात नये मंत्री हो सकते हैं शामिल ◾मुझे पेशेवर सेवाओं के लिए पीएफआई की तरफ से भुगतान किया गया था: कपिल सिब्बल ◾कोरेगांव-भीमा मामला : भाकपा ने कहा- NIR को सौंपना पूर्व भाजपाई सरकार के झूठ पर “पर्दा डालने की कोशिश’◾कोई शक्ति कश्मीरी पंडितों को लौटने से नहीं रोक सकती : राजनाथ सिंह ◾उत्तरप्रदेश : प्रदर्शनकारियों पर ‘अत्याचार’ के खिलाफ मानवाधिकार पहुंचे राहुल और प्रियंका ◾‘कर चोरी’ मामले में कार्ति चिदंबरम के खिलाफ मद्रास उच्च न्यायालय ने कार्यवाही पर अंतरिम रोक बढ़ाई ◾ताजमहल एक खूबसूरत तोहफा है, इसे सहेजने की हम सबकी है जिम्मेदारी : बोलसोनारो◾जम्मू : डोगरा फ्रंट ने शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों के खिलाफ निकाली रैली◾मुख्यमंत्री से रिश्ते सुधारने की कोशिश करते दिखे राज्यपाल धनखड़, लेकिन कुछ नहीं बोलीं ममता बनर्जी ◾रामविलास पासवान ने अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर दी बधाई, बोले- उन्होंने अपनी प्रतिभा से भारत की प्रतिष्ठा एवं सम्मान बढ़ाया है◾वैश्विक आलू सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे PM मोदी ◾TOP 20 NEWS 27 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾पश्चिम बंगाल विधानसभा में CAA विरोधी प्रस्ताव पारित, ममता बनर्जी ने केंद्र के खिलाफ लड़ने का किया आह्वान◾अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में यात्री विमान हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 110 लोग थे सवार◾उत्तर प्रदेश में हुए सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान PFI से जुड़े 73 खातों में जमा हुए 120 करोड़ रुपए◾भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की मंशा रखने वालों को मिल रही है शाहीन बाग प्रदर्शन की आड़ : रविशंकर प्रसाद◾सुप्रीम कोर्ट का NPR की प्रक्रिया पर रोक लगाने से इनकार, केंद्र को जारी किया नोटिस◾केजरीवाल बताएं, भारत को तोड़ने की चाह रखने वालों का समर्थन क्यों कर रहे : जेपी नड्डा◾शरजील इमाम के बाद एक और विवादित वीडियो आया सामने, संबित पात्रा ने ट्वीट कर कही ये बात◾

दिल्ली कांग्रेस में गुटबाजी खत्म करने में असफल प्रदेश अध्यक्ष

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (डीपीसीसी) के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा से दिल्ली कांग्रेस को जो उम्मीदें थीं, वह पूरी नहीं हो पाईं। दिल्ली में सुभाष चोपड़ा गुटबाजी को रोकने में असफल रहे हैं। पहले तो दो ही गुट थे लेकिन अब तीन-तीन गुट हो गए हैं। सभी की अपनी अपनी ढपली, अपना-अपना राग है। यानि कि सभी अलग-अलग और अपनी-अपनी राजनीति कर रहे हैं। 

पूर्व मुख्यमंत्री ​शीला दीक्षित के निधन के बाद तीन महीने तक प्रदेश अध्यक्ष को लेकर खूब राजनीति हुई। प्रदेश अध्यक्ष के लिए दर्जनभर नेताओं के बीच सुभाष चोपड़ा को चुना गया। उम्मीद की गई थी सुभाष चोपड़ा ही ऐसे नेता हैं जो पूर्व में अध्यक्ष भी रह चुके हैं और दिल्ली में सभी कांग्रेसियों से वाकिफ हैं, वो गुटबाजी को खत्म कर हाशिए पर जा चुकी कांग्रेस को जमीन पर ले आएंगे, लेकिन दो महीने के करीब बीत चुके हैं, गुटबाजी बरकरार है। 

इसके दूसरी तरफ सुभाष चोपड़ा ने केन्द्र की भाजपा के खिलाफ जन आक्रोश रैली का ऐलान किया है, जिसके तहत हर जिले में प्रदर्शन किए जा रहे हैं। लेकिन इस प्रदर्शन में जिस तरह का रुझान नेताओं को बीच देखने को मिल रहा है, उससे साफ है कि वे कांग्रेस के भीतर की राजनीति खत्म करने में वह असफल रहे हैं। सुभाष चोपड़ा गुट के कांग्रेसियों का कहना है कि लम्बे समय के बाद प्रदर्शन में इतने लोग इकट्ठा हो रहे हैं। 

लेकिन साथ ही यह भी स्वीकारते हैं कि यह सब आने वाले विधानसभा चुनाव के कारण है। जो नेता अपने समर्थकों के साथ पहुंच रहे हैं सब टिकट की चाह रखने वाले हैं। बहरहाल, इन प्रदर्शनों बैठकों से प्रदेश अध्यक्ष पीसी चाको पूरी तरह से गायब हैं। सूत्रों का कहना है कि प्रदेश प्रभारी की पहले शीला दीक्षित से नहीं बनी, अब सुभाष चोपड़ा ने भी चाको को अपने से दूर ही रखा। 

कहा जा रहा है कि पीसी चाको को न तो बैठकों में बुलाया जाता है न ही धरने-प्रदर्शन में। जबकि इससे पहले लोकसभा चुनावों के दौरान पीसी चाको दिल्ली की राजनीति में पूरी तरह से सक्रिय थे। लेकिन जब से सुभाष चोपड़ा अध्यक्ष बने उन्हें तवज्जो देना बंद कर दिया गया। सूत्रों का कहना है कि शीला दीक्षित के कार्यकाल में ​जिन अजय माकन और चाको का गुट सक्रिय था, वह अभी भी पार्टी कार्यालय नहीं पहुंचते हैं। 

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन कांग्रेस के किसी भी कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। लेकिन कई मुद्दों पर अपना वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करते हैं। दूसरी तरफ जिस समय सुभाष चोपड़ा को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था, उसी दौरान कीर्ति आजाद को कैंपेन कमेटी का चेयरमैन बनाया गया था। माना जा रहा था कि कांग्रेस इससे पूर्वांचलियों को साधेगी, लेकिन अब कीर्ति आजाद को भी ज्यादा तवज्जो नहीं ​दी जा रही है। 

सूत्र बताते हैं कि यही वजह है कि सुभाष चोपड़ा से नाराज कांग्रेस कीर्ति आजाद के खेमे में शामिल हो गए हैं। यही नहीं मीडिया को भी पार्टी से अलग अपनी बयानबाजी कर रहे हैं। पिछले कुछ प्रदर्शनों से कीर्ति आजाद जरूर दिखाई दे रहे हैं, लेकिन उपस्थित सिर्फ दिखावा मात्र है, मंच पर उनको बहुत तवज्जो नहीं दी जा रही है।