राजधानी में दिन-प्रतिदिन खराब होती हवा की गुणवत्ता को लेकर पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने शुक्रवार को एक बैठक बुलाई, जिसमें पर्यावरण विभाग के सभी अधिकारी मौजूद रहे। इस मौके पर हुसैन ने विभागीय अधिकारियों से हवा की गुणवत्ता सुधारने के लिए हर मुमकिन कदम उठाए जाने पर चर्चा के साथ इसके लिए तैयार रहने के लिए कहा।

दिवाली के बाद हवा की गुणवत्ता और अधिक खराब होने पर भी हुसैन ने चिंता जताई। इस बैठक में अधिकारियों ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी दिल्ली में पटाखे जलाए गए, जिसके चलते प्रदूषण का स्तर और बढ़ा है। वहीं अगर प्रदूषण लगातार इसी तरह बढ़ता रहा तो राजधानी में आपातकालीन उपायों पर काम करना होगा।

आपातकालीन उपायों को ग्रेडियड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (जीआरपी) के तहत निर्धारित अनुसार लागू किया जाएगा। जीआरएपी के तहत शहर की वायु गुणवत्ता के आधार पर कड़े कदम लागू किए जाते हैं। भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है और ऑड-ईवन लागू किया जा सकता है।

21 सिगरेट पीने के बराबर राजधानी में प्रदूषण