राष्ट्रीय राजधानी में एनडीएमसी द्वारा संचालित स्कूल में दूसरी कक्षा की एक छात्रा के साथ कथित बलात्कार की घटना के बाद स्कूल के प्रतिनिधियों ने दावा किया कि उन्होंने अवांछित लोगों को परिसर में घुसने से रोकने के लिए पर्याप्त सुरक्षा उपाय किए थे। लेकिन दावे के उलट आज भी कई लोग बिना किसी रोकटोक के परिसर में घुसते दिखे।

प्रतिनिधियों ने यह भी दावा किया कि आरोपी जो पेशे से इलेक्ट्रीशियन है, स्कूल का कर्मचारी नहीं है। हालांकि पुलिस उपायुक्त (नयी दिल्ली) मधुर वर्मा ने कहा कि आरोपी पिछले डेढ़ महीने से गोल मार्केट इलाके में स्थित स्कूल में काम कर रहा था।

ठप्प हुआ एनडीएमसी का सोलर प्रोजेक्ट

पुलिस ने कहा कि उसने बुधवार को संस्थान के परिसर में कथित रूप से कक्षा दो की बच्ची के साथ बलात्कार किया। स्कूल प्राचार्य एक हफ्ते से ज्यादा समय से छुट्टी पर हैं।

दूसरे छात्रों के परिवारवालों के आज परिसर के बाहर विरोध प्रदर्शन करने के बाद स्कूल के अधिकारियों ने स्कूल परिसर में बच्चों की सुरक्षा से जुड़ी चिंताएं दूर करने की कोशिश की।

अधिकारियों का कहना है कि स्कूल परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं तथा और भी कैमरे लगाए जा रहे हैं। लेकिन पुलिस ने कहा कि अपराध स्थल पर सीसीटीवी कैमरे नहीं थे।

नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के प्रमुख नरेश कुमार से फोन कॉल और मैसेज के जरिये संपर्क करने की कोशिश की गयी लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।