BREAKING NEWS

पंजाब : मंत्रिमंडल विस्तार से पहले कांग्रेस नेताओं ने नवजोत सिंह सिद्धू को लिखा पत्र, जानिए क्या है मामला ◾भारत ने रिकॉर्ड लक्ष्य का पीछा करते हुए आस्ट्रेलिया को 2 विकेट से दी मात, कंगारू टीम के 26 मैचों के अजेय अभियान को रोका◾बिना थके डटे रहे PM मोदी, अमेरिका के 65 घंटे के दौरे पर की 20 बैठकें◾योगी मंत्रिमंडल का विस्तार आज, जितिन प्रसाद समेत ये 7 नए मंत्री लेंगे शपथ◾डल लेक पर वायुसेना के विमानों ने किया शक्ति प्रदर्शन, 'अपने सपनों को पंख दो' विषय के साथ युवाओं को किया प्रेरित ◾US से वतन लौटे PM, पार्टी ने किया भव्य स्वागत, नड्डा बोले- मोदी ने दुनिया में भारत का डंका बजाया....◾'मन की बात' में बोले PM मोदी- डिजिटल लेनदेन से देश की अर्थव्यवस्था में आ रही स्वच्छता और पारदर्शिता◾सीएम चन्नी आज करेंगे मंत्रिमंडल का विस्तार, शामिल होंगे 15 नए मंत्री ◾ मायावती ने किसानों के ‘भारत बंद’ का किया समर्थन, केंद्र सरकार से की कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग ◾देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 28326 नए मामलों की पुष्टि, 260 और लोगों की मौत◾UNGA में PM मोदी के भाषण से जयशंकर ने बताईं 12 बड़ी नीतिगत बातें, भारत को बताया 'लोकतंत्र की जननी'◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 23.14 करोड़ से ज्यादा हुए, अब तक 47.4 लाख से अधिक लोगों की हुई मौत ◾जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा में आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर चलाई गोलियां, दो आतंकवादी ढेर◾तालिबान शासन अपने वादों को पूरा करे और विशेष रूप से एक वास्तविक प्रतिनिधि सरकार बनाये : रूस◾आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटों से आज टकराएगा चक्रवात ‘गुलाब’, तूफान की तीव्रता बढ़ी, ऑरेंज अलर्ट जारी ◾PM मोदी अपने साथ अमेरिका से लेकर आएंगे 157 प्राचीन कलाकृतियां व वस्तुएं◾यूएनएससी में स्थायी सीट भारत की शीर्ष प्राथमिकता : विदेश सचिव श्रृंगला◾भारत ने पहला डीएनए टीका विकसित किया, 12 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को दिया जा सकता है : PM मोदी◾PM मोदी अमेरिका की ‘ऐतिहासिक यात्रा’ के बाद भारत रवाना◾भाजपा-कांग्रेस समर्थकों मे मारपीट : सांसद ने लगाया मारपीट का आरोप, कांग्रेस नेताओं पर मामला दर्ज◾

ओडिशा के छात्रों ने त्रिपुरा में यातना दिए जाने का लगाया आरोप

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में स्थित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान में पढ़ रहे ओडिशा के कई छात्रों ने आरोप लगाया कि स्थानीय छात्रों ने उन्हें मारा पीटा और जान से मारने की धमकी भी दी। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब ने संस्थान में बी.एड की पढ़ाई कर रहे उड़िया छात्रों को गुरूवार को पूर्ण सुरक्षा देने का आश्वासन दिया। संस्थान एक मानद विश्वविद्यालय है।

डरे-घबराए उड़िया छात्र और शिक्षकों ने अपने दोस्तों एवं परिवारों को भेजे एक वीडियो संदेश में आरोप लगाए हैं कि संस्कृत संस्थान के कुछ छात्रों ने सितंबर के दूसरे हफ्ते में गणेश पूजा समारोह के दौरान कोई विवाद होने के बाद हड़ताल में हिस्सा ना लेने के लिए उन पर हमला किया।

एक उड़िया छात्रा ने दावा किया कि कुछ स्थानीय छात्रों ने उसे पीटा। उसने कहा, ‘‘उन्होंने हमसे तत्काल संस्थान छोड़ने के लिए कहा और ऐसा ना करने पर जान से मारने की धमकी दी।’’

ओडिशा : दुर्घटना में एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत

छात्रा ने कहा, ‘‘हमने प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान में दाखिला लिया। लेकिन स्थानीय छात्र और लोग हमें परेशान कर रहे हैं।’’ कुछ छात्रों ने कहा, ‘‘हम ओडिशा सरकार से हमारे बचाव के लिए आगे आने का अनुरोध करते हैं क्योंकि हमारी जान खतरे में है।’’

ओड़िशा पुलिस के महानिदेशक आर पी शर्मा ने ट्विटर पर लिखा कि उन्होंने राज्य के छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए त्रिपुरा के अपने समकक्ष अखिल कुमार शुक्ला से बातचीत की जिसके बाद स्थानीय पुलिस अधीक्षक ने संस्थान का दौरा किया और सुरक्षा एवं मदद का आश्वासन दिया।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैंने स्थिति पर करीब से नजर बनाए रखी है और वहां के डीजीपी के संपर्क में हूं।’’ त्रिपुरा के पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘‘संबंधित अधिकारी मामले पर ध्यान दे रहे हैं। उचित कार्रवाई की जा रही है।’’

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘ओडिशा के छात्र भी त्रिपुरा के ही बच्चे हैं। मां त्रिपुरसुंदरी की धरती पर किसी भी को असामाजिक गतिविधि की मंजूरी नहीं दी जाएगी। मैं पूरे भारत के छात्रों के त्रिपुरा में सुरक्षा का पूर्ण आश्वासन देता हूं।’’

इससे पहले ओड़िशा के उच्च शिक्षा सचिव बी पी सेठी ने कहा, ‘‘ओड़िशा के डीजीपी ने छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए त्रिपुरा के अपने समकक्ष से बात की। श्री जगन्नाथ संस्कृत विश्वविद्यालय, पुरी के कुलपति प्रो. राधा माधव दास और उच्च शिक्षा विभाग के निदेशक परमेश्वरन बी समस्या के हल के लिए अगरतला जा रहे हैं।’’

छात्रों ने दावा किया कि 20 सितंबर को कुलपति को घटना की जानकारी दी गयी थी लेकिन अधिकारियों ने फिर भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की। छात्रों ने यह भी कहा कि उन्होंने त्रिपुरा में पुलिस के सामने शिकायत दर्ज नहीं करायी है।