नई दिल्ली : मेट्रो में सफर करना कॉलेज छात्रों को उस वक्त महंगा पड़ गया। जब वह 20 मिनट की देरी के कारण परीक्षा नहीं दे पाए। यदि मेट्रो समय पर चलती तो छात्रों को परीक्षा में पहुंचने में देरी नहीं होती। लेकिन दिल्ली की लाइफ लाइन बन चुकी मेट्रो अब दिल्लीवालों को रूला रही है।

ब्लू लाइन पर बुधवार की तरह गुरुवार को भी सेवा बाधित रही। मेट्रो स्टेशन पर लोगों की भारी भीड़ इस इंतजार में थी कि कब मेट्रो आएगी और वह यहां से निकलेंगे। मेट्रो में आई खराबी की वजह से महाराजा सूरजमल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के कई छात्र भारतीय विद्यापीठ में सेमेस्टर एग्जाम नहीं दे पाए, मेट्रो की वजह से 20 मिनट देरी से पहुंचने पर 10 से अधिक बच्चों को कॉलेज प्रशासन ने गेट पर ही रोक दिया।

क्या कहा छात्रों ने
कॉलेज गेट से बाहर हुए 10 से अधिक छात्रों का कहना था कि मेट्रो के लेट होने के कारण वह परीक्षा हॉल में समय पर नहीं पहुंच पाए। हालांकि छात्रों ने यूनिवर्सिटी के कुलपति से बात बताई और रिक्वेस्ट की लेकिन उन्होंने एक न सुनी और कॉलेज से बाहर कर दिया गया। छात्रों ने यूनिवर्सिटी के कुलपति से इसी सत्र में एग्जाम करने की अपील की है ताकि उनका भविष्य सुरक्षित रह सके। इसके बाद परेशान छात्रों ने अपने कॉलेज के डायरेक्टर और चेयरमैन को घटनाक्रम से अवगत कराया और इसी एग्जाम के साथ छूटे पेपर को कराने की अपील की।

छात्रों को मिला भरोसा
इस संबंध में एमएसआईटी के चेयरमैन एसपी सिंह ने आईपी यूनिवर्सिटी के कुलपति से बात कर समस्या के समाधान का भरोसा दिया है। कॉलेज के डायरेक्टर केपी चौधरी का इस मामले में कहना था कि उन्होंने कल और आज मेट्रो में दिक्कत की वजह से छात्रों को 15-20 मिनट लेट आने पर यूनिवर्सिटी से परमिशन लेकर एग्जाम में बैठने दिया। ऐसे में छात्रों की समस्या को धयान रखना चाहिए।