आम आदमी पार्टी ने नोटबंदी की दूसरी बरसी को आजादी के बाद के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला बताया। संवाददाताओं को संबोधित करते हुए गुरुवार को दक्षिणी दिल्ली से लोकसभा प्रभारी राघव चड्ढा ने कहा कि इस बात को सिद्ध करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी पर भाषण देते हुए कहा था कि इससे करीब 3 से 5 लाख करोड़ का कालाधन देश की अर्थव्यवस्था में घूम रहा है, जो पकड़ा जाएगा।

लेकिन कुछ माह पहले आई आरबीआई की एक रिपोर्ट से यह पता लगा कि कुल मुद्रा 15 लाख 44 हजार करोड़ में से 15 लाख 31 हजार करोड़ देश के बैंकों में वापस आ गया। वहीं बाकी बचा 13 हजार करोड़ रुपए वे हैं जो देश की मुद्रा के रूप में नेपाल या भूटान जैसे देशों में पड़ी है। रिपोर्ट में ये भी साफ बताया गया कि बाकि बची हुई मुद्रा देश के बाहर रहने वाले एनआरआई के घर की तिजोरी में बंद हैं।

चड्ढा ने कहा कि नोटबंदी की वजह से हमारे देश की जीडीपी में डेढ़ प्रतिशत की गिरावट आई। देश में छोटा व्यापार लगभग खत्म ही हो गया। वहीं 115 से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी, जबकि 35 लाख लोगों को नौकरी गंवानी पड़ी। उन्होंने कहा कि वर्क फोर्स का आंकड़ा 1.5 करोड़ से गिरकर नीचे आ गया। किसानों की रोजी-रोटी पर लाले पड़ गए।

पीएम के सभी दावे हुए फेल
राघव चड्ढा ने कहा कि नोटबंदी के समय प्रधानमंत्री मोदी ने बड़े-बड़े दावे किये थे, लेकिन वो सभी दावे फेल साबित हुए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा था कि नोटबंदी के सफल प्रयोग से देश में जो काला धन है वो पकड़ा जाएगा। आतंकवादियों की कमर टूट जाएगी और आतंकवाद खत्म हो जाएगा। राघव चड्ढा ने कहा कि एक रुपए का भी काला धन नहीं पकड़ा गया।

अभी तक नोटबंदी का कारण एक रहस्य : केजरीवाल